Submit your post

Follow Us

CAA प्रोटेस्टः जामिया यूनिवर्सिटी के कैम्पस में घुसी पुलिस, डराने वाली तस्वीरें आ रही हैं

दिल्ली के जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में सिटिज़नशिप अमेंडमेंट एक्ट (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन तीन दिन से जारी है. 15 दिसंबर की शाम यह विरोध हिंसक हो गया. दिल्ली पुलिस कैम्पस के अंदर घुसी और छात्रों पर लाठीचार्ज किया. उनके ऊपर आंसू गैस के गोले छोड़े. कैंपस में डर का माहौल है. कैंपस के बाहर भारी संख्या में पुलिस की तैनाती है.

पुलिस के मुताबिक, प्रदर्शनकारियों ने डीटीसी की कई बसों में आगजनी की है. यूनिवर्सिटी कैंपस के आस-पास के इलाकों में तोड़फोड़ की गई. आग बुझाने के लिए दमकल की चार गाड़ियां भेजी गई थीं. दिल्ली फ़ायर सर्विस का कहना है कि छात्रों ने उनकी गाड़ियों का रास्ता ब्लॉक कर दिया. दो दमकलकर्मी इस हिंसा के दौरान घायल हो गए.

हालांकि, यूनिवर्सिटी के चीफ़ प्रॉक्टर वसीम अहमद खान ने कहा,

दिल्ली पुलिस जबरदस्ती कैंपस में घुसी, बिना इजाज़त के. हमारे कर्मचारियों और स्टूडेंट्स को पीटा जा रहा है और उन्हें कैंपस से बाहर भगाया जा रहा है.

छात्रों का आरोप- ज्य़ादती कर रही है पुलिस

जामिया के छात्रों का कहना है कि वे शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे थे. उनकी तरफ से कोई हिंसा नहीं की गई. कुछ शरारती तत्व प्रोटेस्ट को भटकाने की कोशिश कर रहे थे. उनका आरोप है शरारती तत्वों ने आगजनी की जिसके चलते पुलिस अब छात्रों पर ज्यादती कर रही है. खबर है कि पुलिस के डर से 500 से ज्यादा स्टूडेंट्स हॉस्टल के कमरों में छिपे हुए हैं.

प्रदर्शनकारियों ने डीटीसी की तीन बसों को आग के हवाले कर दिया. फोटो- पीटीआई
प्रदर्शनकारियों ने डीटीसी की कई बसों को आग के हवाले कर दिया. फोटो- पीटीआई

सोशल मीडिया जामिया कैंपस की तस्वीरों और वीडियोज़ से भरा पड़ा है. इनमें दिख रहा है कि पुलिस की कार्रवाई में कई छात्र घायल हुए हैं. लाइब्रेरी के अंदर आंसू गैस का धुंआ भरा हुआ है. टेबल-कुर्सियां टूटी पड़ी हैं. स्टूडेंट्स खिड़की से भागने की कोशिश कर रहे हैं. यूनिवर्सिटी के वॉशरूम की तस्वीरें हैं, जहां छात्र घायल पड़े हैं. एम्बुलेंस नज़र आ रहे हैं जिनमें भरकर घायल छात्रों को ले जाया जा रहा है.

पुलिस ने महिला पत्रकार का फोन छीना,गालियां दीं

बीबीसी की पत्रकार बुशरा शेख ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को बताया कि वह कवरेज के लिए जामिया पहुंची थीं. लेकिन पुलिस ने उनका फोन छीनकर तोड़ दिया. एक पुलिसवाले ने उनके बाल खींचे और उन्हें लाठियों से पीटा गया. बुशरा ने बताया कि जब उन्होंने अपना फोन वापस मांगा तो उनके साथ गाली-गलौज की गई.

कैम्पस के अंदर कार्रवाई पर पुलिस ने क्या कहा?

डीसीपी साउथ-ईस्ट चिन्मय बिस्वाल ने कहा,

प्रदर्शनकारी हिंसक हो गए थे. पत्थरबाज़ी में करीब 6 पुलिसवाले घायल हुए हैं. यूनिवर्सिटी का कैम्पस यूनिफाइड नहीं है. सड़क के दोनों तरफ कैम्पस है. जब रोड पर प्रदर्शन कर रहे हिंसक प्रदर्शनकारियों को हम खदेड़ने की कोशिश कर रहे थे तो वो कैम्पस के अंदर घुस गए और हम पर पत्थरबाजी करने लगे. हमारा मकसद भीड़ को यूनिवर्सिटी से बाहर निकालना है ताकि इलाके में कानून-व्यवस्था मेंटेन की जा सके. हमें जामिया के स्टूडेंट्स से कोई परेशानी नहीं है.

यानी पुलिस का कहना है कि बाहरी प्रदर्शनकारी यूनिवर्सिटी में घुस गए और वह उन्हें बाहर निकालने की कोशिश कर रही है. प्रदर्शनकारियों पर फायरिंग के सवाल पर डीसीपी ने कहा कि पुलिस की तरफ से कोई फायरिंग नहीं की गई है.

जामिया कैम्पस में पुलिस की कार्रवाई के बाद कई स्टूडेंट्स को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. ये फोटो हमें जामिया के ही स्टुडेंट्स ने भेजी है.
जामिया कैम्पस में पुलिस की कार्रवाई के बाद कई स्टूडेंट्स को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. ये फोटो हमें जामिया के ही स्टूडेंट्स ने भेजी है.

पुलिस की कार्रवाई पर उठ रहे सवाल

इस बीच एक वीडियो सामने आया है. जिसमें दिख रहा है कि एक ग्रुप से पुलिस जबरन एक लड़के को घसीट कर बाहर लेकर जा रही है. और उस पर लाठियां बरसा रही है. उस वीडियो में मौजूद लड़कियां उस लड़के को बचाने की कोशिश कर रही हैं. वो चिल्ला रही हैं कि हम कुछ नहीं कर रहे, लेकिन पुलिस डंडे चलाए जा रही है. इसी वीडियो में एक लाल टी-शर्ट पहना आदमी भी पुलिस के साथ डंडा बरसाता दिख रहा है. ये वीडियो पुलिस के उस दावे से एकदम उल्टा है, जिसमें वो कह रही है कि उन्हें छात्रों से कोई परेशानी नहीं है.

पुलिस हेडक्वार्टर का घेराव

जामिया कैम्पस में पुलिस की कार्रवाई के विरोध में स्टूडेंट्स ने ITO स्थित पुलिस हेडक्वार्टर का घेराव किया है. वो दिल्ली पुलिस के खिलाफ नारेबाज़ी कर रहे हैं.

सोमवार को स्कूल रहेंगे बंद, कई मेट्रो स्टेशनों को भी बंद रखा गया है

इलाके में जारी प्रोटेस्ट को देखते हुए दिल्ली सरकार ने सोमवार को ओखला, जामिया नगर, न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी और मदनपुर खादर इलाकों के सभी स्कूलों को बंद रखने का फैसला किया है.

वहीं, दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन यानी DMRC ने ट्वीट किया है कि वसंत विहार, मुनीरका, आरके पुरम, जीटीबी नगर, ITO, IIT, दिल्ली गेट, प्रगति मैदान, पटेल चौक, विश्वविद्यालय, सुखदेव विहार, जामिया मिल्लिया इस्लामिया, ओखला विहार, जसोला विहार, शाहीन बाग, और शिवाजी स्टेडियम मेट्रो स्टेशनों पर ट्रेनें नहीं रुकेंगे. इन स्टेशनों के एंट्री और एग्जिट गेट बंद कर दिए गए हैं.

फिलहाल हमारी अपील है कि वॉट्सऐप, ट्विटर, फेसबुक पर दिखने वाले हर पोस्ट पर यकीन न करें और न ही ऐसे पोस्ट फॉरवर्ड करें. अफवाहों से दूर रहें और शांति बनाए रखें.


वीडियोः पीएम मोदी की अपील के बाद भी नागरिकता संशोधन बिल का असम, त्रिपुरा में भयंकर विरोध जारी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

अब बीसीसीआई ने कोरोना संकट से लड़ने के लिए खजाना खोल दिया!

बीसीसीआई ने कहा है वो मुश्किल वक्त में सरकार के साथ खड़ा है.

कोरोना संकट के समय मारुति सुजुकी सबसे जरूरी चीज बनाने जा रही है

महिंद्रा एंड महिंद्रा का दावा है कि उसने पहले ही काम शुरू कर दिया है.

पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में दलित बच्चों के घास खाने वाली खबर में कितनी सच्चाई है?

एक अख़बार ने खबर छापी थी कि लॉकडाउन में भूखे बच्चे घास खा रहे हैं.

कोरोना के लिए जितने पैसे बाकी सुपरस्टार्स ने दिए उससे ज़्यादा अक्षय कुमार ने अकेले दे दिया

ये पैसे पीएम केयर्स फंड में दान किए हैं.

कोरोना से लड़ने के लिए टाटा ने तिजोरी का मुंह खोल दिया है

जान लीजिए कोरोना से लड़ाई में कितने सौ करोड़ रुपए दिए.

इन देशों ने कोरोना के टेस्ट के लिए चीन से किट मंगाई फिर चायनीज़ आइटम से भरोसा ही उठ गया!

अब ये देश भी कह रहे हैं चाइनीज आइटम पर भरोसा नहीं करना चाहिए.

अमेरिका में कोरोना के सबसे ज़्यादा मामले, लेकिन दुनिया की मदद के लिए खजाना खोला

64 देशों के लिए मदद की घोषणा. जानिए भारत को कितने करोड़ दिए.

नोएडा में मकान मालिक इस महीने किराया मांगें तो 0120-2544700 पर फोन कर देना

मकान मालिक अगर किराया लेते हैं तो जेल की हवा खानी पड़ सकती है.

कोरोना संकट में ऊपर वाला आलीम डार जैसा दिल हर सेलेब्रिटी को दे!

कोरोना संकट में जिन लोगों की नौकरी गई उनके लिए आलीम डार की बड़ी पहल.

पैदल घर जाने को मजबूर लोगों का बीजेपी नेता ने बड़ा क्रूर मज़ाक उड़ाया है

लॉकडाउन में लाखों मजदूर घरों को लौट रहे हैं.