Submit your post

Follow Us

गंभीर और अफरीदी की बातें सुनकर लगता नहीं है कि दोनों 2007 की भिड़ंत कभी भूलेंगे

180
शेयर्स

गौतम गंभीर और शाहिद अफरीदी में फाइट जारी है. क्रिकेट से नेता बन चुके गौतम गंभीर ने खुद के लिए वोट मांगते हुए दिल्ली में एक रैली में अफरीदी को मंदबुद्धि बता दिया. कहा कि अफरीदी की मेंटल ऐज अभी 16 साल है और उन्हें मनोचिकित्सक से दिखाने की जरूरत है. गंभीर ने इंडिया टु़डे से बात करते हुए कहा,” मुझे पता है शाहिद अफरीदी अपनी किताब अच्छे से बेच लेंगे. कुछ लोग उम्र से तो बड़े हो जाते हैं मगर दिमाग से नहीं. वो 36 या 37 साल के होंगे मगर मुझे पता है कि उनकी दिमागी उम्र 16 साल से ज्यादा नहीं है.”

शाहिद अफरीदी ने 4 मई को अपनी आत्मकथा ‘गेम चेंजर’ लॉन्च की है जिसमें गंभीर के बारे में लिखा है कि गंभीर ऐसा खिलाड़ी है जो कभी डॉन ब्रैडमैन बनता है तो कभी जेम्स बॉन्ड. उसे बहुत एटिट्यूड है मगर उसका कोई खास क्रिकेट रिकॉर्ड नही है. गंभीर ने कहा, “मेरे क्रिकेट रिकॉर्ड्स सबसे सामने हैं.आईसीसी टेस्ट प्लेयर ऑफ द ईयर बनने से लेकर टेस्ट सीरीज जीतने और वर्ल्ड कप विजेता बनने तक सारे रिकॉर्ड्स देख लीजिए. लोग तय कर लेंगे कि मैंने देश के लिए क्या क्या किया है. कुल लोग सच में दिमागी तौर पर बीमार हैं और उन्हें मनोचिकित्सक के पास जाने की जरूरत है.” साथ ही गंभीर ने ट्वीट करके अपनी प्रतिक्रिया दी और अफरीदी को टैग करके लिखा, ” अफरीदी तुम सच में मजाक हो. खैर, हम तो अभी भी पाकिस्तानियों को मेडिकल टूरिज्म के लिए वीजा दे रहे हैं. मैं तुम्हें निजी तौर पर किसी मनोचिकित्सक के पास ले चलूंगा.”

अब उधर से अफरीदी ने भी जवाब देने में देर नहीं की. कहा,” गंभीर को दिमागी दिक्कत है. अगर उसको जरूरत है तो मैं उसे अस्पताल में दिखा सकता हूं. अगर उसको पाकिस्तान का वीजा लेने में कोई दिक्कत हो तो मैं वो भी जल्दी दिलवा दूंगा.”

अब जान लीजिए दोनों के बीच में उस टकराव के बारे में जो दुनिया ने 2007 के एशिया कम में देखा था. कानपुर में वनडे मैच खेला जा रहा था. गंभीर बैटिंग कर रहे थे और अफरीदी बॉलिंग. इतने में किसी बात को लेकर दोनों भिड़ गए. गाली गलौज पर उतर आए. गंभीर और अफरीदी के बीच वो लड़ाई फिजिकल हो जाती अगर अंपायर मौके पर उन्हें अलग न करते. उस मैच में अफरीदी को मैच फीस का 95 फीसदी और गंभीर को 65 फीसदी जुर्माना हुआ था.

अब उस घटना को याद करते हुए अफरीदी ने अपनी किताब में लिखा है कि “गंभीर डॉन ब्रैडमैन और जेम्स बॉन्ड की मिश्रित नस्ल के हैं. कराची में हम ऐसे लोगों को सरयाल कहते हैं. यानी जो जलकर खत्म हो चुका हो. मैं खुशनुमा और पॉजीटिव लोगों को पसंद करता हूं. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आप अग्रेसिव हैं या नहीं, मगर आपको पॉजीटिव होना पड़ेगा और गंभीर बिल्कुल भी पॉजीटिव नहीं हैं.”


लल्लनटॉप वीडियो भी देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सरकार Facebook से यूजर्स की जानकारी मांग रही है

2 साल में तीन गुनी हुई इमरजेंसी रिक्वेस्ट्स की संख्या.

पुनर्विचार की सभी याचिकाएं खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने रफ़ाल को हरी झंडी दी

राहुल गांधी ने पीएम मोदी को रफ़ाल डील में भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए खूब घेरा था.

महाराष्ट्र में नहीं बनी शिवसेना-एनसीपी की सरकार, अब लगेगा राष्ट्रपति शासन

एनसीपी को सरकार बनाने के लिए आज शाम साढ़े आठ बजे तक का समय मिला था.

करतारपुर कॉरिडोर: PM मोदी ने इमरान को शुक्रिया कहा, लेकिन इमरान का जवाब पीएम मोदी को पसंद नहीं आएगा

वहां पर भी कॉरिडोर से ज़्यादा 'विवादित मुद्दे' पर ही बोलता नज़र आया पाकिस्तान.

सुप्रीम कोर्ट का फैसला: विवादित ज़मीन रामलला को, मुस्लिम पक्ष को कहीं और मिलेगी ज़मीन

जानिए, कोर्ट ने अपने फैसले में और क्या-क्या कहा है...

नेहरु से इतना प्यार? मोदी अब बिना कांग्रेस के नेहरू का ख्याल रखेंगे

एक भी कांग्रेस का नेता नहीं. एक भी नहीं.

शरद पवार बोले- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने से बचाना है, तो बस एक ही तरीका है

शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की मिस्ट्री पर क्या कहा?

मोदी को क्लीन चिट न देने वाले चुनाव अधिकारी को फंसाने का तरीका खोज रही सरकार!

11 कंपनियों से सरकार ने कहा, कोई भी सबूत निकालकर लाओ

दफ़्तर में घुसकर महिला तहसीलदार पर पेट्रोल छिड़का, फिर आग लगाकर ज़िंदा जला दिया

इस सबके पीछे एक ज़मीन विवाद की वजह बताई जा रही है. जिसने आग लगाई, वो ख़ुद भी झुलसा.

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प, गाड़ियां फूंकी

पुलिस और वकील इस झड़प की अलग-अलग कहानी बता रहे हैं.