Submit your post

Follow Us

अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों ने लगाई मदद की गुहार, हमें किसी भी तरह वापस बुला लो

काबुल (Kabul ) पर तालिबान के कब्जे के बाद दुनिया ने देश छोड़ने के लिए उतावले लोगों की दिल दहलाने वाली तस्वीरें देखीं. तमाम विदेशियों के अलावा भारतीय नागरिक (Indian Citizen) भी अफगानिस्तान (Afghanistan) में फंसे हुए हैं, और अपनी जान की सलामती के लिए सरकार से गुहार लगा रहे हैं. ऐसे ही एक भारतीय हैं सूरज जो काबुल में वेल्डिंग का काम करते हैं. उनके परिवार का रो-रोकर बुरा हाल है. सूरज का कहना है कि उनकी कोई सुनने वाला नहीं है.

अफगानिस्तान में सूरज तो यूपी में परिवार बेहाल

अफगानिस्तान में काम करने वाले भारतीय कामगार सरकार से गुहार लगा रहे हैं कि उन्हें जल्दी से जल्दी बाहर निकाला जाए. यूपी में चंदौली के रहने वाले सूरज ने इंडिया टुडे टीवी को फोन पर बताया कि

“हमारे परिवार का रो-रोकर बुरा हाल है. हम यहां से जल्दी से जल्दी निकलना चाहते हैं. हमने हेल्पलाइन पर फोन किया था, लेकिन उनका अभी कोई जवाब नहीं आया है. बस एक मैसेज आया है.”

सूरज साल 2021 की जनवरी में काबुल में वेल्डिंग करने गए थे. उनके पिता बुद्धिराम, मां, पत्नी, बेटा और बड़ा भाई ओमकार चंदौली के मुगलसराय में रहते हैं. जब आजतक ने सूरज के पिता से उनके बेटे के बारे में पूछा तो वो फूट-फूटकर रोने लगे. उन्होंने रोते हुए आजतक के संवाददाता उदय गुप्ता को बताया कि

“मैं भारत सरकार से अपील करता हूं कि मेरे बेटे को जितना जल्दी हो सके, अफगानिस्तान से वापस बुला लें. मेरी सूरज से बात हुई तो उसने बताया कि वो बहुत परेशानी में है.”

इसके अलावा, काबुल में फंसे कई भारतीय कह रहे हैं कि वो जिस कंपनी में काम करते थे, वो उनके पासपोर्ट वापस नहीं कर रही है. वीडियो में लोग यह कहते नजर आ रहे हैं कि कंपनी के जीएम ने उन्हें धमकाया है कि हमारे बिना तुम कहीं जा नहीं पाओगे, यहीं सड़ जाओगे. वीडियो में लोग बता रहे हैं कि ज्यादातर लोग यूपी के गाजीपुर जिले के रहने वाले हैं.

गाजीपुर के कन्हैया भी फंसे

अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों में यूपी के गाज़ीपुर के कन्हैयालाल शर्मा भी हैं. इंडिया टुडे के मुताबिक, मुबारकपुर गांव के रहने वाले कन्हैया जुलाई महीने में ही काबुल गए थे. उनके भाई अंगद शर्मा ने बताया कि वो फिटर की नौकरी के लिए अफगानिस्तान गए थे. अब वहां बदले हालात के कारण घर लौटने के लिए परेशान हैं. उनकी विधवा मां और परिजन सीएम योगी आदित्यनाथ और पीएम मोदी से हाथ जोड़कर मदद की गुहार लगा रहे हैं. अंगद ने बताया किअभी कन्हैया से बात हो रही है. वो काबुल में एयरपोर्ट के चक्कर लगा रहे हैं. उनके अलावा दर्जनों भारतीय वहाँ फंसे हुए हैं. सभी जल्द से जल्द भारत आना चाहते हैं.

सरकार का क्या कहना है?

भारत सरकार के विदेश मंत्रालय का कहना है कि हम स्थिति पर नजर बनाए हैं. लगातार उच्च स्तर पर इसकी मॉनिटरिंग कर रहे हैं. मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में काबुल में सुरक्षा के हालात काफी बिगड़ गए हैं. उन्होंने कहा कि

“हमें जानकारी है कि अभी भी कुछ भारतीय अफगानिस्तान में फंसे हुए हैं, और वो भारत आना चाहते हैं. हम उनके संपर्क में बने हुए हैं.”

अफगानिस्तान में फंसे लोगों के लिए एक हेल्पलाइन भी जारी की गई है. इसकी जानकारी भी प्रवक्ता ने ट्वीट करके दी.

इस बीच, मंगलवार 17 अगस्त की दोपहर 11.45 मिनट पर अफगानिस्तान से भारतीयों को लेकर एक जहाज भारत पहुंचा. 120 लोगों को लेकर आया भारतीय एयरफोर्स का ये C-17 विमान जामनगर में उतरा.

बता दें कि रविवार 15 अगस्त को काबुल पर भी तालिबान ने कब्जा कर लिया था. इसके बाद अफरातफरी फैल गई. राष्ट्रपति अशरफ गनी देश छोड़कर भाग गए. अब पूरा अफगानिस्तान तालिबान के कब्जे में है. हालात को लेकर अनिश्चितता बनी हुई है. फिलहाल देश में किसी भी तरह की सरकार न होने से बचाव अभियान चलाने में भी मुश्किलें आ रही हैं. अफगानिस्तान का एयर स्पेस भी यात्री विमानों के लिए बंद कर दिया गया है. ऐसे में सिर्फ सैनिक और स्पेशल परमीशन वाले विमान ही आ जा रहे हैं.


वीडियो – अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान के आने से भारत को क्या बड़े नुकसान, क्या कर रही है भारत सरकार?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

उपचुनाव के नतीजे एक जगह पर.