Submit your post

Follow Us

पड़ताल: क्या CAA प्रोटेस्ट में आंसू गैस का गोला लगने से 22 साल के लड़के की मौत हुई?

दावा
फेसबुक पर एक नौजवान की फोटो वायरल हो रही है. फोटो के साथ दावाकिया जा रहा है कि इसमें दिख रहा आदमी उबैद उर रहमान है और उसे जामिया मिल्लिया इस्लामिया में CAA के खिलाफ हुए प्रदर्शन के दौरान आंसू गैस का गोला लगा था. दावा है कि इससे उबैद उर रहमान घायल हुआ था और जीबी पंत अस्पताल में उसका इलाज चल रहा था. अब उसकी मौत हो गई है.

कहा जा रहा है कि उबैद यूपी के डुमरियागंज इलाके का रहने वाला था. इस फेसबुक पोस्ट में उबैद के लिए ‘शहीद’ शब्द का इस्तेमाल भी किया जा रहा है. (आर्काइव लिंक)

बहुत दुख के साथ आप लोगों को इत्तेला दी जाती है कि जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्र जो CAA के खिलाफ एहतेजाज कर रहे थे…

Posted by F Ansari on Wednesday, 1 January 2020

एफ. अंसारी नाम के यूज़र ने फेसबुक पर ये पोस्ट किया है. इस पोस्ट को 20 घंटे के भीतर ही 2 हज़ार से ज़्यादा बार शेयर किया जा चुका है. वहीं क़रीब साढ़े तीन हज़ार यूज़र्स ने इस पोस्ट पर रिएक्ट किया है. इस पोस्ट पर क़रीब 5 हज़ार कमेंट किए जा चुके हैं.

पड़ताल
हमारी पड़ताल में ये वायरल दावा गलत निकला. ये सही जानकारी है कि उबैद उर रहमान नाम के नौजवान की मौत हुई है. लेकिन उनकी मौत की वजह जामिया प्रोटेस्ट नहीं है.
हमने पड़ताल के लिए दावे में ही बताई गई जगह, यानी बनजरहवा गांव के पुलिस थाना डुमरियागंज से संपर्क किया. डुमरियागंज थाने के SHO केडी सिंह ने उबैद उर रहमान की मौत की तस्दीक की. उन्होंने बताया

‘बनजरहवा गांव में 22 साल के नौजवान की मौत हुई है. 2 जनवरी 2020 को उसका जनाज़ा भी निकाला जा रहा है. लेकिन उबैद की मौत आंसू गैस का गोला लगने से नहीं, चिकनपॉक्स की वजह से हुई है.’

SHO डुमरियागंज ने बताया कि उबैद की मौत दिल्ली में हुई थी. इसलिए दिल्ली पुलिस के साथ भी इस बारे में जानकारी साझी की गई है. साथ ही डुमरियागंज पुलिस खुद उबैद के घर जाकर लौटी है.

SHO डुमरियागंज से मिली जानकारी के आधार पर हमने दिल्ली के न्यू फ्रैंड्स कालोनी ज़ोन के ACP जगदीश चंद्र से बात की. जामिया नगर और उसके आसपास का इलाका उन्हीं के अंतर्गत आता है. ACP जगदीश चंद्र ने बताया कि

उबैद की मौत का जामिया में CAA के खिलाफ हुए प्रदर्शन से कोई लेना-देना नहीं है. उबैद की तबीयत कुछ दिनों से ख़राब चल रही थी. उसे 1 जनवरी को लोकनायक जयप्रकाश नारायण (LNJP) अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. वहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

ACP जगदीश चंद्र की बात को पुख़्ता करती हुई बात LNJP अस्पताल ने भी बताई. LNJP के इमरजेंसी में आने वाले मेडिसिन विभाग से ‘दी लल्लनटॉप’ ने संपर्क किया. मेडिसिन डिपार्टमेंट के मुताबिक,

डेथ रिकॉर्ड में उबैद उर रहमान का नाम है. उबैद को 31 दिसंबर- 1 जनवरी की दरमियानी रात में क़रीब 1.20 मिनट पर LNJP लाया गया था. 3.30 पर उसकी मौत हो गई. उसकी मौत चिकनपॉक्स की वजह से हुई है.

उबैद के शव को LNJP से अब्दुल आलिम लेकर गए थे. हमने उनसे भी बात की. अब्दुल ने बताया कि

उबैद बाटला हाउस इलाके में कोचिंग करते थे. वो जामिया मिल्लिया इस्लामिया के स्टूडेंट नहीं हैं. वो 15 दिसंबर या उससे पहले और बाद में CAA के खिलाफ हुए प्रोटेस्ट में शामिल नहीं हुए थे. उनकी तबीयत ख़राब थी. पहले होली फैमिली अस्पताल में भर्ती कराया गया था. बाद में LNJP लेकर गए थे, जहां उनकी मौत हो गई और अब उनके शव को गांव ले आए हैं. जामिया के प्रोटेस्ट से उबैद की मौत का कोई लेना-देना नहीं है.

नतीजा
हमारी पड़ताल में उबैद उर रहमान की मौत की वजह चिकनपॉक्स निकली. उबैद को CAA के खिलाफ जामिया में हुए प्रदर्शन में आंसू गैस का गोला नहीं लगा था. उबैद बीमार थे. इस बात की तस्दीक उनके दोस्त, दिल्ली के LNJP अस्पताल, पैतृक गांव की पुलिस और दिल्ली पुलिस ने की. उनकी मौत को 15 दिसंबर को जामिया मिल्लिया इस्लामिया में हुए प्रोटेस्ट से जोड़ता दावा ग़लत है.

अगर आपको भी किसी ख़बर पर शक है, तो हमें मेल करें- padtaalmail@gmail.com पर. हम दावे की पड़ताल करेंगे और आप तक सच पहुंचाएंगे.


पड़ताल: क्या मोदी ने हिटलर का दिया भाषण दोहराया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पड़ताल

पड़ताल: BJP नेताओं ने चीन के एयरपोर्ट की फोटो को नोएडा इंटरनेशल एयरपोर्ट का बताया

पड़ताल: BJP नेताओं ने चीन के एयरपोर्ट की फोटो को नोएडा इंटरनेशल एयरपोर्ट का बताया

सोशल मीडिया यूजर्स इसे नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के मॉडल से जोड़कर शेयर कर रहे हैं.

पड़ताल: PM मोदी ने बांध का उद्घाटन तो किया पर BJP नेताओं ने गलत तस्वीर ठेल दी

पड़ताल: PM मोदी ने बांध का उद्घाटन तो किया पर BJP नेताओं ने गलत तस्वीर ठेल दी

वायरल तस्वीर को शेयर कर 'बुंदलेखंड को सौगात' देने की बात की जा रही है.

पड़ताल: मुस्लिम समुदाय ने नहीं बनाया राम मंदिर निर्माण रुकने की आशंका जताता वीडियो

पड़ताल: मुस्लिम समुदाय ने नहीं बनाया राम मंदिर निर्माण रुकने की आशंका जताता वीडियो

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि ये गाना समाजवादी पार्टी ने बनवाया है.

पड़ताल: इंदिरा गांधी सी-फूड नहीं खा रहीं, तस्वीर के साथ वायरल हो रहा दावा ग़लत

पड़ताल: इंदिरा गांधी सी-फूड नहीं खा रहीं, तस्वीर के साथ वायरल हो रहा दावा ग़लत

नामी फोटोजर्नलिस्ट श्रीधर नायडू की खींची इस वायरल तस्वीर का सच.

पड़ताल: सुशांत सिंह राजपूत के रिश्तेदारों की मौत से जुड़े दावों का सच

पड़ताल: सुशांत सिंह राजपूत के रिश्तेदारों की मौत से जुड़े दावों का सच

वायरल फोटो को सोशल मीडिया यूजर्स सुशांत के रिश्तेदारों के एक्सीडेंट सीन से जोड़कर शेयर कर रहे हैं.

पड़ताल: सेब की पेटी में गोलियां-ग्रेनेड, पर पकड़े गए शख़्स को कांग्रेस MLA बताते दावे ग़लत

पड़ताल: सेब की पेटी में गोलियां-ग्रेनेड, पर पकड़े गए शख़्स को कांग्रेस MLA बताते दावे ग़लत

ये तस्वीरें दो इतर घटनाओं की हैं, एक भारत की, एक बांग्लादेश की.

पड़ताल: वीडियो का छोटा हिस्सा काटकर सावरकर के बारे में फिर झूठ फैलाया जा रहा

पड़ताल: वीडियो का छोटा हिस्सा काटकर सावरकर के बारे में फिर झूठ फैलाया जा रहा

वीडियो दिखाकर सोशल मीडिया यूज़र्स दावा कर रहे हैं कि सावरकर ने जेल में ऐसे कष्ट सहे थे.

पड़ताल:

पड़ताल: "राशिद अल्वी ने जय श्री राम कहने वालों को राक्षस कहा", अमित मालवीय के इस दावे का सच

राशिद अल्वी ने बयान दिया था, "आज भी बहुत लोग जय श्री राम का नारा लगाते हैं वो सब मुनि नहीं वो निशिचरघोरा हैं."

पड़ताल: बीच सड़क नमाज़ अदा करने की ये तस्वीर भारत की नहीं

पड़ताल: बीच सड़क नमाज़ अदा करने की ये तस्वीर भारत की नहीं

सोशल मीडिया पर वेरिफाइड यूज़र्स इसे भारत का बताकर शेयर कर रहे हैं.

पड़ताल: क्या हज़ारों लोगों की ये रैली त्रिपुरा हिंसा के विरोध में निकाली गई है?

पड़ताल: क्या हज़ारों लोगों की ये रैली त्रिपुरा हिंसा के विरोध में निकाली गई है?

वायरल वीडियो को लोग "केरल के मुसलमानों की एकता" बताकर सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं.