Submit your post

Follow Us

भ्रष्टाचार के मामले में दोषी करार सरकारी अधिकारी को मौत के 20 साल बाद मिला न्याय

भारत की पुलिस और न्यायिक व्यवस्था ऐसी है कि आमतौर पर लोग इनसे मदद लेने में परहेज करते हैं. बॉम्बे हाई कोर्ट से जुड़ा एक मामला इसका उदाहरण है. खबर के मुताबिक, यहां एक व्यक्ति को मौत के 20 सालों बाद न्याय मिला है. यह कहानी है सुरेश कागने की. वे एक सेल्स टैक्स अधिकारी थे. 25 साल पहले उन पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा था. केस को चलते हुए पांच साल हुए थे कि सुरेश कागने की मौत हो गई. उसके बाद अगले 20 सालों तक तारीखें पड़ती रहीं. अब जाकर सुरेश कागने को आरोपों से मुक्त किया गया है. उन्हें जीते जी न्याय नहीं मिला. दो दशक बाद बॉम्बे हाई कोर्ट ने सुरेश की विधवा पत्नी और उनके बेटे को राहत दी है. सुरेश कागने को निर्दोष करार देकर.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, जब सुरेश कागने पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे, उस समय वे बिक्री कर विभाग में अधिकारी के पद पर कार्यरत थे. 1985 में उन पर भ्रष्टाचार और हेराफेरी का आरोप लगा था. मामला सेल्स टैक्स की रीफंडिंग के झूठे दावे से जुड़ा था. कागने पर आरोप था कि उन्होंने तय मानकों व प्रक्रिया का पालन किए बिने उन क्लेम्स को स्वीकार कर लिया था. रिपोर्ट के मुताबिक, इससे सरकारी खजाने को 2.60 लाख रुपये का नुकसान होने की बात कही गई थी.

इन आरोपों को सही मानते हुए कोर्ट ने कागने को 18 महीने की जेल और 26 हजार रुपये का जुर्माना भरने की सजा सुनाई थी. सितंबर 1996 में सोलापुर की स्पेशल ट्रायल कोर्ट ने कागने के साथ दो अन्य अधिकारियों को भी दोषी माना था. बाद में इसके खिलाफ अपील की गई. इसी अपील को आधार बनाते हुए साल 2015 में कागने की पत्नी और बेटे ने केस लड़ने का फैसला किया.

दरअसल, 1996 में सोलापुर की स्पेशल ट्रायल कोर्ट ने एक तेल मिल मालिक के बेटे की गवाही के आधार पर ये सजा सुनाई थी. इस मामले में तेल मिल का मालिक और उसका बेटा भी आरोपी थे. अभियोजन पक्ष के 94 में से 92 गवाहों की गवाही के बाद तेल मिल मालिक और उसके बेटे को बरी कर दिया गया था. अब बॉम्बे हाई कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि उस समय मामले की लीपापोती की गई थी. केस की फिर से हुई सुनवाई में कोर्ट ने सबूतों और गवाहों के बयानों को भरोसेमंद नहीं माना. हालांकि इसमें बहुत ज्यादा देर हो चुकी थी.

इससे पहले साल 2013 में हाई कोर्ट ने कागने के साथ आरोपी बने दोनों अधिकारियों को बरी कर दिया था. इन दोनों ने अलग-अलग अपील दायर की थीं. तब कोर्ट ने कहा था, “सरकारी गवाह को भरोसे के काबिल होना चाहिए. ट्रायल का उद्देश्य सच की तलाश करना होता है और अभियोजन का केस इसी पर टिका होता है. इस मामले में अभियोजन पूरी तरह विफल रहा है.”


वीडियो- बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा- कपड़े के ऊपर से ब्रेस्ट को छूना POCSO के तहत यौन उत्पीड़न नहीं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बिहार : पुलिस अधिकारी ने कहा कि शराब की अवैध बिक्री हो रही, फिर अधिकारी के साथ ही खेल हो गया

बिहार : पुलिस अधिकारी ने कहा कि शराब की अवैध बिक्री हो रही, फिर अधिकारी के साथ ही खेल हो गया

लेटर गया ठंडे बस्ते में, फिर आया 'आलोचना रोकने' वाला फ़रमान

भारतीय अर्थव्यवस्था के अच्छे दिन क्या वापस आ गए हैं?

भारतीय अर्थव्यवस्था के अच्छे दिन क्या वापस आ गए हैं?

सेंसेक्स का पहली बार 50 हज़ार का आंकड़ा पार करना क्या बताता है?

जो कंपनी कोरोना की वैक्सीन बना रही, उसकी बिल्डिंग में आग लगी; 5 की मौत

जो कंपनी कोरोना की वैक्सीन बना रही, उसकी बिल्डिंग में आग लगी; 5 की मौत

आग बुझाने में फायर ब्रिगेड की 15 गाड़ियां लगीं. 4 लोग बचाए भी गए.

पहली बार सेंसेक्स हुआ 50 हजारी, जानिए इस बम-बम की वजह क्या है?

पहली बार सेंसेक्स हुआ 50 हजारी, जानिए इस बम-बम की वजह क्या है?

क्या अमेरिकी में बाइडेन का गद्दी संभालना भारत के लिए शुभ संकेत बन गया?

इलाहाबाद हाईकोर्ट का बड़ा फैसला- शादीशुदा होकर लिव-इन में रहना अपराध

इलाहाबाद हाईकोर्ट का बड़ा फैसला- शादीशुदा होकर लिव-इन में रहना अपराध

जानिए कोर्ट ने अपने फैसले में क्या कहा है.

टीम बाइडेन में 20 भारतवंशियों को मिलेगी जगह, शपथ ग्रहण के लिए वॉशिंगटन किले में तब्दील

टीम बाइडेन में 20 भारतवंशियों को मिलेगी जगह, शपथ ग्रहण के लिए वॉशिंगटन किले में तब्दील

जानिए किन 20 लोगों को मिल रहा है मौका.

सुशांत सिंह राजपूत केस में मीडिया कवरेज को लेकर बॉम्बे हाईकोर्ट ने तीखी बात कही है

सुशांत सिंह राजपूत केस में मीडिया कवरेज को लेकर बॉम्बे हाईकोर्ट ने तीखी बात कही है

दो चैनलों की कवरेज पर हाईकोर्ट ने नाराजगी जताई है.

सरकार के साथ बातचीत में शामिल इस यूनियन के नेता को NIA ने समन क्यों भेजा?

सरकार के साथ बातचीत में शामिल इस यूनियन के नेता को NIA ने समन क्यों भेजा?

NIA का समन मिलने के बाद क्या बोले बलदेव सिंह सिरसा.

कोविड-19 वैक्सीन लॉन्च करते हुए PM मोदी ने कही ये ज़रूरी बातें

कोविड-19 वैक्सीन लॉन्च करते हुए PM मोदी ने कही ये ज़रूरी बातें

आज से देशभर में वैक्सीनेशन शुरू.

BJP का तमिलनाडु प्लान क्या है?

BJP का तमिलनाडु प्लान क्या है?

क्यों BJP को अबकी तमिलनाडु में अपनी जगह बनती दिख रही है?