Submit your post

Follow Us

पड़ताल: क्या कोयला संकट से निपटने के लिए रेलवे ने चला दी चार इंजन वाली मालगाड़ी?

दावा

बीते दिनों में देश के तमाम पावरप्लांट्स से कोयले की कमी की खबरें लगातार सामने आई हैं. इस बीच कोयले की आपूर्ति से जुड़ा एक वीडियो इंटरनेट पर तेजी से वायरल हो रहा है. वीडियो में कोयले से लदी एक मालगाड़ी दिख रही है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री और BJP नेता प्रकाश जावड़ेकर ने इस वीडियो को बिजली संयंत्रों को की जा रही कोयला आपूर्ति से जोड़ते हुए लिखा,

“4 इंजन वाली 4 किलोमीटर लंबी मालगाड़ी को बिजली संयंत्रों की कोयला आपूर्ति करने के लिए युद्धस्तर पर चलाया जा रहा है. ये है मोदी सरकार और मोदी जी #NewIndia” (आर्काइव)

पंजाब बीजेपी के IT सेल हेड राकेश गोयल ने वीडियो को ट्वीट करते हुए लिखा (आर्काइव )-

पंजाब बीजेपी के ट्विटर हैंडल से भी इसी दावे के साथ इस वीडियो को शेयर किया गया है.

( आर्काइव )

फेसबुक पर भी ऐसे दावे वायरल हैं.

This is Modi era 😺 मोदी हार कभी नहीं मानेगा !!

4 km long Rack train with 4 engines being run on war footing bases to supply coal to power plants.

Posted by Voice of New India on Wednesday, 20 October 2021

पड़ताल

दी लल्लनटॉप ने वायरल दावे की पड़ताल की. हमने पाया कि ये वीडियो हाल का नहीं, जनवरी 2021 का है. साथ ही ये कोयला संकट के मद्देनज़र की गई कोई विशेष व्यवस्था नहीं है.

वायरल वीडियो में वीडियो के ऊपरी हिस्से में बाईं ओर लिखे टेक्स्ट से हमें क्लू मिला. यहां IRTS Association लिखा हुआ है. इंडियन रेलवे ट्रैफिक सर्विस (IRTS Association) के ट्विटर हैंडल से ये वायरल वीडियो 6 जनवरी 2021 को शेयर किया गया था.

IRTS Association ने अपने ट्वीट के कैप्शन में लिखा

VASUKI, 4 भरी हुई मालगाड़ियां पहली बार कोरबा, बिलासपुर मंडल में जोड़ी गईं. 500 ट्रकों के बराबर 16000 टन कोयला लेकर यह कोरबा से भिलाई तक दौड़ी. श्री रवीश कुमार सिंह के नेतृत्व में पूरी ऑपरेशन टीम द्वारा किया गया सराहनीय कार्य #IRTS #IRTSMovingIndia.  (आर्काइव )

हमने जब IRTS Association के ट्वीट को कंफर्म करने के लिए कीवर्ड्स की मदद ली तो पता चला कि 6 जनवरी 2021 को वासुकी नहीं, सुपर शेषनाश मालगाड़ी का ट्रायल हुआ था.

इस बात की जानकारी रेल मंत्रालय ने ट्विटर के जरिए दी थी. रेल मंत्रालय के इस ट्वीट में वायरल हो रहा वीडियो देखा जा सकता है.

रेल मंत्रालय ने ट्विटर पर लिखा,

“एक और सफलता. ‘शेषनाग’ के सफल संचालन के बाद, अब साउथ ईस्ट सेन्ट्रल रेलवे के बिलासपुर मंडल ने ‘सुपर शेषनाग’ का संचालन किया. कोरबा से 20906 टन के वजन के साथ 4 लोडेड ट्रेन से बने फॉर्मेशन की पहली दौड़.” ( आर्काइव )

इसके अगले ही दिन- 7 जनवरी 2021 को उस समय रेलमंत्री रहे पीयूष गोयल ने भी सुपर शेषनाग ट्रेन के सफलतापूर्वक संचालन की जानकारी दी थी. (आर्काइव )

क्या हालिया कोयला संकट में सुपर शेषनाग का इस्तेमाल हुआ?

इस बारे में जानकारी के लिए हमने साउथ ईस्ट सेंट्रल रेलवे के बिलासपुर मंडल से संपर्क किया. बिलासपुर रेलवे मंडल के प्रवक्ता साकेत रंजन ने बताया,

“हाल-फिलहाल किसी भी सुपर शेषनाग ट्रेन का संचालन नहीं किया गया है. जनवरी में ये फॉर्मेशन चलाई गई थी. कोयला ढुलाई के लिए हम (SECR) आजकल लॉन्गहॉल ट्रेन चला रहे हैं. इसमें 2 इंजन जोड़े जाते हैं. हम फिलहाल एक दिन में 10-11 लॉन्गहॉल ट्रेनें चला रहे हैं, जिसके ज़रिए क़रीब 7 हज़ार से ज्यादा कोयला वैगन रोज़ाना देश के विभिन्न हिस्सों में भेजे जा रहे हैं.”

उन्होंने आगे बताया,

“इस तरह की खास फोर्मेशन का मकसद ट्रैक की व्यस्तता को कम करना होता है. किन्हीं दो निरंतर स्टेशनों की बीच एक ट्रैक पर एक ही ट्रेन हो सकती है. जब हमें ज्यादा माल ढोना होता है तो हम कई इंजन साथ जोड़ लेते हैं ताकि एक बार में 3-4 ट्रेनों का माल इकट्ठा ढोया जा सके. हालांकि ये नियमित अभ्यास नहीं है. कभी-कभार ही इसकी ज़रूत पड़ती है.”

क्या है सुपर शेषनाग ट्रेन ?
सुपर शेषनाग अब तक भारतीय रेलवे नेटवर्क पर चलने वाली सबसे लंबी मालगाड़ियों में से एक है. सुपर शेषनाग ट्रेन में 4 भरी हुई मालगाड़ियों को एक साथ जोड़कर चलाया जाता है. रेलवे के मुताबिक, सुपर शेषनाग ट्रेन की लंबाई क़रीब 2.8 किलोमीटर  होती है जो 2 इंजन वाली लॉन्गहॉल ट्रेन से लगभग दोगुनी होती है.

एक ट्रेन में कई इंजन जोड़ने के लिहाज से भारत में अब तक सबसे लंबी ट्रेन वासुकी है, जिसमें कुल 5 भरी हुई मालगाड़ियों को आपस में जोड़कर चलाया गया था.

नतीजा

हमारी पड़ताल में नतीजा निकला कि वायरल वीडियो अक्टूबर 2021 के कोयला संकट से जुड़ा हुआ नहीं है. ये वीडियो साल 2021 के जनवरी महीने का है जब भारतीय रेलवे ने 4 इंजन वाली सुपर शेषनाग ट्रेन का ट्रायल रन किया था. ये ट्रायल साउथ ईस्ट सेंट्रल रेलवे जोन के बिलासपुर डिवीजन में हुआ था. स्थानीय रेलवे अधिकारियों ने भी इसकी पुष्टि की है.


वीडियो: LAC पर भारत-चीन की वायरल फोटो का सच यहां जान लीजिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पड़ताल

पड़ताल: नौजवान की मारपीट और धारदार हथियार से हत्या को मुस्लिमों से जोड़ते वीडियो का सच

वॉट्सऐप पर वायरल वीडियो के एक हिस्से में भीड़ मारपीट कर लड़के को एक इमारत में खींचकर ले जाती है.

पड़ताल: सिद्धार्थ शुक्ला के आखिरी पलों का वीडियो बताकर भ्रम फैलाया जा रहा, जानिए सच

बिग बॉस विजेता रहे 40 साल के टीवी ऐक्टर सिद्धार्थ शुक्ला की 2 सितंबर को मुंबई में मौत हो गई.

पड़ताल: अमेरिकी सेना के बचे हेलिकॉप्टर्स तालिबान को मिले तो वे इन्हें सड़क पर दौड़ाने लग गए?

दावा किया जा रहा है कि ये तालिबान की हेलिकॉप्टर ट्रेनिंग का वीडियो है.

पड़ताल: क्या आर्कटिक में चाँद ने ढक लिया सूरज? देखिए इस वीडियो का सच

ये वीडियो एक बार फिर वॉट्सऐप पर वायरल हो रहा है.

पड़ताल: न्यूज़ चैनल CNN ने नहीं की तालिबान की तारीफ, फर्जी है स्क्रीनशॉट

विवेक अग्निहोत्री, वरुण गांधी समेत कई वेरिफाइड यूज़र्स ने किया दावा.

पड़ताल: क्या इस साल 10वीं और 12वीं पास करने वाले स्टूडेंट्स को सरकारी नौकरी के लिए स्पेशल पेपर देना होगा?

न्यूज़ वेबसाइट के वायरल स्क्रीनशॉट का पूरा सच यहां जानिए.

पड़ताल: किन्नौर में हुए भूस्ख़लन के बाद हिमाचल के पहाड़ों में लगा है ये भयानक जाम?

हिमाचल समेत पूरे हिमालय क्षेत्र में पहाड़ दरकने की ख़बरें लगातार आ रही हैं.

पड़ताल: क्या घरेलू गैस की बढ़ी कीमतों की ज़िम्मेदार "55% टैक्स वसूलने वाली राज्य सरकारें" हैं?

दावा किया जा रहा है कि केंद्र सरकार मात्र 5% टैक्स ले रही है, जबकि राज्य सरकारें कई गुणा ज्यादा.

पड़ताल: क्या तस्वीर में दिख रही महिला अफ़ग़ानी राजदूत की बेटी हैं, जिसका पाकिस्तान में "अपहरण" हुआ था?

अफ़ग़ानी राजदूत ने पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में उनकी बेटी का अपहरण होने का दावा किया था.

पड़ताल: क्या नागालैंड में उग रहे हैं ये खूबसूरत रंगीन भुट्टे?

सोशल मीडिया पर वायरल इस तस्वीर को हज़ारों यूज़र लाइक कर चुके हैं.