Submit your post

Follow Us

कहानी भारत के अंतरिक्ष मिशन चंद्रयान-2 की, जिसे दुनिया का कोई भी देश इतने सस्ते में नहीं बना पाया

180
शेयर्स

14 जुलाई की रात हमारे वैज्ञानिक एक और इतिहास लिखने की ओर बढ़ेंगे. भारत का चंद्रयान-2 चांद पर पहुंचने के लिए पहला कदम बढ़ाएगा. आंध्र प्रदेश में श्री हरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से चंद्रयान-2 लॉन्च होगा. लगभग तड़के 2 बजकर 51 मिनट पर. धरती से चांद 3,84,403 किलोमीटीर दूर है. चंद्रयान-2 को चांद की सतह पर पहुंचने में लगभग 52 दिनों का समय लगेगा. लॉन्चिंग से लगभग 20 घंटे पहले 14 जुलाई को काउंटडाउन शुरू हो गया. इसरो के अधिकारियों के मुताबिक सब कुछ प्लानिंग के तहत ठीक चल रहा है.

3,84,403 किमी की दूरी कैसे तय करेगा?

14 जुलाई की रात 2:51 बजे चंद्रयान-2 लॉन्चिंग के बाद पृथ्वी की कक्षा में पहुंचेगा. 16 दिनों तक यह धरती की परिक्रमा करेगा. इस दौरान इसकी अधिकतम स्पीड 10 किलोमीटर प्रति सेकेंड और न्यूनतम स्पीड 3 किलोमीटर प्रति घंटे होगी. पृथ्वी की कक्षा से बाहर निकलने के बाद रॉकेट चंद्रयान-2 अलग हो जाएगा. 5 दिनों बाद यह चांद की कक्षा में पहुंच जाएगा. इस दौरान यह चंद्रमा के चारों ओर गोल-गोल चक्कर लगाता रहेगा. 27 दिनों तक यह चंद्रमा की कक्षा में चक्कर लगाएगा. उसके बाद यह चांद की सतह पर उतरेगा. इस प्रक्रिया में 4 दिन लग जाएंगे. चांद की सतह के नजदीक पहुंचने पर लैंडर जिसे विक्रम नाम दिया गया है, अपनी कक्षा बदल लेगा. उतरने से पहले उस जगह को स्कैन करेगा. लैंडर ऑर्बिटर से अलग होकर चांद की सतह पर उतर जाएगा.

उम्मीद है की 6 सितंबर को चंद्रमा की सतह पर लैंडर रोवर की सॉफ्ट लैंडिंग करा दी जाएगी. इसके बाद लैंडर से जिसका नाम विक्रम रखा गया है रोवर बाहर आएगा. इसरो ने रोवर का नाम प्रज्ञान रखा है. चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग की जगह इसके दक्षिणी ध्रुव को चुना गया है. चंद्रमा की सतह पर उतरने के बाद प्रज्ञान रोवर एक चंद्रमा दिवस तक यहां पर चहलकदमी कर सकेगा. एक चंद्रमा दिवस का मतलब धरती के 14 दिन.

प्रज्ञान रोवर 500 मीटर के दायरे तक चहलकमदी करेगा. इस दौरान भारतीय वैज्ञानिकों ने एक खास तरीके का प्रयोग करने का भी प्लान किया है जिसके तहत 6 पहियों वाला प्रज्ञान रोवर अपनी रोबोटिक आर्म से लेजर का इस्तेमाल करके चंद्रमा की सतह पर मौजूद मिट्टी को जलाएगा. इस दौरान इसके स्पेक्ट्रम को जांचा जाएगा. यहां से मिली सभी जानकारी प्रज्ञान रोवर पहले विक्रम लैंडर को भेजेगा. विक्रम लैंडर इस जानकारी को आर्बिटर को भेजेगा और वहां से यह जानकारी डीप स्पेस नेटवर्क के जरिए बेंगलुरु पहुंचेगी.

क्या यह इतना सरल है?

जहां पर रोवर उतरेगा वहां सूरज की किरणें तिरछी पड़ती हैं. आसपास के कई जगहों पर तापमान माइनस 250 डिग्री है. चांद से धरती के बीच अलग-अलग गुरुत्वाकर्षण बल यान के लिए चुनौती पैदा कर सकता है. चांद की कक्षा अनिश्चित है. इसलिए यान की रफ्तार कभी कम तो कभी ज्यादा करते हुए उसे सही जगह पर रखना होगा. चांद के करीब मौजूद गर्म और ठंडी गैसें यान के सोलर पैनल और सेंसर के लिए मुश्किल पैदा कर सकती हैं.

इस मिशन का खर्च कितना है?

फिल्म 'एवेंजर्स: एंडगेम' को जोसेफ और एंथनी रूसो ने मिलकर डायरेक्ट किया है.
फिल्म ‘एवेंजर्स: एंडगेम’ को जोसेफ और एंथनी रूसो ने मिलकर डायरेक्ट किया था. जितने पैसे इस फिल्म को बनाने में लगे, भारत उतने में दो चंद्रयान बना सकता है और बचे हुए पैसे से टाइगर जिंदा है जैसी तीन फिल्में भी बन जाएंगी.

इस मिशन पर लगभग एक हजार करोड़ रुपए खर्च हो रहे हैं. एंड गेम में मारवेल ने जितने में थानोस को मारा उतने में भारत को चंद्रयान मिशन पूरा कर सकता है. इतना पैसा बच भी जाएगा कि जितने में टाइगर जिंदा है जैसी तीन फिल्में बन जाएंगी.

क्यों भेज रहे हैं चंद्रयान?

2008 में भारत ने चंद्रयान-1 भेजा था. हालांकि यह चंद्रमा की सतह पर नहीं उतरा था, लेकिन इसने एक बड़ी बात बताई थी. वो ये कि चंद्रमा पर पानी है. चंद्रयान-2 चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव पर उतरेगा. चंद्रमा के इस हिस्से में अब तक कोई देश नहीं पहुंचा है. चंद्रयान-2 का लैंडर विक्रम पता लगाएगा कि चांद के गड्ढों पर बर्फ के रूप में पानी है या नहीं. पानी है तो कितना है. चांद का मौसम कैसा है? खनिज और सतह पर फैले रासायनिक तत्वों के बारे में अध्यन करेगा. हीलियम-3 गैस की संभावना की तलाश करेगा. कुल मिलाकर हम ये कह सकते हैं कि चंद्रयान-2 उन सभी संभावनाओं की एक तरह से तलाश करेगा कि कभी भविष्य में मानवजाति क्या चंद्रमा पर रह सकती है या नहीं. ये मिशन उस दिशा में बढ़ाया गया एक कदम है. इससे न केवल भारत को बल्कि पुरी दुनिया को फायदा मिलेगा.


टोल टैक्स के लिए मारपीट कर लेने वाले सांसदों को केन्या के इस सांसद से सीखना चाहिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

टीम इंडिया की सबसे बड़ी दिक्कत का इलाज कोच शास्त्री और कोहली ने निकाल लिया है!

ये मसला पहले सुलझा होता तो वर्ल्डकप सेमीफाइनल में वो न होता जो हुआ.

जम्मू-कश्मीर में स्पेशल पुलिस ऑफिसर्स के हथियार ज़ब्त किए जाने वाली खबर पर सरकार ने जवाब दिया है

ख़बर में कहा गया था कि हथियार चोरी करके आतंकी बन सकते हैं जम्मू-कश्मीर पुलिस के SPO.

स्मिथ घायल थे और जोफ्रा आर्चर मुस्कुरा रहे थे, शोएब अख्तर ने दिमाग ठिकाने पर ला दिया

जोफ्रा आर्चर की गेंद पर स्मिथ की गर्दन पर जा लगी थी.

लद्दाख के बीजेपी एमपी की पत्नी ने क्यूं कहा कि JNU में कन्हैया कुमार के विडियो और ऑडियो फर्ज़ी थे

एमपी जमयांग, संसद में दिए अपने हिंदी वाले भाषण के चलते देशभर में चर्चा में आ गए थे.

शिल्पा शेट्टी ने 10 करोड़ ठुकरा दिए लेकिन पतला करने वाली गोलियों का ऐड नहीं किया

अब सब लोग तारीफों के पुल बांध रहे हैं.

'मिशन मंगल' की कमाई से अक्षय कुमार ने '2.0' को भी पीछे छोड़ दिया है

जॉन की फिल्म 'बाटला हाउस' से टक्कर नहीं मिलने पर अक्षय अपना ही रिकॉर्ड तोड़ने लगे हैं.

विदेश में इंडिया के खिलाफ नारे लग रहे थे, शाज़िया इल्मी भिड़ गईं

वीडियो वायरल हो गया है, जिसमें शाज़िया को 'इंडिया ज़िंदाबाद' कहते सुना जा सकता है.

खालिस्तानी-पाकिस्तानी समर्थक पैरों तले रौंद रहे थे, पत्रकार ने भीड़ में घुसकर तिरंगा छीना

खालिस्तानी टी-शर्ट पहने प्रदर्शनकारियों के पास से खंजर मिले हैं.

शेहला राशिद ने कश्मीर को लेकर इंडियन आर्मी पर जो इल्ज़ाम लगाया था, उसका जवाब आया है

शेहला ने ट्वीट और आरोपों की झड़ी लगा दी, लिखा कि कश्मीर में सुरक्षा एजेंसियां रात के समय घरों में घुसकर लड़कों को पकड़ रही हैं.

वीडियो देखकर पता चलता है कि क्यूं कभी शराब पीकर गाड़ी नहीं चलानी चाहिए

बेंगलुरु के शराबी ड्राइवर ने फुटपाथ पर चल रहे दसियों लोगों को जिस तरह रौंदा वो देखकर आप अंदर तक हिल जाते हैं.