Submit your post

Follow Us

पड़ताल: क्या रेलवे कोरोना लॉकडाउन के चलते कैंसिल हुई टिकटों का पूरा पैसा नहीं दे रही?

दावा

सोशल मीडिया साइट्स फेसबुक और ट्विटर पर कहा जा रहा है कि भारतीय रेलवे ने लोगों को बेवकूफ बनाकर 7 करोड़ से ज्यादा रुपये का घोटाला किया है. कहा जा रहा है कि रेलवे ने 14 अप्रैल से 3 मई के बीच 39 लाख टिकट कैंसिल किये और इसी में घोटाला किया. कई लोगों का कहना है कि टिकट कैंसिल करने के बहाने रेलवे ने हर टिकट पर 18 रुपये काटे हैं. कई लोगों ने हर टिकट पर 23 रुपये काटने की भी बात कही है. उदाहरण के लिए कुछ पोस्ट देख लीजिए.(आर्काइव लिंक)

पोस्ट 1

पोस्ट 2

पोस्ट 3

पोस्ट 1, पोस्ट 2 और पोस्ट 3 का अकाईव लिंक.

पड़ताल

‘दी लल्लनटॉप’ ने इस वायरल दावे की पड़ताल की.

14 अप्रैल की शाम न्यूज़ एजेंसी PTI ने सूत्रों के हवाले से ख़बर दी कि देशभर में लॉकडाउन के विस्तार के बाद भारतीय रेलवे 15 अप्रैल से 3 मई तक के बीच बुक किए गए 39 लाख टिकट रद्द करेगी.

14 अप्रैल को सरकार ने अपने प्रेस रिलीज़ में कहा-

– रद्द की गई रेलगाड़ियों के लिए पहले से बुक किए गए टिकटों का पूरा रिफंड मिलेगा.
– अभी तक रद्द नहीं की गई ट्रेन के लिए पहले से बुक टिकटों को रद्द कराने पर भी पूरा रिफंड दिया जाएगा.
– जहां तक ​​3 मई, 2020 तक रद्द की गई ट्रेनों का सवाल है, रेलवे द्वारा रिफंड अपने आप ग्राहकों को ऑनलाइन भेज दिए जाएंगे. जिन लोगों ने काउंटर से टिकट लिये हैं, वे अपना रिफंड 31 जुलाई, 2020 तक ले सकते हैं.

रेल मंत्रालय का यह ट्वीट भी देख सकते हैं जिसमे पूरे रिफंड की बात कही गई है.

IRCTC ने लॉकडाउन के कारण ट्रेनें  रद्द होने से जुड़ा डॉक्यूमेंट अपलोड किया है. इसमें टिकट रिफंड वाले सेक्शन में लिखा है-

कोरोना वायरस के मौजूदा हालात में, IRCTC यूजर्स को सलाह देता है कि ई-टिकट कैंसिल न करें. यह ऑटो कैंसिल कर दिए जाएंगे. अगर किसी यूजर ने टिकट कैंसिल की है और उन्हें पार्शियल रिफंड मिला है तो IRCTC बाकी अमाउंट यूजर के खात में ऑटोमेटिक तरीके से रिफंड करेगा. IRCTC ट्रेनों के रद्द होने के बाद लगातार काम कर रही है कि यूजर को रिफंड मिल सके. यूजर को सलाह दी जाती है कि रिफंड को लेकर चिंता न करें. अगर कम अमाउंट रिफंड किया गया है तो बाकी कुछ दिन में रिफंड कर दिया जाएगा.

Coronavirus Irctc Refund
स्क्रीनशॉट: IRCTC

इसका मतलब यह है कि भारतीय रेलवे टिकट पर पूरा पैसा रिफंड कर रही है. रेलवे ने साफ़ किया है कि जब ट्रेन कैंसिल की जाती है तो यात्रियों को पूरा पैसा रिफंड किया जाता है.

तो फिर पैसे क्यों कटे हैं?

नवभारत टाइम्स में छपी ख़बर मुताबिक़, ऑनलाइन टिकट लेते वक्त टिकट चार्ज के साथ सुविधा चार्ज भी लिया जाता है. यह चार्ज टिकट के रकम की तुलना में बहुत कम होता है. IRCTC कहीं से भी टिकट बुकिंग की सुविधा देती है. ऐसे में वेबसाइट के रखरखाव और बेहतर सुविधा के लिए ऐसा किया जाता है. लाइवममिंट में छपी ख़बर के मुताबिक़, सुविधा शुल्क वापस नहीं किया जाता है.

IRCTC के एक अफसर ने नवभारत टाइम्स से बात करते हुए बताया-

वेबसाइट के मेंटेनेंस पर हर दिन करीब 32 लाख रुपये और सालाना करीब 125 करोड़ रुपये का खर्च आता है. सर्विस चार्ज को लेकर IRCTC बेहद मामूली रकम चार्ज करती है. नॉन एसी टिकट के लिए 15 रुपये और एसी और फर्स्ट क्लास टिकट के लिए 30 रुपये. एक टिकट पर छह यात्री तक टिकट बुक कर सकते हैं. 

सुविधा शुल्क को लेकर इंडियन रेलवे का यह प्रेस रिलीज़ देख सकते हैं जिसमें सुविधा शुल्क की बात कही गई है. काउंटर से लिए गए टिकट पर सुविधा शुल्क नहीं चार्ज किए जाते हैं.  IRCTC के नियम भी पढ़ सकते हैं. जिसमें कहा गया है कि 1 सितंबर, 2019 से फिर से सुविधा शुल्क लिया जा रहा है. नवंबर, 2016 से ऑनलाइन पेमेंट्स को बढ़ावा देने के लिए सुविधा शुल्क माफ़ कर दिए गए थे.

सुविधा शुल्क

स्लीपर और 2S क्लास के लिए: 15 रुपये+ जीएसटी

एसी के सभी क्लास के लिए: 30 रुपये+ जीएसटी

इंडिया टुडे की रिपोर्ट मुताबिक़, 22 मार्च से 14 अप्रैल के बीच 55 लाख टिकट बुक किए गए थे. 15 अप्रैल से 3 मई के बीच 39 लाख टिकट बुक किए गए थे. 14 मार्च तक के लॉकडाउन के लिए रेलवे 830 करोड़ और 3 मई तक के लिए जारी लॉकडाउन के लिए 660 करोड़ रुपये रिफंड करेगी. यानी लॉकडाउन के दौरान 94 लाख टिकट रद्द किए गए और 1490 करोड़ रुपये रिफंड किए जाएंगे.

नतीजा

हमारी पड़ताल में पता चला कि भारतीय रेलवे हरेक रद्द किए गए टिकट पर करीब 20 रुपये नहीं काट रही. भारतीय रेलवे कोरोना वायरस को लेकर हुए लॉकडाउन के दौरान रद्द किए ट्रेन टिकटों पर पूरा रिफंड कर रही है. रेलवे ऑनलाइन बुकिंग के लिए सुविधा शुल्क लेती है जो टिकट के रद्द करने पर भी वापस नहीं किया जाता है.


अगर आपको भी किसी ख़बर पर शक है तो हमें मेल करें- padtaalmail@gmail.com पर. हम दावे की पड़ताल करेंगे और आप तक सच पहुंचाएंगे.


कोरोना वायरस से जुड़ी हर बड़ी वायरल जानकारी की पड़ताल हम कर रहे हैं.
इस लिंक पर क्लिक करके जानिए वायरल दावों की सच्चाई.

 

पड़ताल: क्या रेलवे कोरोना लॉकडाउन के चलते कैंसिल हुई टिकटों का पूरा पैसा नहीं दे रही?
  • दावा

    रेलवे लॉकडाउन बढ़ने से रद्द हुई ट्रेनों में पहले से बुक की गई टिकटों का पूरा रिफंड नहीं कर रहा है.

  • नतीजा

    भारतीय रेलवे लॉकडाउन के दौरान रद्द की गईं ट्रेन टिकटों पर पूरा रिफंड कर रही है. रेलवे ऑनलाइन बुकिंग के लिए सुविधा शुल्क लेती है, जो टिकट के रद्द करने पर भी वापस नहीं किया जाता.

अगर आपको भी किसी जानकारी पर संदेह है तो हमें भेजिए, padtaal@lallantop.com पर. हम पड़ताल करेंगे और आप तक पहुंचाएंगे सच.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पड़ताल

पड़ताल: कोलकाता के वीडियो को मुंबई लोकल ट्रेन में नमाज़ पढ़ने से जोड़कर जिहाद के बारे में पूछा

पड़ताल: कोलकाता के वीडियो को मुंबई लोकल ट्रेन में नमाज़ पढ़ने से जोड़कर जिहाद के बारे में पूछा

सोशल मीडिया पर एक मुस्लिम आदमी के ट्रेन की सीट पर नमाज़ पढ़ने का वीडियो वायरल हो रहा है.

पड़ताल: राजस्थान में हिन्दू परिवार ने अपनाया इस्लाम धर्म? जानिए सच

पड़ताल: राजस्थान में हिन्दू परिवार ने अपनाया इस्लाम धर्म? जानिए सच

सोशल मीडिया पर एक हिन्दू परिवार के इस्लाम अपनाने का दावा वायरल हो रहा है.

पड़ताल: पत्रकार से बदसलूकी का पुराना वीडियो प्रियंका गांधी के अमेठी दौरे से जोड़ा

पड़ताल: पत्रकार से बदसलूकी का पुराना वीडियो प्रियंका गांधी के अमेठी दौरे से जोड़ा

सोशल मीडिया यूज़र्स का दावा है कि अमेठी में प्रियंका वाड्रा से सवाल पूछने पर कांग्रेस के कार्यकर्ता पत्रकार को ठोकने और मारने की धमकी दे रहे थे.

पड़ताल: लव जिहाद के एंगल से वायरल वीडियो का दावा भ्रामक

पड़ताल: लव जिहाद के एंगल से वायरल वीडियो का दावा भ्रामक

वायरल वीडियो सोशल मीडिया पर लव जिहाद के दावे से वायरल हो रहा है.

पड़ताल: पार्क से मुस्लिम महिला के बच्चे चुराने का दावा वायरल. जानिए सच

पड़ताल: पार्क से मुस्लिम महिला के बच्चे चुराने का दावा वायरल. जानिए सच

सोशल मीडिया मुस्लिम महिलाओं द्वारा बच्चे किडनैप करने का दावा वायरल हो रहा है.

पड़ताल: मायावती के पुराने बयान को BSP-BJP गठबंधन से जोड़कर किया वायरल

पड़ताल: मायावती के पुराने बयान को BSP-BJP गठबंधन से जोड़कर किया वायरल

दावा है कि मायावती आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी से गठबंधन कर रही हैं.

पड़ताल: क्या यूपी में वसीम रिज़वी के बाद 34 मुस्लिम परिवारों ने अपनाया हिन्दू धर्म? सच जानिए

पड़ताल: क्या यूपी में वसीम रिज़वी के बाद 34 मुस्लिम परिवारों ने अपनाया हिन्दू धर्म? सच जानिए

सोशल मीडिया पर वसीम रिज़वी के धर्म परिवर्तन के बाद 34 मुस्लिम परिवारों के धर्मांतरण का दावा वायरल हो रहा है.

पड़ताल: समाजवादी पार्टी के विधायक ने बीच सड़क पर दरोगा को पीटा? सच जानिए

पड़ताल: समाजवादी पार्टी के विधायक ने बीच सड़क पर दरोगा को पीटा? सच जानिए

सोशल मीडिया यूजर्स का दावा है कि मुख्तारगंज से SP विधायक सलीम हैदर ने दरोगा को सरेआम थप्पड़ मार दिया.

पड़ताल:  क्या गोबर खाने वाला डॉक्टर इंफेक्शन से अस्पताल में भर्ती हुआ? जानिए सच

पड़ताल: क्या गोबर खाने वाला डॉक्टर इंफेक्शन से अस्पताल में भर्ती हुआ? जानिए सच

दावा है कि गोबर खाने से डॉक्टर को इंफेक्शन हो गया, इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा.

पड़ताल: अखिलेश यादव ने केशव प्रसाद मौर्य पर नहीं की जातिगत टिप्पणी, वायरल दावा भ्रामक

पड़ताल: अखिलेश यादव ने केशव प्रसाद मौर्य पर नहीं की जातिगत टिप्पणी, वायरल दावा भ्रामक

दावा है कि अखिलेश यादव ने डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य पर जातिगत टिप्पणी कर मौर्य समाज का अपमान किया है.