Submit your post

Follow Us

बोलें तो बोलें क्या: सनराइजर्स हैदराबाद 101/2 थे, 116/10 हो गए और बाकी गणित खुद लगा लीजिए

5
शेयर्स

IPL 2019. सुपर संडे का दूसरा मुकाबला. तलवारें खिंची डेल्ही कैपिटल्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच में. हैदराबाद का होम ग्राउंड और सीजन का 30वां मैच. हैदराबाद ने टॉस जीता और सामने वाली टीम को बैटिंग के लिए बुलाया. तो दिल्ली की टीम बल्लेबाजी करने आई तो सही मगर कुछ कमाल नहीं कर पाई. सिर्फ 155 रन स्कोरबोर्ड पर रखे. लगा था कि हैदराबाद की टीम के लिए ये स्कोर मामूली सा है. था भी मामूली ही. 101 पर इन्होंने सिर्फ 2 विकेट खोए थे. अगले 15 रनों के लिए इस टीम ने अपने 8 विकेट खो दिए और मैच 39 रनों से हार गए. यानी हैदराबाद ने लगातार तीसरा मैच हारा. इससे उल्ट दिल्ली ने लगातार तीसरा मैच जीत लिया. गजब का टर्नअराउंड दिखा इस मैच में.  एक नजर डाल लेते हैं इस मैच की चार हाइलाइट्स पर.

खलील अहमद की गेंदबाजी
दिल्ली की टीम बैटिंग करने आई और यहां खलील अहमद ने पृथ्वी शॉ और शिखर धवन को सस्ते में निपटा दिया. पृथ्वी 4 रन पर गए और पिछले मैच में 97 मारने वाले धवन सिर्फ 7 रन पर. दिल्ली के ओपनर 20 रन के भीतर आउट हो चुके थे. खलील ने इसके बाद भी श्रेयस अय्यर का विकेट निकाला. चार ओवर के अपने कोटे में खलील ने कुल 30 रन दिए और ये तीन विकेट लिए. खलील की इस गेंदबाजी से दिल्ली पर दबाव बना और भुवनेश्वर कुमार ने इसका फायदा उठाते हुए दो और डेब्यू कर रहे अभिषेक शर्मा और राशिद खान ने एक-एक विकेट लिए. दिल्ली सिर्फ 155/7 बना पाए. ये हैदराबाद के लिए एक मामूली स्कोर था.

Untitled design (72)

मुनरो-श्रेयस शो
यहां दिल्ली की हालत वही थी जो दिन के पहले मैच में कोलकाता नाइटराइडर्स की थी. यानी कोलिन मुनरो और श्रेयस अय्यर की 40 और 45 रनों की पारियों के अलावा किसी का बल्ला चला नहीं. मुनरो ने 24 गेंदों में 40 रन मारे और श्रेयस ने 40 में 45 मारे. इनके अलावा ऋषभ पंत ने 23, क्रिस मोरिस ने 4, अक्षर पटेल ने 14, कीमो पॉल ने 7 और रबाडा ने 2 रन बनाए. दिल्ली के सामने संकट ये था कि वो  हैदराबाद के सामने इस स्कोर को डिफेंड कैसे करेगी. मगर दिल्ली ने बाद में ऐसा फंसाया कि हैदराबाद फंस कर आत्महत्या करती दिखी.

Untitled design (71)

वॉर्नर बिन सब सून
दिल्ली ने किसी तरह 155 तो बना लिए मगर सामने हैदराबाद के डेविड वॉर्नर और जिम्मी बेयरस्टो का अटैक था. दोनों आए और दिल्ली के खिलाफ रन बनाने शुरू किए. पहले बेयरस्टो 31 में 41 मार गए फिर डेविड वॉर्नर एक और फिफ्टी मार गए. 47 में 51 की पारी खेली. वॉर्नर के नाम के आगे ये शोभा नहीं देता है. काफी स्लो खेले और जैसे ही आउट हुए सब बिखर गया. केन विलियमसन 3 रन बना पाए, भुई 7, विजय शंकर 1, दीपक हुडा 3, अभिषेक शर्मा 2. राशिद खान 0, भुवनेश्वर कुमार 2 और खलील अहमद 0 रन बनाकर आउट हुए. यानी पूरी टीम 116 रनों के स्कोर पर ऑल आउट हो गई. पूरे 20 ओवर भी नहीं खेल पाए.

Untitled design (73)

दिल्ली का जाल
अब आते हैं उन तीन गेंदबाजों पर जिन्होंने हैदराबाद के इन नवाबों पर नकेल कसी. ये हैं कगीसो रबाडा, क्रिस मोरिस और कीमो पॉल. रबाडा ने 3.5 ओवरों में 22 रन देकर 4 विकेट लिए, क्रिस मोरिस ने 3 ओवरों में 22 रन देकर 3 विकेट लिए और कीमो पॉल ने 4 ओवरों में 17 रन देकर 3 विकेट लिए. हैदराबाद की पारी यूं ढही कि इनके 8 विकेट सिर्फ 16 रन पर गिर गए. रबाडा ने पारी के 17वें ओवर में दो गेंद पर दो विकेट ले लिए. पहले वॉर्नर का और फिर विजय शंकर का. यानी वो हैट्रिक पर थे. मिली नहीं. ठीक इसी तरह क्रिस मोरिस जब पारी का 18वां ओवर करने आए तो दीपक हुडा दूसरी गेंद पर आउट हुए, तीसरी पर राशिद खान बिना खाता खोले लौट गए. हैट्रिक चांस था, हुई नहीं मगर आखिरी गेंद पर अभिषेक शर्मा भी आउट हो गए. इस ओवर में तीन विकेट गिर गए. 19वें ओवर में रबाडा ने दो गेंदों पर आखिरी दो को भी निपटा दिया. भुवनेश्वर और खलील आउट हुए.

Untitled design (78)

 


लल्लनटॉप वीडियो भी देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

हॉस्टल डेज़: वेब सीरीज़ रिव्यू

हॉस्टल में रह चुके लोगों को अपने वो दिन खूब याद आएंगे.

घोस्ट स्टोरीज़ : मूवी रिव्यू (नेटफ्लिक्स)

करण जौहर, अनुराग कश्यप, ज़ोया अख्तर और दिबाकर बनर्जी की जुगलबंदी ने तीसरी बार क्या गुल खिलाया है?

गुड न्यूज़: मूवी रिव्यू

साल की सबसे बेहतरीन कॉमेडी मूवी साल खत्म होते-होते आई है!

जब एक पत्रकार ने तीखे सवाल पूछे तो नेताजी ने उसको उठवा लिया

एक रात की कहानी, जो पत्रकार पर भारी गुज़री. #चला_चित्रपट_बघूया.

दबंग 3: मूवी रिव्यू

'दबंग 3’ के क्लाइमेक्स में इंस्पेक्टर चुलबुल पांडे को किस चीज़ का अफ़सोस रह जाता है?

फिल्म रिव्यू: मर्दानी 2

ये फिल्म आपके दिमाग में बहुत कुछ सोचने-समझने के लिए छोड़ती है और अपने हालातों पर रोती हुई खत्म हो जाती है.

क्या किया उस बच्ची ने, जिसकी मां की जान मछली में थी और बच्ची को उसे बचाना ही था?

अगर मछली मर जाती, तो मां भी नहीं बचती. #चला_चित्रपट_बघूया.

इनसाइड एज 2 रिव्यू: नेताओं की सत्ता, एक्टर्स की साख पे बट्टा और क्रिकेट का सट्टा

खेल की पॉलिटिक्स और पॉलिटिक्स का खेल. जानिए क्या होता है जब पार्टनर्स, राइवल्स हो जाते हैं?

अमिताभ के रहस्यमय लुक वाली फिल्म, जिसे रिलीज़ करने के लिए वो न जाने किस-किस से हाथ जोड़ रहे हैं

'पिंक', 'विकी डोनर' और 'पीकू' जैसी फिल्मों को बनाने वाले शूजीत सरकार की बतौर डायरेक्टर ये दूसरी फिल्म थी.

फिल्म रिव्यू- पानीपत

सवाल ये है कि आशुतोष गोवारिकर की मैग्नम ओपस 'पानीपत' अपना पानी बचा पाती है या इनकी भैंस भी पानी में चली जाती है?