Submit your post

Follow Us

इलाहाबाद में पुलिस जिप्सी कब्जियाए भगवा धारियों की तस्वीर का सच

इलाहाबाद. अकबर इलाहाबादी और रणविजय सिंह की धरती. जहां संगम पर कुम्भ लगता है और वहीं की यूनिवर्सिटी में कब कट्टा चल जाए मालूम नहीं. इसी इलाहाबाद में नन्द गोपाल गुप्ता ‘नंदी’ नाम के एक विधायक हैं. पहले बसपा में थे. फिलहाल भाजपा में हैं. 2017 चुनावों में इलाहाबाद साउथ से जीते. चुनाव जीतने के बाद योगी आदित्यनाथ ने इन्हें सिविल एवियेशन मिनिस्ट्री सौंपी.

31 मार्च भाजपा विधायक के रूप में पहली बार नन्द गोपाल गुप्ता अपने क्षेत्र में वापस आए. उनके स्वागत में उनके समर्थक जमा हुए. समर्थकों की संख्या काफी ज़्यादा थी. लग रहा था कि कोई पॉपुलर नेता आ रहा है. खैर, उसी जमावड़े से कुछ तस्वीरें फेसबुक पर वायरल होने लगीं उन तस्वीरों में कई गैर-पुलिसिये लोगों को एक पुलिस की गाड़ी में चढ़े हुए देखा जा सकता था. जैसा कि सोशल मीडिया पर अक्सर होता है, इस तस्वीर का हर किसी का अपना अपना नैरेटिव था. पहले पहल तो ये कहा गया कि ये हिन्दू-गुट के सदस्य हैं जो ऐंटी रोमियो मुहिम के तहत लड़के-लड़कियों को परेशान करने जाते हैं. मगर अंत में बात इस बात पर सेटल हुई कि ये सभी भाजपा सपोर्टर हैं जो नन्द गोपाल के काफिले में आए हैं और ये पुलिस के वाहन पर चढ़ गए हैं. हर ओर ‘भाजपा के आते ही बढ़ी गुंडई’ जैसी बातें होने लगीं. तस्वीरें बढ़िया स्पीड से घूम रही थीं. गाड़ी में कोई भी पुलिसवाला नहीं दिखाई दे रहा था.

allahabad police vehicle

एक कोई हज़रत हैं महफूज़ आलम. इन्होंने  इलाहाबाद पुलिस को तस्वीरें टैग कीं और उनसे पूछा कि ये इलाहाबाद पुलिस की गाड़ी में आखिर क्या चल रहा है. इलाहाबाद पुलिस के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से जो जवाब दिया गया वो जितना मज़ेदार है उतना ही चौंकाने वाला भी. पुलिस ने बताया कि गाड़ी असल में पुलिस की है ही नहीं. उस गाड़ी को ग्रीनलैंड मोटर से खरीदा गया है और वो एक निजी वाहन है. इलाहाबाद पुलिस ने ये भी बताया कि वो गाड़ी ‘नंदी जी’ के काफिले में चलती है, और इसमें उनके सुरक्षाकर्मी चलते हैं.

महफूज़ का ट्वीट
महफूज़ का ट्वीट
Allahabad police reply
इलाहबाद पुलिस का जवाब

ये जवाब अपने आप में कमाल का है. मतलब पुलिस को मालूम था कि ऐसी कोई गाड़ी नंदी के काफ़िले में चलती है. और उसमें उनके सुरक्षाकर्मी चलते हैं? क्यूंकि उन तस्वीरों में जो नम्बर दिख रहा है उस नम्बर के आधार पर आरटीओ से जानकारी निकालने के बाद गाड़ी के मालिक और शोरूम का ही पता चल सकता है. ये पता लगा पाना कि वो ‘नंदी जी’ के काफ़िले में चलती है और उसमें उनके सुरक्षाकर्मी चलते हैं, ये थोड़ा मुश्किल है. इसके लिए रहा यही होगा कि पुलिस को पहले से इस बात की जानकारी रही होगी. और अगर जानकारी रही थी फिर भी इस गाड़ी के रंग-रूप के बारे में पुलिस ने कोई भी सवाल नहीं उठाया तो ये बड़ी ही खतरनाक बात है.

इसके साथ ही जब महफूज़ ने इलहाबाद पुलिस से दोबारा ये पूछा कि उस गाड़ी पर पुलिस लिखना सही है या ग़लत तो आगे कोई भी जवाब नहीं आया. ट्वीट रात 11:20 का था. इसलिए माना जाने लगा कि इलाहाबाद पुलिस का एक दिन के इन्टरनेट डेटा का कोटा खतम हो गया होगा इसलिए वो ट्वीट नहीं कर पा रहे होंगे. मगर सवाल पूछे हुए कुछ डेढ़ दिन होने को आये हैं और जवाब नहीं मिला है.

हां, यूपी पुलिस ने ज़रूर उस ट्वीट पर कुछ लिखने की कोशिश की लेकिन ऐसा लग रहा था जैसे बीच ही में उनसे गलती से ‘reply’ पर टैप हो गया और आधा जवाब ही आ पाया. पूरा जवाब किसके पास है, मालूम नहीं. सोशल मीडिया पर थू-थू और तू-तू का दौर जारी है.

UP Police tweet


ये भी पढ़ें:

ये 9 बातें साबित करती हैं कि शिवाजी राज्य चाहते थे ‘हिंदू राज्य’ नहीं!

कौन है वो सपा का सबसे ‘क़ाबिल’ प्रवक्ता, जिसे भाजपा ने तोड़ लिया है

पाकिस्तान की ‘गोरमिंट आंटी’ मिल गईं हैं!

बीजेपी के नेता ने कहा, ‘वोट दो, बढ़िया बीफ खिलाऊंगा’

ये कौन शरीफ कांग्रेस नेता हैं जो मोहन भागवत को राष्ट्रपति बनवाने की ज़िद पर अड़े हैं

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

राजीव गांधी के हत्यारे को सुप्रीम कोर्ट ने रिहा किया, जानिए किस कानून का इस्तेमाल हुआ?

राजीव गांधी के हत्यारे को सुप्रीम कोर्ट ने रिहा किया, जानिए किस कानून का इस्तेमाल हुआ?

वो पेरारिवलन, जिसने राजीव गांधी की हत्या में इस्तेमाल जैकेट के लिए बैटरी सप्लाई की थी

सुप्रीम कोर्ट में बाबरी मस्जिद वाले जज सुनेंगे ज्ञानवापी मस्जिद वाला केस!

सुप्रीम कोर्ट में बाबरी मस्जिद वाले जज सुनेंगे ज्ञानवापी मस्जिद वाला केस!

मामला सुप्रीम कोर्ट क्यों गया?

LIC-IPO की लिस्टिंग पर लगी 42,500 करोड़ की चपत, अब क्या करें ?

LIC-IPO की लिस्टिंग पर लगी 42,500 करोड़ की चपत, अब क्या करें ?

ऑफर प्राइस से 8% नीचे लिस्ट हुआ देश का सबसे बड़ा IPO

मुंडका अग्निकांड: मृतकों का आंकड़ा 26 तक पहुंचा, बचाव के लिए NDRF को बुलाया गया

मुंडका अग्निकांड: मृतकों का आंकड़ा 26 तक पहुंचा, बचाव के लिए NDRF को बुलाया गया

इस घटना ने दिल्ली के लोगों को हिलाकर रख दिया है.

छत्तीसगढ़ के रायपुर एयरपोर्ट पर सरकारी हेलीकॉप्टर क्रैश, दो पायलटों की मौत

छत्तीसगढ़ के रायपुर एयरपोर्ट पर सरकारी हेलीकॉप्टर क्रैश, दो पायलटों की मौत

क्रैश का कारण अभी साफ नहीं हो सका है.

जम्मू-कश्मीर में एक और कश्मीरी पंडित की हत्या, आतंकियों ने सरकारी दफ्तर में घुसकर गोली मारी

जम्मू-कश्मीर में एक और कश्मीरी पंडित की हत्या, आतंकियों ने सरकारी दफ्तर में घुसकर गोली मारी

मृतक राहुल भट्ट राजस्व विभाग में कार्यरत थे.

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

30% इनकम टैक्स के बाद अब 28% जीएसटी लगाने की तैयारी

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग में पीएम मोदी ने नाम ले-लेकर सुनाया.

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

जानकारों ने जहांगीरपुरी में निकले जुलूस पर सवाल उठाए हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

मौजूदा आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे के रिटायर्ड होने पर पदभार संभालेंगे.