Submit your post

Follow Us

सुशांत के दोस्त का आरोप, एक्टर के परिवार ने रिया के खिलाफ बोलने का दबाव बनाया

सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड केस में लगातार नए अपडेट्स आ रहे हैं. सुशांत के पिता केके सिंह ने रिया के खिलाफ पटना में केस दर्ज करवाया, फिर रिया ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई की मामले की जांच मुंबई में ही हो. रिया ने कहा कि केस को प्रभावित करने की कोशिश हो रही है. अब सुशांत के एक दोस्त सिद्धार्थ पिठानी के एक ईमेल के बारे में पता चला है. रिपोर्ट्स की मानें, तो सिद्धार्थ का कहना है कि सुशांत के परिवार ने रिया के खिलाफ बोलने के लिए उन पर दबाव बनाया था.

मेल में और क्या पता चला?

‘इंडिया टुडे’ के दिव्येश सिंह और साहिल जोशी की रिपोर्ट के मुताबिक, 28 जुलाई को सुशांत के दोस्त और क्रिएटिव कॉन्टेंट मैनेजर सिद्धार्थ ने बांद्रा पुलिस को एक ईमेल भेजा. सूत्रों के हवाले से पता चला है कि सिद्धार्थ ने उस ईमेल में लिखा है कि सुशांत के परिवार ने उन पर रिया के खिलाफ गलत बयान देने के लिए दबाव बनाया था.

सिद्धार्थ ने लिखा कि उन्हें सुशांत के जीजा और सीनियर IPS अधिकारी ओपी सिंह का फोन आया था. 22 जुलाई को. ये एक कॉन्फ्रेंस कॉल थी, जिसमें ओपी सिंह के साथ सुशांत की बहन मीतू सिंह भी शामिल हुई थीं, और एक तीसरा व्यक्ति भी था. सिद्धार्थ से रिया के बारे में और सुशांत और रिया के साथ रहने के दौरान होने वाले खर्चों के बारे में सवाल किए गए थे.

इसके बाद सिद्धार्थ को 27 जुलाई को दोबारा कॉल आया, ओपी सिंह का. इस समय उनसे कहा गया कि वो बिहार पुलिस को रिया के खिलाफ बयान दें. फिर सिद्धार्थ से ये भी कहा गया कि उन्हें कुछ देर बाद एक और कॉल आएगा. सिद्धार्थ को फिर एक नंबर से वॉट्सऐप कॉल आया. इस नंबर को जब इंडिया टुडे ने चेक किया, तो पता चला कि ये नीलोत्पल मृणाल का है. हालांकि मेल में आगे ये बताया गया कि ये कॉल 40 सेकंड्स के बाद ही कट हो गया और कोई स्टेटमेंट नहीं रिकॉर्ड किया गया. सिद्धार्थ ने अपने मेल में आखिर में लिखा,

“मुझ पर रिया के खिलाफ बयान देने के लिए दबाव बनाया गया, ऐसे मुद्दे पर कहने के लिए दबाव बनाया गया, जिसके बारे में मैं ठीक से जानता भी नहीं हूं.”

फोन पर भी सिद्धार्थ ने बात की

‘इंडिया टुडे’ के आशीष पांडे ने सिद्धार्थ से फोन पर बात की. जिसमें उन्होंने बताया कि वो एक साल से सुशांत को जानते थे. एक ही बिल्डिंग में रहे थे. सिद्धार्थ ने बताया कि वो 16वें फ्लोर पर रहते थे, और सुशांत-रिया 17वें में. एक कॉमन दोस्त के ज़रिए सुशांत से उनकी दोस्ती हुई थी. सिद्धार्थ कहते हैं,

“सुशांत ने मेरा काम देखा था. उन्हें पसंद आया कि किस तरह से मैं कॉन्टेंट बनाता हूं. उन्हें लगा कि मेरा काम उनके लिए भी हेल्पफुल हो सकता है. फिर मैंने उनकी टीम को जॉइन कर लिया. फिल्म मेकिंग और डॉक्यूमेंट्रीज़ वगैरह के लिए. मैं प्रोफेशनली रिया से नहीं जुड़ा था. केवल इतना है कि मैं डायरेक्टर हूं तो मैं उनके एक मिनट के वीडियो यूट्यूब के लिए या इंस्टाग्राम के लिए बनाता था. और कोरोना के वक्त हम सब एकसाथ रहे, तो बस इस दौरान क्रिएटिव होने के लिए हम वीडियो वगैरह बनाते थे.”

जब सिद्धार्थ से पूछा गया कि क्या वो ये जानते थे कि सुशांत और रिया के बीच के रिलेशन कैसे हैं? इसके जवाब में सिद्धार्थ ने कहा कि वो एक लिमिट तक ही सुशांत के दोस्त थे, उनकी पर्सनल लाइफ के बारे में उन्होंने कभी सवाल नहीं किया. उन्होंने कहा कि वो उन दोनों को अपनी स्पेस देते थे.

सुसाइड से पहले क्या सुशांत के बर्ताव में कोई बदलाव दिखाई दिया? इस पर सिद्धार्थ ने कहा कि घटना से पहले वो रात एक बजे सुशांत से आखिरी बार मिले थे, उस वक्त सुशांत दिशा सालियान की मौत से दुखी थे. सिद्धार्थ ने कहा,

“दिशा वाली जो घटना हुई थी, उससे वो काफी अपसेट थे. मीडिया जैसा लिख रही थी, और जिस तरह से सुशांत का नाम सामने आ रहा था, इससे वो बहुत अपसेट थे. दिशा से वो केवल एक ही बार मिले थे. फिर भी मीडिया में ये लिखा जा रहा था कि सुशांत की मैनेजर ने सुसाइड कर लिया, इस बात ने उन्हें दुखी किया था.”

इसके बाद सिद्धार्थ ने बताया कि सुशांत के फैमिली मेंबर्स का उन्हें कॉल आया था, जिस व्यक्ति ने उनसे बात की वो पुलिसवाला था. और उसने सिद्धार्थ से कहा कि वो ये कहें कि रिया ने सुशांत के अकाउंट से 15 करोड़ रुपए खर्च किए हैं. सिद्धार्थ ने आगे कहा,

“लेकिन ये 15 करोड़ के मामले का मुझे बिल्कुल आइडिया ही नहीं है. अगर मेरे पास कोई आइडिया नहीं है, और आप मुझसे कह रहे हो कि मैं गवाही दूं, तो मैं डरूंगा न. क्योंकि मैं वो नहीं कहना चाहूंगा, जिसके बारे में मैं कुछ जानता ही नहीं. इसलिए मैंने सोचा कि मेरा बयान लेने से पहले या मुझसे कुछ कहलवाने से पहले मैं पुलिस को बस जानकारी दे दूं. इन्वेस्टिगेटिंग ऑफिसर (IO) जो मुंबई में हैं, उन्हें बता दूं.”

सिद्धार्थ ने कहा कि अभी वो बिहार पुलिस के कॉन्टैक्ट करने का इंतज़ार कर रहे हैं. ये भी कहा कि वो अपनी तरफ से जांच में पूरी मदद करेंगे.

कौन हैं सिद्धार्थ पिठानी?

रिपोर्ट्स के मुताबिक, सिद्धार्थ, सुशांत के दोस्त थे और उनके लिए क्रिएटिव कॉन्टेंट मैनेजर के तौर पर भी काम कर रहे थे. अक्टूबर 2019 से जनवरी 2020 तक सुशांत के साथ काम नहीं कर रहे थे, लेकिन सुशांत ने सिद्धार्थ और उनकी टीम को इस साल जनवरी में वापस बुला लिया था.

सुशांत ने एक कंपनी शुरू की थी, ‘विविड्रेज रिहेलिटीक्स (Vividrage RhealityX)’ नाम से. कंपनी वर्चुअल रियलिटी कॉन्टेंट (VR) डेवलप करने का काम कर रही थी और सिद्धार्थ को इसी काम के लिए बुलाया गया था. इसके अलावा सुशांत कुछ और प्रोजेक्ट्स की भी प्लानिंग कर रहे थे, जिसमें काम करने के लिए सिद्धार्थ को बुलाया गया था.

सुशांत ने सिद्धार्थ से कहा था कि वि लॉकडाउन के दौरान उनके साथ ही रहें, ताकि वो कॉन्टेंट पर बात कर सकें.


वीडियो देखें: सुशांत के पिता के वकील ने बताया, रिया पर पटना में फिर से FIR क्यों करानी पड़ी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ईरान ने समुद्री डाकुओं को रिहा किया और 11 भारतीय नाविकों को तस्कर बताकर जेल में डाल दिया!

ढाई महीने हो गए, कहीं कोई खोज ख़बर नहीं.

सुशांत सिंह राजपूत के पिता ने रिया चक्रवर्ती के ख़िलाफ FIR दर्ज़ करवाई

सुशांत ने 14 जून को सुसाइड कर लिया था.

अयोध्या में 5 अगस्त के भूमि पूजन को लेकर क्या-क्या तैयारियां चल रही हैं

रामलला की पोशाक से लेकर अयोध्या में रंग-रोगन तक की सारी बातें.

कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को हड़काया, दिल्ली दंगे में पिंजरा तोड़ पर ऐसी बयानबाज़ी क्यों?

पुलिस ने क्या जवाब दिया, वो भी देखिए.

जिस मेट्रो स्टेशन के नीचे दंगे हुए, 5 महीने बाद भी दिल्ली पुलिस ने वहां से CCTV फ़ुटेज नहीं निकाली!

कोर्ट ने कहा, 'पुलिस में अजीब-सी सुस्ती है वीडियो फ़ुटेज को लेकर'

मास्क बांटने के बहाने बच्चे को किडनैप किया, चार करोड़ मांगे, पुलिस ने 24 घंटे में पकड़ लिया

यूपी के गोंडा का मामला, पांच आरोपी भी गिरफ्तार.

चुनाव आयोग ने बीजेपी IT सेल से जुड़ी कंपनी से चुनावी कामधाम करवाया!

ये कम्पनी पूर्व महाराष्ट्र सरकार और दूसरे सरकारी विभागों का भी काम देख रही थी.

इंडिया में कोरोना की वैक्सीन का दाम पता चल गया है, लेकिन पैसे आपको नहीं देने होंगे!

क्या कहा बनाने वाले आदर पूनावाला ने?

बाइक चला रहे CJI बोबड़े पर ट्वीट करने पर twitter और वकील प्रशांत भूषण पर अवमानना का केस हो गया!

सुनवाई में ट्वीट डिलीट करने की बात पर कोर्ट ने क्या कहा?

जाटों-पंजाबियों को बिना बुद्धि का बोलकर माफ़ी मांगने लगे बीजेपी के सीएम

और कौन? वही त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब.