Submit your post

Follow Us

यशराज फिल्म्स ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को चिट्ठी लिखकर क्या मांग की है?

बॉलीवुड के दिग्गज प्रोडक्शन हाउस यशराज फिल्म्स (Yash Raj Films) ने फैसला लिया है कि वो 30 हज़ार सिने वर्कर्स को कोविड-19 से बचाव के लिए वैक्सीन लगवाएंगे. ऐसा बताया जा रहा है कि इसमें आने वाला पूरा खर्च भी प्रोडक्शन हाउस ही उठाएगा. जानकारी के मुताबिक इसके लिए महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे को चिट्ठी भी लिखी गई है. जिसमें सरकार से वैक्सीन खरीदने के लिए अनुमति मांगी गई है.

यशराज फिल्म्स और फेडरेशन ऑफ वेसटर्न इंडिया सिने एम्प्लॉई (FWICE) की तरफ से भेजे गए लेटर में लिखा है,

”इस समय फिल्म इंडस्ट्री जिस स्थिति से गुज़र रही है उसे देखकर यही लगता है कि हमें जल्द से जल्द इसे री-स्टार्ट करने की ज़रूरत है. ताकि बहुत सारे वर्कर्स की कमाई चालू हो सके और वो अपने-अपने परिवार का खर्चा चला सकें. द यश चोपड़ा फाउंडेशन की ओर से यशराज फिल्म्स ने इन लोगों की मदद के लिए हाथ बढ़ाया है.”

”हमने महाराष्ट्र के चीफ मिनिस्टर को इसी के लिए एक प्रार्थना पत्र भी भेजा है. जिसमें ये रिक्वेस्ट की है कि हमें 30 हज़ार कोविड-19 की वैक्सीन खरीने की अनुमति दें. ये वैक्सीन मुंबई में फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े और रिजिस्टर्ड सिने वर्कर्स के लिए है. इसका पूरा खर्च द यश चोपड़ा फाउंडेशन उठाएगी. इसके अलावा भी लोगों के बीच अवेयरनेस फैलाने, वर्कर्स के आने-जाने के साथ ही पूरे प्रोग्राम को करने का खर्चा भी यश राज फाउंडेशन उठाएगी.”

”हम आशा करते हैं हमारी रिक्वेस्ट मानी जाएगी. ताकि जल्द से जल्द सिने वर्कर्स को सेफ किया जा सके और वो दोबारा से अपना काम शुरू कर सकें.”

FWICE के प्रेसिडेंट बी. एन. तिवारी ने इस पहल की तारीफ की है. साथ ही उन्होंने कहा है कि ये इस माहौल में सकारात्मक पहल है. ‘आज तक’ से बात करते हुए उन्होंने कहा,

”बीते कई दिनों से बड़े प्रोडक्शन हाउस से हमारे सिने कर्मचारियों की हेल्प करने को लेकर बात चल रही थी. अब फेडरेशन को यशराज फिल्म्स की तरफ से रिस्पॉन्स आया है.”

बी. तिवारी ने ये भी कहा कि उन्हें उम्मीद है इस महामारी के दौर में दूसरे बड़े प्रोडक्शन हाउस भी सहयोग के लिए आगे आएंगे. ताकि लोगों को सुरक्षित किया जा सके.

यशराज बैनर तले ‘दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे’, ‘मोहब्बतें’, ‘बंटी और बबली’, ‘धूम’, ‘जब तक हैं जान’, ‘रब ने बना दी जोड़ी’, ‘फना’, ‘चांदनी’, ‘साथिया’, ‘कभी-कभी’ और लम्हें जैसी शानदार फिल्म बन चुकी है.


वीडियो: अक्षय, सोनू सूद और सलमान के बाद अब अजय देवगन कोरोना पेशेंट्स के लिए क्या कर रहे हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से भी मदद की बात कही गई है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

ऑक्सीजन सप्लाई से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा था.

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

भारत सरकार की ओर से इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.