Submit your post

Follow Us

टप्पल कांड: भीड़ ने मुस्लिम परिवार पर हमला किया, साथ की हिंदू महिला ने बचा लिया

5
शेयर्स

पहले के जमाने में हैजा-प्लेग फैलता था. गांव के गांव साफ हो जाते थे. मगर उसमें भी कोई-कोई बच निकलता था. अलीगढ़ की ये ख़बर ऐसी ही एक महामारी से बचकर निकलने वाली महिला की है. जिसने एक मुस्लिम परिवार को भीड़ के हाथों पीटकर मार दिए जाने से बचाया. धर्म पूछिए, तो वो खुद हिंदू है.

क्या हुआ?
ये घटना है 9 जून की. अलीगढ़ से 40 किलोमीटर दूर एक जगह है- जट्टारी. हरियाणा के वल्लभगढ़ का एक मुस्लिम परिवार गाड़ी में बैठकर यहां एक सगाई में जा रहा था. अंदर परिवार की बुर्कानशीं औरतें भी बैठी थीं. बाहर से कोई भी देखता और छांटने की कोशिश करता, तो उसे मालूम चल जाता कि गाड़ी में मुस्लिम बैठे हैं. गाड़ी में इस परिवार के साथ उनकी एक परिचित हिंदू लड़की भी थी. नाम, पूजा चौहान. उम्र 24 साल. पूजा और इस परिवार की आपस में दोस्ती है. रास्ते में कुछ लोग बाइक पर बैठकर आए. उनके निशाने पर थी ये वैन. उन्होंने लोहे की सरिया से वैन पर हमला किया. ड्राइवर को चोट आई. उसके हाथ जख्मी हो गए. फिर हमलावरों ने गाड़ी की चाभी निकाल ली. गाड़ी में बैठे मुहम्मद अब्बासी ने उस घटना के बारे में बात करते हुए मीडिया को बताया-

पूजा मेरी बच्ची जैसी है. वो नहीं होती हमारे साथ गाड़ी में, तो उन लोगों ने हमें मार डाला होता. जब उन लोगों ने हमला किया, तो पूजा वैन से बाहर चली गई. वो हमारे और उन हमलावरों के बीच में खड़ी हो गई. हमलावरों ने गले में केसरिया गमछा डाला हुआ था. पूजा पूरी हिम्मत और मजबूती के साथ उनके सामने खड़ी हो गई.

Pooja - 1

अब्बासी के मुताबिक, पूजा ने उन हमालवरों से कहा-

तुम लोग अपना गुस्सा बेगुनाहों पर क्यों निकाल रहे हो? हम सब उस ढाई साल की बच्ची के साथ हुई दरिंदगी से बराबर दुखी हैं. सदमे में हैं.

हमलावरों में से एक को पूजा की बात सुनकर कुछ समझदारी आई
सिविल लाइन्स पुलिस थाने में लिखवाई गई FIR के मुताबिक, पूजा की बातें सुनकर हमलावरों में से एक थोड़ा नरम हुआ. उसने हमें हमारे कार की चाभी लौटाई और धीरे से कहा- फौरन यहां से भाग जाओ. अब्बासी और उनका परिवार सदमे में है. उनके सामने पूजा की भी मिसाल है. और हमलावरों की भी. धर्म तलाशें, तो दोनों हिंदू. लेकिन बिल्कुल अलग. अब्बासी परिवार को कौन सी मिसाल याद रखनी चाहिए? मारने वाले या बचाने वाली?

मुस्लिम परिवार के साथ मौजूद पूजा चौहान ने उन्हें बचाया
मुस्लिम परिवार के साथ मौजूद पूजा चौहान ने उन्हें बचाया

 

अलीगढ़ में दंगे जैसे हालात की खबरें आ रही हैं
अलीगढ़ और इसके आस-पास के इलाकों में काफी तनाव है. दंगे जैसी स्थिति की खबरें आ रही हैं. 2 जून को यहां एक कूड़े के ढेर में एक दो साल की बच्ची मरी मिली. उसके साथ हुई नृशंसता का आरोप जिन दो लोगों पर है, वो मुस्लिम हैं. इस वजह से मामला हिंदू बनाम मुसलमान बना दिया गया. कुछ लोगों ने दो अपराधियों के किए पर पूरे मुस्लिम समाज को दोषी मान लिया. सारे मुस्लिम घृणित अपराधी हो गए. ऐसे माहौल में नफ़रत हावी हो जाती है कई बार. लोग बंट जाते हैं. ऐसे में भी पूजा नहीं बंटी. सही और ग़लत की समझ साफ रही उसके अंदर. ये तसल्ली की बात है. लेकिन अगर पूजा उस परिवार के साथ गाड़ी में नहीं होती, तो? तब शायद हम अलग ही ख़बर बता रहे होते.

क्या हिंदू हिंदुओं के साथ, मुस्लिम मुस्लिमों के साथ क्राइम नहीं करते?
अपराध क्या हिंदू नहीं करते हिंदुओं के साथ? मुसलमान अपराधी क्या मुसलमानों को बख़्श देते हैं? फिर किसी एक अपराध में, किसी एक केस में, फिर चाहे वो कितना भी जघन्य क्यों न हो, अपराध करने वाले और अपराध का शिकार हुए इंसान का मजहब क्यों उभारा जाता है? वो भी तब, जब दोनों के धर्म अलग हों?


अलीगढ़ में 2.5 साल की बच्ची के हत्यारों को कड़ी से कड़ी सज़ा देने की मांग हो रही है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Aligarh: Hindu woman saves Muslim family from violent mob

टॉप खबर

पांच साल की बच्ची से रेप किया और फिर ईंटों से कूंचकर मार डाला

उज्जैन में अलीगढ़ जैसा कांड, पड़ोसी ही निकला हत्यारा...

अफगानिस्तान किन गलतियों से श्रीलंका से जीता-जिताया मैच हार गया?

मलिंगा का तो जोड़ नहीं.

क्या चुनावी नतीजे आने के 10 दिनों के अंदर यूपी में 28 यादवों की हत्या हुई है?

28 नामों की एक लिस्ट वायरल हो रही है. लेकिन सच क्या है?

मायावती ने ऐसा क्या कह दिया कि फिलहाल गठबंधन को टूटा मान लेना चाहिए

प्रेस कांफ्रेंस में मायावती ने गठबंधन तोड़ने का सीधा ऐलान तो नहीं किया, लेकिन बहुत कुछ कह गयीं.

चुनाव नतीजे आए दस दिन हुए नहीं, मायावती ने गठबंधन पर सवाल उठा दिए

वो भी तब जब मायावती के पास जीरो से बढ़कर दस सांसद हो गए हैं

अरविंद केजरीवाल ने चुनाव में बंपर वोट खींचने वाला ऐलान कर दिया है

वो ऐसी स्कीम लेकर आए हैं कि दिल्ली-NCR की महिलाएं खुश हो गईं.

आखिर क्या सोचकर मोदी ने UP के इन नेताओं को कैबिनेट में जगह दी है?

इनमें कुछ से पिछली सरकार के दौरान बीच में ही मंत्रालय छीन लिया गया था.

मुस्लिम युवक को पीटने और 'जय श्री राम' के नारे लगवाने के मामले की सीसीटीवी फुटेज में क्या दिखा?

क्या है मामले की पूरी सच्चाई?

प्रियंका गांधी ने कांग्रेस की बैठक में कहा, 'पार्टी के हत्यारे इसी कमरे में बैठे हैं'

कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक में पार्टी के कई सीनियर नेता मौजूद थे.

सपा की हार पर मंथन को मीटिंग हुई, मुलायम ने अखिलेश को झाड़ के रख दिया

नेताओं ने बोला तो मुलायम सिंह यादव ने उन्हें भी डांट दिया.