Submit your post

Follow Us

तमिलनाडु: जयराज और फेनिक्स को मारने वाले पुलिसवाले पहले भी आठ लोगों को कस्टडी में पीट चुके हैं

तमिलनाडु के तूतिकोरिन में 19 जून को दो लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया. ये लोग थे पी जयराज और उनका बेटा जे बेनिक्स. इन पर आरोप था कि इन्होंने तय समय से ज़्यादा अपनी मोबाइल एक्सेसरी की दुकान खुली रखी. सतकुलम थाना पुलिस ने मजिस्ट्रेट से इन दोनों की रिमांड मांगी. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मजिस्ट्रेट ने आरोपियों को देखे बिना ही रिमांड दे दी. जबकि नियमों के मुताबिक रिमांड पर भेजने से पहले मजिस्ट्रेट आरोपियों को खुद देखते हैं कि उन्हें किसी तरह की चोट तो नहीं लगी है.

22 जून को बेनिक्स को अस्पताल ले जाया गया जहां उसने दम तोड़ दिया. एक दिन बाद उसके पिता की भी मौत हो गई. आरोप है कि इन दोनों को पुलिस ने बुरी तरह मारा था. मामले में मद्रास हाईकोर्ट ने रिपोर्ट तलब की है. वहीं बाप-बेटे को न्याय दिलाने के लिए ट्विटर पर #JusticeForJeyarajAndFenix ट्रेंड हुआ.

कई और लोगों को भी पीटा, एक की मौत

अब पता चला है कि सतकुलम थाना पुलिस ने कई और लोगों को भी टॉर्चर किया था. इनमें से एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि दो को अस्पताल में भर्ती कराया गया. जयराज और बेनिक्स मामले की न्यायिक जांच रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार, तूतीकोरन के जिला जज ने इस बारे में रिपोर्ट 25 जून को मद्रास हाईकोर्ट में सबमिट की. कोर्ट 30 जून को इस रिपोर्ट पर सुनवाई कर सकता है.

जयराज-बेनिक्स मामले में आरोपी पुलिसवालों पर ही टॉर्चर का आरोप

खबर के अनुसार, जिला जज की रिपोर्ट में लिखा है कि टॉर्चर में एक वॉलंटियर ग्रुप ‘फ्रेंड्स ऑफ पुलिस’ ने भी पुलिसवालों की मदद की. रिपोर्ट में तीन पुलिसवालों के नाम भी हैं. ये हैं इंस्पेक्टर श्रीधर, सब इंस्पेक्टर बालकृष्णन और रघु गणेश. आरोप है कि बालकृष्णन और गणेश ने मारपीट की. जबकि श्रीधर ने उन्हें ऐसा करने को कहा. जयराज और बेनिक्स मामले में भी यही तीनों पुलिसवाले आरोपी हैं. इन्हें सस्पेंड किया जा चुका है. बताया जाता है कि सतकुलम के मजिस्ट्रेट पी सरवनन की भूमिका की भी जांच होगी. सरवनन ने ही जयराज-बेनिक्स और एक दूसरे व्यक्ति की रिमांड दी थी. इस मामले में तमिलनाडु सरकार ने जांच सीबीआई को सौंप दी है.

तमिलनाडु सरकार ने जयराज और बेनिक्स के परिवार को आर्थिक मदद दी है. लेकिन मामले में सरकार पुलिसवालों और अपने को बचाती दिख रही है.
तमिलनाडु सरकार ने जयराज और बेनिक्स के परिवार को आर्थिक मदद दी है. लेकिन मामले में सरकार पुलिसवालों और खुद को बचाती दिख रही है.

पीट-पीटकर मार डाला, बिना पोस्टमार्टम कराए शव दे दिया

इंडियन एक्सप्रेस ने रिपोर्ट के बारे में लिखा है कि दो सप्ताह पहले सतकुलम थाने में लगभग एक दर्जन लोगों को बुरी तरह पीटा गया. इनमें से एक की मौत हो गई जबकि दो लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया. मरने वाले शख्स का नाम महेंद्रन था. उसे उसके भाई दुरई के साथ अरेस्ट किया गया था. रिपोर्ट में लिखा है कि महेंद्रन को सतकुलम थाने में तीन पुलिसवालों ने तब तक मारा जब तक कि उसकी मौत न हो गई. बाद में शव को बिना पोस्टमार्टम के ही उसकी मां को दे दिया. साथ ही धमकी दी गई कि अगर किसी को इस बारे में बताया तो दुरई को भी इसी तरह मार दिया जाएगा.

एक पीड़ित ने बताया, पुलिस ने कैसे किया टॉर्चर

सूत्रों के हवाले से एक्सप्रेस ने लिखा है कि 15 दिन पहले एक नाबालिग सहित आठ लोगों को सतकुलम थाने में टॉर्चर किया गया था. इन लोगों को लगातार तीन दिन तक मारा-पीटा गया. नाबालिग को दो दिन तक अवैध तरीके से जेल में रखा गया और पीटा गया. पुलिस टॉर्चर में घायल और बाद में अस्पताल में भर्ती कराए गए राजासिंह नाम के एक शख्स ने पुलिस की बर्बरता के बारे में बताया. राजासिंह ने न्यायिक टीम को बताया कि पुलिसवालों ने उसे एक बेंच पर लेटा दिया. फिर ‘फ्रेंड्स ऑफ पुलिस’ के कार्यकर्ता उसकी टांगों पर बैठ गए. किसी ने उसका सिर और हाथ पकड़ लिए. फिर दो पुलिसवालों ने उसे पीटा. राजासिंह ने इंस्पेक्टर श्रीधर पर पिटाई का ऑर्डर देने का आरोप लगाया.

मजिस्ट्रेट ने दूर से देखकर रिमांड पर भेजा!

रिपोर्ट में कहा गया है कि हिरासत में लोगों को लाठियों से पीटा गया. सूत्र ने बताया कि मजिस्ट्रेट के सामने पेश करने से पहले गिरफ्तार किए गए सभी लोगों को डराया गया. उनसे चुप रहने को कहा गया. पेशी के दौरान मजिस्ट्रेट सरवनन ने गिरफ्तार लोगों को दूर से देखा और रिमांड पर भेज दिया. जयराज और बेनिक्स के परिवार ने भी कहा कि सरवनन ने ऊपर से देखकर ही दोनों को रिमांड पर भेज दिया था.

टॉर्चर किए लोगों को जेल में डाला, इलाज भी नहीं कराया

सूत्र के हवाले से इंडियन एक्सप्रेस ने लिखा है कि राजासिंह को पिटाई के बाद कोविलपट्टी सब जेल में भेज दिया गया. जबकि उसे अस्पताल भेजा जाना चाहिए था. बता दें कि 20 जून को जयराज और बेनिक्स को गंभीर हालत में इसी जेल में रखा गया था. दो दिन बाद दोनों की मौत हो गई थी. इस मामले में कोविलपट्टी सब जेल के सुपरिटेंडेंट की भूमिका भी सवालों के घेरे में है. उन्होंने जेल नियमों की अनदेखी की. अगर वे नियमों के अनुसार, घायलों को अस्पताल भिजवाते तो उनकी जान बचाई जा सकती थी.


Video: तमिलनाडु: पुलिस स्टेशन में पूछताछ के लिए ऑटो ड्राइवर को बुलाया, हिरासत में मारपीट से मौत का आरोप

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

गैंगस्टर आनंदपाल एनकाउंटर के बाद हुई हिंसा के लिए CBI ने चार्जशीट में किस-किस का नाम जोड़ा है?

एनकाउंटर की सीबीआई जांच की मांग को लेकर हिंसा हुई थी.

क्या अरुणाचल में चीन भारतीय सीमा में 50 किलोमीटर तक घुस गया है?

बीजेपी सांसद ने यह दावा किया है.

पतंजलि का कोरोनिल लॉन्च करने वाले डॉक्टर ने दवा की सबसे बड़ी गड़बड़ी बता दी!

मरीज़ों को केवल कोरोनिल नहीं दी गई थी.

पैंगोंग और गलवान के बाद लद्दाख के इन इलाकों में चीन नई मुसीबत खड़ी कर रहा है

भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ता ही जा रहा है.

राजस्थान में महाराणा प्रताप को लेकर फिर से हंगामा क्यों हो रहा है?

फिर से राजस्थान बोर्ड का सिलेबस चर्चा में है.

पतंजलि ने खांसी-सर्दी की दवा के लाइसेंस पर 'कोरोना की दवा' बना दी!

जारी हो गया है नोटिस

जिस वीडियो में भारत-चीन के सैनिक एक-दूसरे पर मुक्के बरसा रहे हैं, उसका सच क्या है?

वीडियो कब का है, कहां का है?

इंग्लैंड टूर से पहले पाकिस्तान के तीन क्रिकेटर कोविड पॉज़िटिव

अहम टूर से पहले पाकिस्तान को लगा झटका.

पटना के बैंक में दिन-दहाड़े 52 लाख रुपए की डकैती

अपराधियों ने बैंक में लगे CCTV की हार्ड डिस्क तोड़ दी.

अब लद्दाख की पैंगोंग झील के पास चीन की हरकत, भारतीय क्षेत्र में बना रहा है बंकर

सैटेलाइट इमेज एक्सपर्ट की बातें यही इशारा कर रही हैं.