Submit your post

Follow Us

जब ऋषि कपूर ने मुस्कुराकर जर्नलिस्ट से कहा, 'मेरी बीवी की दोस्त है तो अब मेरी भी दोस्त बनती है!'

भावना सोमाया चार दशकों से फिल्म जर्नलिस्ट हैं. 16 किताबें लिख चुकी हैं. 2017 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया. अब भी फिल्म समीक्षाएं वगैरह करती हैं. वे एक्ट्रेस नीतू सिंह की पुरानी दोस्त रही हैं. ऋषि कपूर के जाने के बाद भावना ने इंस्टाग्राम पर कुछ पुरानी तस्वीरें और यादें साझा की हैं. उन्होंने बताया है:

“जब मैं एक जर्नलिस्ट बनी, फ़िल्मी दुनिया से नीतू सिंह मेरी पहली दोस्त बनी थीं. 1970 के दशक में मेरे करियर की शुरुआत हुई थी. पहली मुलाक़ात पर ही हमारे बीच मेलजोल हो गया. और हम इतने दशकों तक दोस्त रही हैं. मैं कई बार उनके बांद्रा वाले घर पर और उनके सेट्स पर भी जाती थी. मैं उनके परिवार और स्टाफ से परिचित थी. जब भी हम मिलते थे, हमारे पास बातें करने को बहुत कुछ होता था. उसमें एक टॉपिक होता था उनके बॉयफ्रेंड ऋषि कपूर.” 


View this post on Instagram

#http://bhawanasomaaya.com/rishi-kapoor-70s-80s-day-1798/ When I became a journalist Neetu Singh was the first film friend I made way back in the 70s. We clicked in the very first meeting and have remained friends over the decades. I would often visit her home in Bandra and on her sets, where ever she was shooting. I was familiar with her family and her staff and whenever we met, we had a lot to talk about, which included her boyfriend at that time, Rishi Kapoor. I wasn’t particularly fond of Kapoor in the good old days. He was a big bully and intimidating everybody without provocation. I often complained about him to Neetu and she always maintained that his arrogance was a façade. She was madly in love with him and whenever she traveled outdoors, she asked me to keep an eye on her boyfriend. Not that I did but that was her way of warning her beloved that he was being watched in her absence. This irritated him naturally and he looked for opportunities to fight with me. In 1980 when Neetu and he got married however, Rishi Kapoor suddenly dropped all hostility towards me. He was concerned why I was no more coming home to meet his wife and family and now when he bumped into me suddenly at a shooting, he made it a point to smile and say, ‘meri bibi ki dost hai toh ab meri bhi dost banti hai..’ To be continued… @bhawanasomaaya #neetukapoor #riddhimakapoorsahni #ranbirkapoor #aliaabhatt #rimajain #dabookapoor #kareenakapoor #karismakapoor #sanjna.junoon #rishikapoor #bollywood #kssanjay #pammibakshi #sunitakapoor

A post shared by Bhawana Somaaya (@bhawanasomaaya) on

ऋषि के बारे में भावना आगे लिखती हैं: 

“वे धौंस जमाते थे. बिना किसी के कुछ कहे सब लोगों को डराते थे. मैं अक्सर नीतू से उनकी शिकायत करती थी. नीतू हमेशा कहतीं कि उनका यह घमंड केवल एक मुखौटा है. वे उनसे पागलों की तरह प्यार में थीं. जब भी कभी बाहर जाती थीं, मुझे अपने बॉयफ्रेंड पर नज़र रखने के लिए कहतीं. ऐसा नहीं कि मैंने ऐसा किया हो. लेकिन यह नीतू का तरीका था अपने प्रेमी को चेतावनी देने का, कि उनकी ग़ैर-हाज़िरी में भी नज़र रखी जा रही है. ज़ाहिर सी बात है कि वे इस बात से चिढ़ते थे, और मुझसे लड़ने का मौका ढूंढते रहते थे.”

भावना बताती हैं कि 1980 में ऋषि और नीतू की शादी हो गई. इसके बाद भावना के प्रति ऋषि का स्वभाव भी बदल गया. वे लिखती हैं: 

“ऋषि को इस बात की फ़िक्र हुई कि अब मैं उनकी पत्नी और परिवार से मिलने उनके घर क्यों नहीं आती हूं. एक दिन जब किसी शूटिंग पर हमारा मिलना हुआ, तो मुस्कुराकर बोले, ‘मेरी बीवी की दोस्त है, तो अब मेरी भी दोस्त बनती है.”

फिर एक दिन भावना उनके घर पार्टी में गईं. इससे जुड़ी हुई बातें और फोटो उन्होंने इंस्टा पोस्ट में शेयर की.

 

 

 

View this post on Instagram

 

Part 2 Rishi Kapoor/ 80s-90s Blog day 1799 In the 80s Neetu and Rishi had moved out of RK Bungalow in Chembur and were living independently in Pali Hill, Bandra but they were always there at RK Studio and home for a family occasion. The pictures below are at one such party held at #RK lawns post a private screening. Neetu was sporting a new haircut those days and the restless baby holding her hand is daughter Riddhima. There were a lot of guests that evening and Neetu had to attend to all of them, so when she got busy with others she put #RishiKapoor in charge of me. By this time we had dropped our guards but were still not comfortable in each other’s company and therefore when Neetu joined us after a few moments, both of us heaved a sigh of relief. To be continued… A post shared by Bhawana Somaaya (@bhawanasomaaya) on

भावना ने बताया कि 80 के दशक में नीतू और ऋषि चेंबूर स्थित राज कपूर के बंगले को छोड़ चुके थे. और बांद्रा के पाली हिल में अलग से रह रहे थे. किसी पारिवारिक मौके पर वे हमेशा आर.के.स्टूडियो और घर पर होते थे. आर.के.लॉन्स पर हुई ऐसी ही एक पार्टी की फोटो उन्होंने शेयर की हैं. यह पार्टी किसी फिल्म की प्राइवेट स्क्रीनिंग के बाद हुई थी. फोटो की तरफ इशारा करते हुए भावना बताती हैं:

“नीतू ने उन दिनों एक अलग हेयरकट करवा रखा था. जिस चंचल बच्चे ने उनका हाथ पकड़ रखा है, वह उनकी बेटी रिद्धिमा है. उस शाम बहुत से मेहमान आए हुए थे. नीतू को उन सभी को अटेंड करना था. इसलिए जब वे दूसरों के साथ व्यस्त हो गईं, उन्होंने मेरा जिम्मा ऋषि कपूर को दे दिया. उस समय हम एक दूसरे को लेकर मनमुटाव दूर कर चुके थे. लेकिन फिर भी एक दूसरे की कंपनी में सहज नहीं थे. इसलिए जब कुछ टाइम बाद नीतू वापस हमारे पास आईं, तब हम दोनों ने एक चैन की सांस ली.”


वीडियो देखें – ऋषि कपूर की देखभाल करने वाले डॉक्टर्स को नीतू कपूर ने कहा- थैंक्यू

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोरोनावायरस : आंकड़े की जांच हुई तो पश्चिम बंगाल का सच सामने आ गया!

पश्चिम बंगाल का कोरोना से जुड़ी मौतों का आंकड़ा छिपा रहा है?

दिल्ली में शराब पर सरकार की ‘स्पेशल फीस’

..ताकि ‘रहें सलामत पीने वाले’.

लद्दाख BJP अध्यक्ष ने छोड़ी पार्टी, कहा- लद्दाख के लोगों के बारे में न पार्टी सुन रही, न प्रशासन

चेरिंग दोरजे दो महीने पहले ही अध्यक्ष बनाए गए थे.

सूरत में प्रवासी मज़दूरों का सब्र फिर जवाब दे गया है

इस बार भी बीच में पुलिस ही पिस रही है.

यूपी : CM योगी के मृत पिता के बहाने लॉकडाउन में बद्रीनाथ-केदारनाथ जा रहे थे विधायक, पुलिस ने धर लिया

नौतनवा के विधायक अमनमणि त्रिपाठी का है मामला.

जानिए कौन हैं जम्मू कश्मीर के हंदवाड़ा में शहीद हुए पांच सुरक्षाकर्मी

सुरक्षाकर्मी आतंकियों के कब्जे से आम लोगों को निकालने के लिए गए थे.

दिल्ली में एक ही बिल्डिंग में मिले कोरोना के 58 पॉजिटिव मरीज

जिन्हें संक्रमण हुआ है वो लोग एक ही टॉयलेट इस्तेमाल करते थे.

कुलभूषण जाधव मामले में वकील हरीश साल्वे ने खोले पाकिस्तान के कई बड़े राज

भारतीय अधिवक्ता परिषद के ऑनलाइन लेक्चर में कई बातें बताईं.

लोकपाल मेंबर कोरोना पॉज़िटिव पाए गए थे, अब हार्ट अटैक से मौत हो गई

अप्रैल से एम्स में थे अजय कुमार त्रिपाठी.

लॉकडाउन: मां चूल्हे पर बर्तन में पत्थर पकाती जिससे बच्चों को लगे कि खाना बन रहा है

भूखे बच्चे इंतजार करते-करते सो जाते.