Submit your post

Follow Us

यूपी: अस्पताल के बाहर तड़प रहे मरीजों को फ्री में ऑक्सीजन देने वाले पर FIR

जौनपुर. पूर्वी उत्तर प्रदेश का एक जिला. कोरोना वायरस की दूसरी लहर में एंबुलेंस और ऑक्सीजन की कमी हुई, अस्पतालों में बेड्स की कमी हुई, दवाइयों की कमी हुई. हाल ऐसे हुए कि जिला अस्पताल के बाहर लोग सांस के लिए तड़पने लगे. ऐसे में एक शख्स ने पीड़ितों को ऑक्सीजन दी. लेकिन प्रशासन ने इस शख्स पर FIR करा दी. इस FIR में दावा किया गया है कि ये शख्स अपना प्रचार कर रहा था और शासन-प्रशासन के खिलाफ दुष्प्रचार कर रहा था.

क्या है पूरा मामला?

इंडिया टुडे ग्रुप से जुड़े राजकुमार सिंह ने ‘दी लल्लनटॉप’ को बताया कि 29 अप्रैल को लोग जिला अस्पताल के बाहर परेशान स्थिति में थे और ऐसे में विक्की नाम के इस शख्स ने उन लोगों की मदद की. उन्होंने कहा,

“विक्की प्राइवेट एंबुलेंस चलाता है. उसके पास ऑक्सीजन के सिलेंडर थे. ऐसी जानकारी है कि जिला अस्पताल में बेड्स खाली नहीं थे और लोगों को लौटाया जा रहा था. काफी लोग अस्पताल के प्रांगण में ही लेट गए थे. उनकी हालत देख कर विक्की को लगा कि इनकी मदद करनी चाहिए. वो ऑक्सीजन लेकर पहुंचा और जिन लोगों को जरूरत थी, उन्हें देने लगा. इसके लिए उसने किसी से कोई पैसा नहीं लिया.”

विक्की अग्रहरि कोई समाजसेवी नहीं है और ना ही किसी संस्था से जुड़ा है लेकिन 29 तारीख को उसने लोगों की मदद की. उसको मदद करते देख कर कुछ लोगों ने फोटो लिए, वीडियो बनाए. उसकी तारीफें हुईं. विक्की ने करीब 30 लोगों को ऑक्सीजन मुहैया कराई. उन्होंने कहा कि पैसा तो बाद में भी कमा लिया जाएगा लेकिन फिलहाल लोगों को मदद मिल जानी चाहिए.

ये बात जिला अस्पताल के भीतर तक भी पहुंची. जिला अस्पताल के अधिकारी नाराज हो गए. 30 अप्रैल को मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ने पुलिस में विक्की के खिलाफ मामला दर्ज करा दिया. पुलिस ने महामारी अधिनियम की धारा 3 यानी स्वास्थ्यकर्मी के खिलाफ हिंसा करने या इसके लिए उकसाने, के तहत मामला दर्ज कर लिया. इसके अलावा IPC की धारा 188 (सरकारी आदेश को नहीं मानना) और 269 (संक्रमण फैलाना) भी लगा दी गईं.

Jaunpur Fir
जौनपुर पुलिस द्वारा दर्ज की गई FIR.

इस मामले में विक्की ने आजतक से बात करते हुए कहा, “मैं नहीं जानता कि मैंने क्या गलत किया है. मैंने किसी से कोई पैसा नहीं लिया. मैंने कुछ गलत नहीं किया.”

अमर उजाला अखबार में छपी खबर के मुताबिक सीएमएस डॉक्टर अनिल शर्मा ने कहा कि OPD पर्ची काउंटर के पास एक युवक मरीजों को लेटाकर ऑक्सीजन दे रहा था. इसके लिए ना तो वह अधिकृत है और ना ही उसके पास कोई डिग्री है. यह मरीजों की जान से खिलवाड़ करना है. अस्पताल प्रशासन की छवि खराब करने के लिए ऐसा किया गया था.

इस मामले में जौनपुर पुलिस ने ट्वीट पर कहा कि,

“इस बारे में बताना है कि मुख्य चिकित्सा अधीक्षक जौनपुर द्वारा थाने पर तहरीर दी गई जिसमें एक व्यक्ति विक्की द्वारा बिना कोविड जांच के, असुरक्षित तरीके से, बिना सैनेटाइज किए और अन्य मेडिकल सावधानियां बरते लोगों को ऑक्सीजन लगाया जा रहा था जिससे एक व्यक्ति से दूसरे में संक्रमण फैल सकता है. इस संबंध में उनके द्वारा महामारी अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीकृत करने हेतु तहरीर दी गई जिस पर अग्रिम विधिक कार्यवाही की जा रही है.”

जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा का वर्जन लेने के लिए ‘दी लल्लनटॉप’ ने उन्हें सरकारी CUG नंबर पर फोन किया. फोन कोविड कंट्रोल सेंटर पर फॉरवर्ड किया हुआ था. गन्ना अधिकारी ने फोन उठाया और बताया कि ये कंट्रोल सेंटर है. CMO को भी उनके सरकारी नंबर पर कॉल किया गया. लेकिन नंबर गलत होने के कारण लगा ही नहीं. जबकि यही नंबर सरकारी वेबसाइट पर भी लिखा हुआ है. खबर लिखे जाने तक विक्की को गिरफ्तार नहीं किया गया है. अगर इस मामले में किसी अधिकारी का वर्जन आएगा तो उसे वो भी आपको बताएंगे.


वीडियो- पंचायत चुनाव पर योगी सरकार से क्या बोला सुप्रीम कोर्ट?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

आर्यन खान केस: किरण गोसावी के बॉडीगार्ड का दावा, 18 करोड़ में डील होने की बात सुनी थी

गवाह प्रभाकर सेल का दावा-8 करोड़ समीर वानखेड़े को देने की बात हुई थी.

LIC पॉलिसी से PAN नंबर लिंक नहीं है, ये बड़ा नुकसान होगा!

लिंक करने का पूरा प्रोसेस बता रहे हैं, जान लीजिए.

यूपी चुनाव: सपा-सुभासपा गठबंधन का ऐलान, राजभर बोले- एक भी सीट नहीं देंगे तो भी समर्थन रहेगा

सपा ने ट्वीट कर कहा- 2022 में मिलकर करेंगे बीजेपी को साफ़!

आगरा में पुलिस कस्टडी में सफाईकर्मी की मौत, बवाल के बाद पुलिसकर्मियों पर FIR, 6 सस्पेंड

थाने के मालखाने से 25 लाख चोरी के आरोप में पुलिस ने पकड़ा था सफाईकर्मी को.

लखीमपुर की जांच से हाथ खींच रही यूपी सरकार? SC ने तगड़ी फटकार लगाते हुए और क्या सवाल दागे?

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, कभी खत्म न होने वाली कहानी न बन जाए ये जांच.

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल में भारी बारिश के कारण हुई मौतों की संख्या 35 तक पहुंची.

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

इंसाफ दिलाने के लिए धमकियों और खतरों की परवाह नहीं की.

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

पुलिस और सुरक्षा बलों ने इलाके को घेरा.

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री से की बात.

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

कश्मीर ज़ोन पुलिस ने बताया घटनास्थलों को खाली कराया गया. तलाशी जारी.