Submit your post

Follow Us

बिहार चुनाव 2020: इनके बाप-दादा बिहार के मुख्यमंत्री रहे हैं, अबकी ये मैदान में हैं

बिहार में चुनाव है. देशभर में इस चुनाव की चर्चा है. ‘दी लल्लनटॉप’ की टीमें बिहार के चप्पे-चप्पे से एकदम चौचक खबरें निकालकर ला रही हैं. साथ में आपको बता रहे हैं रोचक चुनावी किस्से और बेहद दिलचस्प जानकारियां. अच्छा ये बताइए कि अगर आपसे पूछा जाए कि इस बार के चुनाव में ऐसे कौन-कौन लोग मैदान में हैं, जिनके पिता या दादा प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे हैं, तो आप बता पाइएगा? नहीं पता? चलिए हम बताते हैं.

तेजस्वी यादव

Tejasvi Yadav
तेजस्वी यादव लालू यादव के छोटे बेटे हैं (फोटो तेजस्वी के फेसबुक अकाउंट से साभार)

तो साहब इस लिस्ट में पहला नाम है तेजस्वी यादव का. उनके पापा लालू यादव और मम्मी राबड़ी देवी, दोनों ही बिहार के सीएम रहे हैं. इस बार तो तेजस्वी खुद ही सीएम फेस हैं, महागठबंधन का चेहरा हैं. राघोपुर विधानसभा से चुनाव लड़ रहे हैं. वैसे पढ़ाई तो केवल नौवीं तक की है, लेकिन बिहार के उपमुख्यमंत्री रहे हैं. पिता और माता की राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ा रहे हैं. क्रिकेट का जबरदस्त शौक रखते हैं. रणजी भी खेले हैं और आईपीएल में दिल्ली की टीम का हिस्सा भी रहे हैं.

तेज प्रताप यादव

Tej Pratap Yadav
फोटो तेज प्रताप के फेसबुक अकाउंट से साभार

अगला नाम तेजस्वी के बड़े भाई तेज प्रताप यादव का है. राजनीति तो उन्हें विरासत में मिली है. 2015 में बिहार की महुआ विधानसभा सीट से चुनाव जीते थे और नीतीश कुमार की कैबिनेट में मंत्री भी बने थे. तेज प्रताप अपने अलग अंदाज के लिए जाने जाते हैं. कहने वाले कहते हैं कि उनके पास पिता के गुण हैं. वो कभी कृष्ण और शंकर के भेस में दिखते हैं, तो कभी सत्तू बनाते और ट्रैक्टर चलाते दिखते हैं. उनका कहना है कि तेजस्वी अर्जुन हैं और वो कृष्ण हैं.

नीतीश मिश्रा

Nitish Mishra
फोटो नीतीश मिश्रा के फेसबुक अकाउंट से साभार

चलिए अब बताते हैं नीतीश मिश्रा के बारे में. उनके पिता जगन्नाथ मिश्रा भी बिहार के मुख्यमंत्री थे. और चाचा ललित नारायण मिश्रा कांग्रेस सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे थे. साल 2000 में नीतीश मिश्रा ने पहली बार भारतीय जन कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा था, लेकिन हार का सामना करना पड़ा. लेकिन इसके बाद जेडीयू के टिकट पर लगातार दो बार 2005 और 2010 में उन्होंने जीत हासिल की. 2015 में वो मामूली अंतर से चूक गए, लेकिन इस बार फिर बीजेपी के टिकट पर झंझारपुर विधानसभा सीट से मैदान में हैं. इंग्लैंड से पढ़े हैं और एमबीए की डिग्री भी है.

निखिल मंडल

Nikhil Mandal
फोटो निखिल मंडल के फेसबुक अकाउंट से साभार

अब बात बिंदेश्वरी प्रसाद मंडल यानी बीपी मंडल के पोते निखिल मंडल की. 1967 में सांसद रहे बीपी मंडल 1968 में 50 दिनों तक बिहार के सीएम भी रहे थे. ‘मंडल आयोग’ के कारण पूरे देश में उनकी चर्चा हुई. निखिल मंडल, जेडीयू के प्रवक्ता हैं, पटना हाईकोर्ट में वकील हैं.  इनकी पढ़ाई दिल्ली के करोड़ीमल कॉलेज से हुई है. पार्टी ने उन्हें इस बार मधेपुरा सीट से मैदान में उतारा है.

आसिफ गफूर

Asif Gafoor
फोटो आसिफ गफूर (बीच में) के फेसबुक अकाउंट से साभार

अब आपको बताते हैं आसिफ गफूर के बारे में. आसिफ के दादा अब्दुल गफूर भी बिहार के सीएम रहे थे. 2 जुलाई, 1973 से 11 अप्रैल, 1975 तक. अब्दुल गफूर केंद्रीय कैबिनेट मंत्री भी रहे थे और कांग्रेस में उनकी बहुत इज्जत थी. 2004 में अब्दुल गफूर की मौत के बाद उनकी राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ाया उनके पोते आसिफ गफूर ने. आसिफ बिहार कांग्रेस के महासचिव भी हैं और 2010 में बरौली से विधानसभा चुनाव भी लड़ चुके हैं. एक बार फिर कांग्रेस ने उन्हें इसी सीट से चुनाव मैदान में उतारा है.

देवेंद्र मांझी

Devendra Manjhi
देवेंद्र मांझी (फोटो क्रेडिट- ANI)

और अब बताते हैं जीतनराम मांझी के दामाद देवेंद्र मांझी के बारे में. जीतनराम मांझी को सीएम पद तब मिला, जब 2014 चुनावों में पार्टी की हार की जिम्मेदारी लेते हुए नीतीश कुमार ने सीएम पद छोड़ दिया था. बाद में मांझी ने अपनी पार्टी ‘हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा’ बना ली और इस बार उनकी पार्टी एनडीए में शामिल है. सात सीटों पर चुनाव लड़ रही है. मांझी के दामाद देवेंद्र मांझी भी मखदुमपुर विधानसभा (सुरक्षित सीट) से मैदान में हैं. वो साल 2006 से ही जीतनराम मांझी के निजी सहायक के रूप में काम करते आए हैं.


वीडियो- नेता जी घेरे में: ये नेता बिहार चुनाव जीतने के लिए पीएम मोदी और अमित शाह के ट्रंप कार्ड हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.