Submit your post

Follow Us

IPL2020 टाइटल स्पॉन्सरशिप की रेस में रामदेव को टक्कर देने आई ये कंपनी

इंडियन प्रीमियर लीग की टाइटल स्पॉन्सर रही VIVO मोबाइल ने इस साल टूर्नामेंट से अलग रहने का फैसला कर लिया है. लोगों के विरोध को देखते हुए इस चाइनीज कंपनी ने अपनी पुरानी डील को एक साल के लिए सस्पेंड कर दिया था. इसके बाद BCCI ने IPL2020 की टाइटल स्पॉन्सरशिप के लिए बोलियां आमंत्रित की थीं. अब ख़बर है कि एजुकेशन टेक्नॉलजी कंपनी अनअकैडमी ने टाइटल स्पॉन्सरशिप में इंट्रेस्ट जताया है.

IPL की स्पॉन्सर कंपनियों में शामिल रही अनअकैडमी अब लीग की टाइटल स्पॉन्सर बनना चाहती है. कंपनी IPL2020 की टाइटल स्पॉन्सरशिप के लिए बोली लगाने को तैयार है. एक BCCI ऑफिशल ने PTI से कंफर्म किया कि अनअकैडमी ने बोली लगाने से जुड़े पेपर ले लिए हैं. हालांकि इस ऑफिशल ने इससे आगे कुछ कहने से साफ इनकार कर दिया. ऑफिशल ने कहा,

‘मैं कंफर्म कर सकता हूं कि अनअकैडमी ने इसमें इंट्रेस्ट दिखाते हुए पेपर्स ले लिए हैं. मैंने सुना है कि वे जल्दी ही अपनी बिड सबमिट करेंगे और इस मसले को लेकर वह काफी गंभीर हैं. ऐसे में अगर वे बिड करते हैं तो पतंजलि को प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ेगा.’

इस ऑफिशल ने यह भी कहा कि ड्रीम11 और PayTM की तरह अनअकैडमी भी IPL की सेंट्रल स्पॉन्सरशिप स्कीम में शामिल है. इस ऑफिशल ने सेंट्रल स्पॉन्सरशिप और टाइटल स्पॉन्सरशिप के बीच का अंतर भी बताया. उन्होंने कहा,

‘हां, अनअकैडमी पहले से ही 2020 से 2023 तक IPL के सेंट्रल स्पॉन्सर पूल में शामिल है. सेंट्रल स्पॉन्सरशिप में जर्सी राइट्स नहीं होते. IPL में जर्सी पर सिर्फ टाइटल स्पॉन्सर और टीमों के स्पॉन्सर्स के लोगो ही होते हैं. अगर वे टाइटल स्पॉन्सर बन जाते हैं तो उन्हें कई ब्रांडिंग प्रॉपर्टीज के अधिकार मिल जाएंगे. इसमें पोस्ट मैच प्रजेटेंशन के दौरान बैकड्रॉप बोर्ड, डग आउट का बैकड्रॉप, बाउंड्री रोप समेत कई प्रॉपर्टीज शामिल हैं.’

इस मसले पर अनअकैडमी से बात करने की कोशिश नाकाम रहने के बाद PTI ने एक इंडस्ट्री इनसाइडर से बात की. इस इनसाइडर ने बताया,

‘बाकी के कई एजुकेशन-टेक ऐप्स से अलग, अनअकैडमी के पास 100 परसेंट इंडियन इंवेस्टमेंट है. और साढ़े चार महीने का वक्त IPL जैसे ब्रांड से जुड़ने और अपनी रीच बढ़ाने के लिए परफेक्ट है.’

इससे पहले ख़बरें आई थीं कि रामदेव की कंपनी पतंजलि ने IPL2020 की टाइटल स्पॉन्सरशिप लेने में इंट्रेस्ट जताया है. पतंजलि के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने इसकी पुष्टि भी की थी.


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

जानिए CDS बिपिन रावत के साथ हेलिकॉप्टर में कौन-कौन सवार था?

क्रैश हुए हेलिकॉप्टर में कुल 14 लोग मौजूद थे

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'