Submit your post

Follow Us

वॉरन बफे की जिस चिट्ठी का सबको इंतजार रहता है, उस पर बवाल क्यों हो गया है?

वॉरेन बफे बर्कशायर हैथवे कंपनी के मालिक हैं. जाबड़ निवेशक. जिस कंपनी में पैसा लगा देते हैं, दुनिया भर के लोग उस कंपनी के पीछे भागते हैं. उस कंपनी के शेयर ऑटोपायलट मोड में भागने लगते हैं. बफे सालाना एक खत लिखते हैं. कहने वाले कहते हैं कि बफे की सालाना चिट्ठी दुनियाभर के बिज़नेस और निवेश को लेकर लिखी गई किताबों से बेहतर होती है. इस चिट्ठी को दुनियाभर के निवेशक उनकी सोच को समझने के लिए भी पढ़ते हैं. अबकी भी बफे ने चिट्ठी लिखी. लेकिन इस पर विवाद हो गया है. आइए जानते हैं क्या है चिट्टी में और इस पर विवाद क्यों हुआ है.

बफे ने 14 पन्नों का यह ख़त 27 फ़रवरी को लिखा था. इसे आप यहां क्लिक करके पूरा पढ़ सकते हैं. इसमें उन्होंने बताया है कि कैसे महामारी की वज़ह से उनकी एक फर्नीचर कंपनी कई दिनों तक बंद रही.

किस बात पर लोगों के निशाने पर हैं बफे?

ब्लूमबर्ग से बात करते हुए अमेरिकी शोध कंपनी CFRA रिसर्च के एनालिस्ट कैथी सेफर्ट ने बफे की चिट्ठी को लेकर कहा है, ‘आप (बफे) इतनी बड़ी कंपनी के मालिक हैं. आपकी बात मायने रखती है. आपके पास ऐसे बिज़नेस हैं जो सीधे तौर पर महामारी से प्रभावित हुए. इंश्योरेंस कंपनियां जो ग्लोबल वार्मिंग और सोशल इन्फ्लेशन से प्रभावित हुईं. लेकिन आपने महामारी को लेकर एक शब्द भी नहीं कहा. यह मेरे लिए चौंकाने वाला और निराशानजक था.’

दरअसल, 90 बरस के बफे मई 2020 में हुई सालाना मीटिंग के बाद असामान्य रूप से चुप हैं. रिपोर्टों के मुताबिक़, वे उन मसलों पर चुप रहे जो उनके ग्रुप के लिए महत्वपूर्ण रहे हैं. जैसे कि इस साल के माहौल में बाज़ार आदि. जानकार बताते हैं कि महामारी और उसके चलते बिज़नेस पर पड़े प्रभाव को लेकर काफ़ी कुछ कहा गया है, बफे की चिट्ठी में महामारी को लेकर कुछ नहीं कहा गया है. वे इसे राजनीतिक बयान की तरह देख रहे हैं, जिससे कि बफे हालिया सालों में बचते नज़र आए हैं.

मामले को लेकर ब्लूमबर्ग ने बफे की कंपनी से प्रतिक्रया जाननी चाही जिसका तुरंत कोई जवाब नहीं मिला है. बर्कशायर फर्म के प्रेसिडेंट और पोर्टफोलियो मैनेजर ने कहा है कि चिट्ठी में ऐसा कुछ नहीं है, जो नहीं है. ये तो हो गई वो बातें जिनपर सवाल उठाए जा रहे हैं. अब चिट्ठी की कुछ ख़ास बातों के बारे में जान लेते हैं.

# बफे डील्स के बजाए बायबैक्स पर निर्भर?

बर्कशायर ने रिकॉर्ड 24.7 बिलियन डॉलर के अपने स्टॉक को फिर से ख़रीदा है. क्योंकि बफे ने बेहतर निवेश की तलाश में बहुत कोशिशें की लेकिन मामला जमा नहीं. ग्रुप पिछले साल के आख़िर से अपना स्टॉक ख़रीद रहा है और बहुत संभव है कि इसे आगे भी ज़ारी रखा जाएगा. इससे हुआ ये है कि बर्कशायर के बिज़नेस में खुद के स्वामित्व में 5.2 फीसद की बढ़ोतरी हो गई है.

कंपनी ने इस साल कोई बड़ा अधिग्रहण नहीं किया है. कंपनी इस साल नकदी में थोड़े फायदे में रही. चौथी तिमाही में कंपनी 138.3 बिलियन की हो गई. पिछले साल की चौथी तिमाही की तुलना में अबकी बार करीब 14 फीसद का लाभ दर्ज़ किया है.

# ऐपल फायदे का सौदा?

बर्कशायर ने ऐपल में 120 बिलियन डॉलर का निवेश किया हुआ है. उसने 2016 में ऐपल में 31.1 बिलियन डॉलर का हिस्सा ख़रीदा था. उस वक्त से अब तक कंपनी के लिए ऐपल टॉप तीन एसेट्स में से एक है.

बफे कहते रहे हैं कि वह टेक्नोलॉजी को ठीक तरह से समझ नहीं सके हैं लेकिन उन्होंने हमेशा से टेक्नोलॉजी इन्वेस्टमेंट पर जोर दिया है. ऐपल के साथ ही कंपनी ने एमेजॉन, स्नोफ्लेक आयर वेरिज़ोन आदि में निवेश किया है.

# बफे ने अपनी कौन सी गलती मानी?

बफे ने माना है कि पांच साल पहले प्रिसिजन कास्टपार्ट्स कॉर्प को 37.2 बिलियन डॉलर में खरीदकर उन्होंने गलती की थी. चिट्ठी में उन्होंने बताया कि कंपनी को बहुत ज्यादा पेमेंट किया गया. उन्होंने कहा, ‘मुझे किसी ने गुमराह नहीं किया था. मैं खुद ही बहुत आशान्वित था.’

# किस चीज़ से दूर रहने की सलाह दी?

बॉन्ड्स. दुनिया भर में बहुत कम ब्याज दरों के कारण बॉन्ड्स ने बाज़ार के आकर्षण को कम कर दिया है. बॉन्ड्स आजकल ठीक नहीं हैं. 10 साल के यूएस ट्रैजरी बॉन्ड्स में भयंकर गिरावट है. ऐसे में बफे ने बॉन्ड्स से बचने की सलाह दी है.

# नेवर बेट अगेंस्ट अमेरिका

बफे ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि अपने 232 साल के अस्तित्व में अमेरिका जैसी मानवीय क्षमता के लिए कोई इन्क्युबेटर नहीं है. कई छोटी-बड़ी दिक्कतों के बावजूद हमारे देश की आर्थिक प्रगति लुभावनी रही है. हम ‘एक अधिक आदर्श यूनियन’ की संवैधानिक आकांक्षा को बनाए रखते हैं. इस फ्रंट पर प्रगति धीमी है लेकिन हम आगे बढ़ चुके हैं और बढ़ते रहेंगे.

एक और बात उन्होंने लिखी- नेवर बेट अगेंस्ट अमेरिका. माने अमेरिका के खिलाफ़ कभी कोई दांव न लगाएं . इस बात को लेकर सोशल मीडिया पर खूब चर्चा हो रही है. यूजर्स इस बात का अलग-अलग मतलब निकाल रहे हैं.


वीडियो: क्या मोदी सरकार का बजट तीनों सेनाओं के लिए पूरा पड़ेगा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

विलियमसन ने तो SRH के लिए गज़ब ही लक्ष्य तय कर दिया है!

विलियमसन ने तो SRH के लिए गज़ब ही लक्ष्य तय कर दिया है!

उधर संजू फायर हैं.

मुंबई को पीटकर कोहली ने ऐसा क्या किया कि वीडियो वायरल है?

मुंबई को पीटकर कोहली ने ऐसा क्या किया कि वीडियो वायरल है?

ईशान किशन के साथ दिखे कोहली.

संजू सैमसन का ये जलवा देख T20 वर्ल्ड कप सेलेक्शन पर सवाल उठने तय हैं!

संजू सैमसन का ये जलवा देख T20 वर्ल्ड कप सेलेक्शन पर सवाल उठने तय हैं!

आज तो संजू ने मौज कर दी.

हरियाणा: सब-इंस्पेक्टर की परीक्षा में अनिल विज की खासियत पूछी गई, विकल्प दिया- अविवाहित!

हरियाणा: सब-इंस्पेक्टर की परीक्षा में अनिल विज की खासियत पूछी गई, विकल्प दिया- अविवाहित!

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के चेयरमैन पर भी सिर पकड़ने वाला सवाल पूछ लिया गया.

किसानों का भारत बंद जमीन से लेकर ट्विटर तक कितना सफल रहा?

किसानों का भारत बंद जमीन से लेकर ट्विटर तक कितना सफल रहा?

लोगों को हुई समस्या पर टिकैत ने क्या कहा?

आज के मैच में बहुत मारने वाला अंग्रेज़ खेलने उतर गया है!

आज के मैच में बहुत मारने वाला अंग्रेज़ खेलने उतर गया है!

राजस्थान और हैदराबाद में आज किसका पलड़ा भारी है?

बंगाल उपचुनाव: जब BJP के दिलीप घोष के गार्ड्स ने पिस्तौलें तान लीं

बंगाल उपचुनाव: जब BJP के दिलीप घोष के गार्ड्स ने पिस्तौलें तान लीं

भवानीपुर में TMC-BJP में बड़ा बवाल हो गया!

कमाल का मुकाबला! 'लाइगर' में माइक टायसन से भिड़ेंगे विजय देवरकोंडा!

कमाल का मुकाबला! 'लाइगर' में माइक टायसन से भिड़ेंगे विजय देवरकोंडा!

ये भारतीय सिनेमा इतिहास में पहली बार होगा, जब माइक टायसन किसी हिंदी फिल्म में दिखाई देंगे.

Axis Bank के ग्राहक इसे 'भारत का सबसे खराब बैंक' क्यों कह रहे हैं?

Axis Bank के ग्राहक इसे 'भारत का सबसे खराब बैंक' क्यों कह रहे हैं?

बैंक के 'कॉन्सोलिडेटेड चार्ज' पर ग्राहकों का पारा चढ़ा हुआ है, लेकिन ये है क्या?

कपिल शर्मा को वैनिटी वैन के नाम पर करोड़ों की चपत लगाई थी, कार डिज़ाइनर की गिरफ्तारी हुई

कपिल शर्मा को वैनिटी वैन के नाम पर करोड़ों की चपत लगाई थी, कार डिज़ाइनर की गिरफ्तारी हुई

आरोपी बहुत फेमस कार डिज़ाइनर का बेटा है. क्या था पूरा मामला, विस्तार से जान लीजिए.