Submit your post

Follow Us

अपने युवा साधुओं के अंडकोष कटवाने के लिए ये ट्रिक अपनाता था राम रहीम

रंजीत सिंह मर्डर केस में दोषी पाए गए गुरमीत राम रहीम को अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. उसके अलावा 4 अन्य दोषियों को भी यही सजा दी गई है. इनके नाम हैं जसबीर, सबदिल, इंदर सेन, अवतार और किशन लाल. इंदर सेन की 2020 में मौत हो गई थी. बाकी 4 दोषियों की बाकी जिंदगी अब जेल में ही कटेगी.

सजा के ऐलान के बाद गुरमीत राम रहीम फिर चर्चा में है. लल्लनटॉप ने इस बलात्कारी और हत्यारे के बारे में कई स्टोरी की हैं. अदालत के फैसले के बाद हम कई स्टोरी एक बार फिर अपने पाठकों के सामने रख रहे हैं. इनमें से एक ये स्टोरी 29 मई 2018 को प्रकाशित की गई थी.


इस आर्टिकल में आप घिनौने ब्यौरे पढ़ेंगे. अपनी साध्वियों का रेप करने वाले डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम के. राम रहीम को 28 अगस्त 2017 को सज़ा सुनाई गई. उसके बाद से उसके कई कारनामे सामने आ रहे हैं. उन्हीं सब के बीच अब एक किताब आई है. ये ब्यौरे उसी किताब को पढ़ने के बाद आपको पढ़ाए जा रहे हैं. ज़ाहिर है कि ये सब के सब नए हैं. पहले की किसी रिपोर्ट में नहीं आए हैं विस्तार से. और ये सब आपको पढ़ना-जानना ज़रूरी है. क्योंकि ये कथित संत धर्म की आड़ में हज़ारों करोड़ का साम्राज्य चलाते हैं. क्योंकि ये कथित संत शोषण करते हैं. क्योंकि ये कथित संत पकड़े जाने से पहले सच के सब सुबूत मिटाने की कोशिश करते हैं. क्योंकि ये कथित संत पकड़े जाने के बाद भी अपने गुर्गों और भक्तों के जरिए अपने गुनाह ढांपने की कोशिश करते हैं. क्योंकि ये सब कथित संत हमारे आपके आसपास ही ऑपरेट करते हैं.

किताब- डेरा सच्चा सौदा एंड गुरमीत राम रहीम- ए डिकेड लॉन्ग इनवेस्टिगेशन
भाषा- इंग्लिश
राइटर- अनुराग त्रिपाठी
पब्लिशर- पेंग्विन
कीमत- 299 रुपए

गुरमीत का अंडकोष कटवाने वाला कोड- मुझ पर रहमत हो गई

ram-rahim9

गुरमीत साध्वियों को सेक्स स्लेव की तरह ट्रीट करता था. और जो पुरुष साधु थे, उनके दो काम थे. दिनभर काम करना. नशीली रोटियां खाकर. और जो ज़्यादा मज़बूत थे, वे राम रहीम की पर्सनल आर्मी के लिए ट्रेनिंग पाने जाते. उनमें भी कुछ अभागे थे. राम रहीम उनको अपनी निजी सुरक्षा के लिए चुनता. और उनके अंडकोष सर्जरी करवा कटवा देता. इस मामले में CBI ने कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की है. उसके इस कमीने कृत्य को भुगतने वाले कई पूर्व साधुओं ने बताया कि कैसे राम रहीम ये काम करता था.

ऐसे ही एक पूर्व साधु या कहें कि विक्टिम हैं हरियाणा के फतेहगढ़ जिले के हंसराज. वह बाज़ीगर दलित समुदाय से आते हैं. गरीब घर से थे. स्वर अच्छा था. परिवार डेरे से जुड़ा था. हंसराज भी जुड़ गए. भजन गाने लगे. फिर डेरे के लोगों ने परिवार पर दबाव डाला, तो परिवार ने उन्हें हमेशा के लिए डेरा भेज दिया. वह साधु बन गए. आगे की कहानी उन्हीं की जुबानी.

1999 में हम कुछ साधुओं ने एक बात सुनी कि डॉक्टरों ने डेरे के एक घोड़े के अंडकोष काट दिए. घोड़ा तीन महीने बाद मर गया. फिर पता चला कि पिता जी (गुरमीत का भक्तों के बीच नाम) ने इंसानों पर भी यह प्रयोग करने की सोची है. शुरुआत में डेरा के सीनियर मैनेजमेंट के एक व्यक्ति के साथ यह किया गया. उसके बाद 1999 के आखिरी में 500 साधु बुलाए गए. ये संत ब्रह्मचारी सेवादार ग्रुप के मेंबर थे. इन सबसे कहा गया, ‘एक छोटी सी सर्जरी होगी और उसके बाद आप सीधे ईश्वर के संपर्क में आ जाओगे.’ इसके बाद सभी साधुओं से गुरमीत खुद एक-एक कर मिला. जिन साधुओं से सर्जरी से इनकार किया, उन्हें टॉर्चर रूम में डाल दिया गया.

हंसराज
हंसराज

सबसे पहले गुरमीत के पर्सनल कुक, जो दो साधु थे, उनकी सर्जरी हुई. गुफा में ही ऑपरेशन टेबल सेट की गई. उसके बाद गुरमीत के करीबी दूसरे मैनेजमेंट के लोगों की सर्जरी हुई. सबको साफ निर्देश था. किसी को भी इस बारे में नहीं बताना है. बताना है तो ये कि सर्जरी के बाद उनका दिमाग और आध्यात्मिक हो गया है. इन साधुओं को दूसरे नौजवानों का ब्रेन वॉश करने की भी जिम्मेदारी दी गई.

अक्टूबर 2000 में हंसराज गुरमीत के कारवां के साथ हमेशा की तरह सत्संग के लिए गया था. रास्ते में गुरमीत ने उससे कहा, ‘तुम पर रहमत हो गई है. जल्द ही तुम्हें ईश्वर दिखेंगे.’ हंसराज तब 17 साल का था. गुरमीत ने हंसराज से अपने गांव गुरुसर मोडिया जाने को कहा. वहां डेरा एक अस्पताल चलाता है. शुरुआत में इसे ही बधिया करने के लिए इस्तेमाल किया जाता था. गुरमीत ने हंसरात से कहा, ‘अस्पताल में जाना और डॉ. पंकज गर्ग और डॉ. एमपी सिंह से मिलना. कहना, मुझ पर रहमत हो गई.’

हंसराज शाम को वहां पहुंचा और ऐसा ही बोला. डॉक्टर ये सुन मुस्कुराए और उसे पीने के लिए कोल्ड ड्रिंक दी. फिर जब उसकी आंख खुली, तो अंडकोष गायब हो चुके थे. यानी उसे नपुंसक बना दिया गया था.

हंसराज
हंसराज

हंसराज की जैसे दुनिया खत्म हो गई. कहां जाए, किसे बताए. डेरा में उसे ऐसे और भी साधु मिलते. रोज सुबह उन्हें एक काली गोली खाने को दी जाती, जिससे उनका दिमाग घूमता रहता. फिर कुछ बरस बाद हंसराज ने हिम्मत कर परिवार को बता दिया. घरवाले उसे ले गए. मगर यहां भी डेरा वाले उसे परेशान करते. गांववाले उसे तंग करते. कभी उसकी नौकरी जाती, कभी कुछ और. परिवार वाले इन्हीं सब के बीच गुज़र गए. हंसराज संगीत सिखाकर गुजारा करते हैं. उनके जैसे सैकड़ों साधु हैं, जो असल में उनके जैसे नहीं हैं. क्योंकि हंसराज तो वक्त रहते निकल आए. मगर वो साधु गुरमीत के कहने पर कत्ल करते रहे. खुद को भी मारते रहे. जैसे अंबाला में गुरमीत की पेशी के बाद एक साधु ने गोली मारकर आत्महत्या कर ली. उसके सुसाइड नोट में पता चला कि वह गुरमीत को कोर्ट में बुलाए जाने से नाराज़ है. अगली बार फिर ऐसा हुआ. दोनों का ही जब पोस्टमार्टम हुआ, तो पता चला अंडकोष गायब हैं.

अंडकोष. कमाल की चीज हैं न. राम रहीम इन्हीं के चलते महिला भक्तों का रेप करता था. और राम रहीम इन्हीं को पुरुष भक्तों में कटवाता फिरता था.

(इस किताब के राइटर अनुराग पत्रकार हैं. डेरा सच्चा सौदा मामले से उनका जुड़ाव शुरू हुआ अप्रैल 2007 में. तब वह तहलका की इनवेस्टिगेशन टीम का हिस्सा थे. हरिंदर बावेजा नाम की शानदार पत्रकार के नेतृत्व में यह टीम काम करती थी. तब इस टीम ने ऑपरेशन ‘झूठा सौदा’ किया. कई साध्वियों से बात की, जिनका गुरमीत राम रहीम ने रेप किया था. कई पूर्व कर्मचारियों से बात की, जिन्होंने बताया कि कैसे एक आतंकवादी ने गुरमीत को डेरा सच्चा सौदा की गद्दी दिलवाई बंदूक के दम पर. कई पूर्व भक्तों से बात की, जिन्होंने बताया कि गुरमीत कैसे लड़कियों और उनके घरवालों को परेशान करता था. कई पूर्व साधुओं से बात की, जिन्होंने बताया कि गुरमीत कैसे लड़कों के गुप्तांग कटवा देता था. गुरमीत के खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ने वालों से बात की, जिन्होंने बताया कि उनके बाप, भाई कैसे मरे.

अनुराग की किताब
अनुराग की किताब

एक अच्छी चीज ये है कि अनुराग टीवी की तरह जूसी डिटेल्स या कहें कि गॉसिप वाले डिटेल्स में नहीं भटकते. डिटेल्स जो सनसनी फैलाने के लिए ज्यादा होते हैं. इससे असल मुद्दे से ध्यान भटक जाता है. रेप, कत्ल, आर्थिक गड़बड़ी कर साम्राज्य बनाना, नेताओं और पुलिस को पालतू बनाना और इन सबके दम पर मनमानी करना. इसी सोच के तहत हनीप्रीत मामले में तथ्यों पर ज्यादा बात होती है. किताब में एक कमी है. राम रहीम ने फिल्में बनाना क्यों शुरू किया. उसकी इकॉनमी. उसके कल्ट बिल्डिंग में इसका योगदान. टीवी पर उसका अवतरण. ये सब उसे समझने का एक जरूरी फेज़ हैं. एक इंटरव्यू में अनुराग ने कहा कि किताब के अगले एडीशन में इसे जरूर शामिल करेंगे.)


पढ़िए इसी किताब से निकले और किस्से:

रेप के लिए साध्वी को गुफा में बुलाने का ये कीवर्ड था राम रहीम का

आतंकवादी गुरजंट ने राम रहीम के डेरे में बंकर क्यों बनाए थे

टट्टी का इस्तेमाल कर क्या कुकर्म करता था राम रहीम

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

कहानी 'मनी हाइस्ट' वाली नैरोबी की, जिन्होंने कभी इंडियन लड़की का किरदार करके धूम मचा दी थी

कहानी 'मनी हाइस्ट' वाली नैरोबी की, जिन्होंने कभी इंडियन लड़की का किरदार करके धूम मचा दी थी

जानिए क्या है नैरोबी उर्फ़ अल्बा फ्लोरेस का इंडियन कनेक्शन और कौन है उनका फेवरेट को-स्टार?

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.