Submit your post

Follow Us

'चारदीवारी के भीतर अनुसूचित जाति/जनजाति का अपमान SC/ST एक्ट के तहत अपराध नहीं'

सुप्रीम कोर्ट ने SC/ST एक्ट को लेकर बेहद महत्वपूर्ण फैसला सुनाया है. सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा,

‘किसी इमारत की चारदीवारी के भीतर अगर कोई अनुसूचित जाति/जनजाति के व्यक्ति का अपमान करता है या उसे डराता धमकाता है तो इसे अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम, 1989 के तहत अपराध नहीं माना जाएगा’.

मामला क्या है?

‘इंडियन एक्सप्रेस’ में छपी रिपोर्ट के अनुसार मामला उत्तराखंड निवासी हितेश वर्मा का है. इन पर एक महिला ने SC-ST एक्ट के तहत मामला दर्ज करवाया था. हितेश वर्मा ने हाईकोर्ट में मांग की थी कि इस एक्ट के तहत दर्ज चार्जशीट रद्द की जाए, लेकिन हाईकोर्ट नहीं माना. इसी को हितेश वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में चैलेन्ज किया था.

मामले की सुनवाई जस्टिस हेमंत गुप्ता, एल नागेश्वर राव, और अजय रस्तोगी की बेंच कर रही थी. इन्होंने कहा कि मामला जमीन को लेकर हुए विवाद का है. ये बात खुद आरोप लगाने वाली महिला ने स्वीकार की है.

बेंच ने कहा कि इस जमीनी विवाद की वजह से अपीलकर्ता (हितेश वर्मा) और उनके साथ के लोग प्रतिवादी (आरोप लगाने वाली महिला) को उस जमीन पर खेती नहीं करने दे रहे थे. ये मामला जायदाद के मालिकाना हक़ का है और सिविल कोर्ट में पेंडिंग है. इस मामले को लेकर कोई भी विवाद SC/ST एक्ट के तहत तब तक दर्ज नहीं किया जा सकता जब तक विक्टिम को सिर्फ उसके SC/ST समुदाय की होने की वजह से अपमानित न किया गया हो.

FIR में क्या है?

रिपोर्ट के अनुसार दिसंबर 2019 में दर्ज हुई FIR में SC समुदाय की महिला ने आरोप लगाए थे कि हितेश वर्मा और उनके साथ के लोग उसे खेत में काम नहीं करने दे रहे थे. उसे और उसके साथ काम करने वाले मजदूरों के साथ गाली गलौज कर रहे थे. यही नहीं, जहां वो घर बनवा रही थी, वहां से कंस्ट्रक्शन का सामान भी उठा ले गए थे. FIR में महिला ने आरोप लगाए थे कि हितेश वर्मा ने उसके खिलाफ जातिसूचक शब्दों का प्रयोग किया.FIR के मुताबिक़ घटना महिला के घर में हुई थी. वहां कोई दूसरा व्यक्ति मौजूद नहीं था.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पब्लिक की नज़र में आने वाली किसी जगह पर अपमानजनक शब्द बोले जाने वाला नियम यहां लागू नहीं होता. SC/ST एक्ट का लक्ष्य अगड़ी जाति के लोगों द्वारा समाज के पिछड़े समुदाय के लोगों के अपमान के लिए की गई हरकतों को, जो पिछड़ों की जाति/समुदाय की वजह से की गई हैं, को दंडित करना है. इस मामले में जब पार्टियों ने सिविल अदालत में मामला दर्ज करा दिया है, तो वो पहले ही कानूनी प्रक्रिया का सहारा ले रहे हैं.

बेंच ने कहा कि FIR में जो दूसरे मामले दर्ज हैं, उनमें अपीलकर्ता के ऊपर कार्रवाई जारी रहेगी.

क्या कहता है अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम, 1989?

मामले में जो आरोप लगे हैं, उनके लिए अधिनियम कहता है:

कोई भी व्यक्ति जो अनुसूचित जाति/जनजाति का सदस्य नहीं है वो अगर जनता को दृष्टिगोचर किसी स्थान में अनुसूचित जाति/ जनजाति के सदस्य का अपमान करने के आशय से साशय (जानबूझकर) उसे अपमानित करेगा या डराएगा धमकाएगा, तो उसे कम से कम छह महीने और अधिकतम पांच साल का कारावास और जुर्माने की सजा दी जा सकती है.


वीडियो: ‘शिनाख्त परेड’ क्या होती है, जिसकी वैधता को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी की है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

US प्रेजिडेंट की कुर्सी के करीब बाइडेन, ट्रंप पहुंचे कोर्ट ...पर ट्विस्ट कभी भी आ सकता है

US प्रेजिडेंट की कुर्सी के करीब बाइडेन, ट्रंप पहुंचे कोर्ट ...पर ट्विस्ट कभी भी आ सकता है

अब साफ हो रही थोड़ी तस्वीर.

मथुरा के मंदिर में नमाज पढ़ने पर हंगामा हुआ तो पुलिस ने दिल्ली से किया गिरफ्तार

मथुरा के मंदिर में नमाज पढ़ने पर हंगामा हुआ तो पुलिस ने दिल्ली से किया गिरफ्तार

मंदिर में नमाज पढ़ने पर क्या कहा, ये भी जान लीजिए

तुर्की और ग्रीस में 7.0 तीव्रता का भूकंप, 19 की मौत, 700 से अधिक घायल

तुर्की और ग्रीस में 7.0 तीव्रता का भूकंप, 19 की मौत, 700 से अधिक घायल

इस भूकंप के कारण सुनामी भी आई.

कॉलेज से लौटती लड़की को सरेआम गोली मारी, परिवार ने 'लव जिहाद' का आरोप लगाया

कॉलेज से लौटती लड़की को सरेआम गोली मारी, परिवार ने 'लव जिहाद' का आरोप लगाया

दोनों आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं.

ऑस्ट्रेलिया टूर की टीम से क्यों बाहर हुए रोहित शर्मा?

ऑस्ट्रेलिया टूर की टीम से क्यों बाहर हुए रोहित शर्मा?

अनाउंस हुई टीम इंडिया, मिला नया उपकप्तान.

कोयला घोटालाः अटल सरकार में मंत्री रहे दिलीप रे को तीन साल की जेल हो गई है

कोयला घोटालाः अटल सरकार में मंत्री रहे दिलीप रे को तीन साल की जेल हो गई है

मामला 21 साल पुराना है.

क्या कहता है बिहार का पहला ओपिनियन पोल: NDA को मिलेगा बहुमत? नीतीश फिर बनेंगे सीएम?

क्या कहता है बिहार का पहला ओपिनियन पोल: NDA को मिलेगा बहुमत? नीतीश फिर बनेंगे सीएम?

लोकनीति और CSDS के ओपिनियन पोल की बड़ी बातें एक नजर में.

बिहार चुनाव में जितने उम्मीदवारों पर क्रिमिनल केस हैं, उससे ज्यादा तो करोड़पति हैं

बिहार चुनाव में जितने उम्मीदवारों पर क्रिमिनल केस हैं, उससे ज्यादा तो करोड़पति हैं

आपराधिक छवि वालों की इतनी तादाद से साफ है कि दलों को लगता है, 'दाग' अच्छे हैं

बीजेपी विधायक ने कहा- अगर राहुल 'छेड़छाड़' वाली बात साबित कर दें, तो मैं इस्तीफा दे दूंगा

बीजेपी विधायक ने कहा- अगर राहुल 'छेड़छाड़' वाली बात साबित कर दें, तो मैं इस्तीफा दे दूंगा

राहुल ने खबर शेयर की थी जिसमें लिखा था-बीजेपी विधायक रेप के आरोपी को थाने से छुड़ा ले गए.

बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

एसटीएफ की टीम ने लखनऊ से पकड़ा. बलिया पुलिस को हैंडओवर करेगी.