Submit your post

Follow Us

उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की पत्नी सलमा को अब्बा ने इंडिया क्यों भेजा था?

सलमा अंसारी. देश के उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की पत्नी. लेकिन इनकी पहचान बस इतनी ही नहीं है. सलमा अलग-अलग मुद्दों पर अपनी बेबाक राय रखती हैं. हालांकि उनके बयान हर बार उनको विरोधियों के निशाने पर ला देते हैं.

कल उन्होंने ट्रिपल तलाक की बहस में कूदते हुए कहा,

‘कुरान में तीन तलाक जैसी कोई चीज है ही नहीं. औरतों को कुरान पढ़ना चाहिए. मुसलमान औरतों को इस मुद्दे पर भटकाया जा रहा है. तीन तलाक जबर्दस्ती का बनाया हुआ मुद्दा है. तलाक तलाक तलाक कहने से कोई तलाक नहीं होता. जो औरतें इसके पक्ष में बोल रही हैं, उन्होंने कुरान पढ़ी तक नहीं है.’

ये बयान उन्होंने अलीगढ़ के एक मदरसे में दिया था. सलमा का पूरा बयान सुनने के लिए ये वीडियो देखिए:

सलमा अंसारी का अलीगढ़ से यहां तक का सफर:

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक,

बचपन में सलमा विद्रोही सोच वाली लड़की थीं, वो बड़ी होकर लंदन में बस जाना चाहती थीं. रायटर बनना चाहती थीं और अपने लिए पैसे खुद कमाना चाहती थीं. वो जिंदगी भर सिंगल रहना चाहती थीं और एक कुत्ता पालना चाहती थीं जो हमेशा उनका साथ देता. 

वो 60 का दशक था. सलमा अपने पापा के साथ इराक में रहती थीं. उनके पापा यूएन के एक मिशन पर थे.

सलमा के पापा को लगने लगा कि उनकी बेटी के विचार वेस्टर्न कल्चर का असर बहुत ही ज्यादा पड़ रहा है. उन्होंने सलमा को अलीगढ़ के गर्ल्स कॉलेज में पढ़ने भेज दिया ताकि भारत की संस्कृति और संस्कारों को समझ सकें.

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में एक किताब का विमोचन करतीं सलमा
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में एक किताब का विमोचन करतीं सलमा

सलमा अलीगढ़ में बिताए दिनों को याद कर बताती हैं,

‘अलीगढ़ बहुत ही बंद ख्यालात वाली जगह थी. लेकिन मैंने अपने कॉलेज में लड़-भिड़कर स्टूडेंट यूनियन बनवाया. इलेक्शन भी करवाए. प्रेसीडेंट चुनी गई. मैंने औरतों के हर मुद्दों और दिक्कतों को उठाया.’

कॉलेज के बाद सलमा की शादी आईएफएस ऑफिसर हामिद अंसारी से हुई. 1998 में सलमा ने एक चैरिटेबल ट्रस्ट बनाया. अल-नूर. ये ट्रस्ट लड़कियों की शिक्षा के लिए काम कर रहा है.

सलमा के कुछ और बयान, जिस पर लोगों ने गुस्सा दिखाया:

# बच्चियों को मार डालना चाहिए:

11 फरवरी 2011 को सलमा ने कहा था कि लड़कियों को पैदा होते ही मार डालना चाहिए. उनके मुताबिक लोग लड़कियों से बहुत बुरा बर्ताव करते हैं. उनके साथ कितने तरह के अत्याचार होते हैं. ऐसे में अच्छा होगा कि मां-बाप उनके जन्मते ही जहर दे दें.

एमिटी यूनिवर्सिटी में बच्चियों के साथ सलमा फोटो: एमिटी यूनिवर्सिटी की वेबसाइट
एमिटी यूनिवर्सिटी में बच्चियों के साथ सलमा, फोटो: एमिटी यूनिवर्सिटी की वेबसाइट

# महिला आरक्षण किसी काम का नहीं:

30 मार्च 2010 को उन्होंने बोला था कि सरकार इतनी सारी योजनाएं बनाती तो है, लेकिन वो औरतों तक पहुंच नहीं पातीं. औरतों की शिक्षा का स्तर सुधारना पड़ेगा. महिला आरक्षण का क्या फायदा, जब औरतें इसका लाभ ही नहीं ले पातीं.

# ओम बोलने में क्या दिक्कत है:

23 मई 2016 को बोला कि ओम के उच्चारण में किसी को क्या दिक्कत है. ओम बोलने से ऑक्सीजन मिलती है. योग दिवस के बाद से ही ओम बोलने पर बहसें चल रही थी. इसी के विरोध में सलमा ने बोला था कि योग की वजह से ही उनकी सेहत अच्छी है.

पुष्कर के मंदिर में पूजा-पाठ करतीं सलमा. वीडियो नवंबर 2011 का है.


ये भी पढ़ें:

गर्भवती, ‘तीन तलाक’ की शिकार औरत मोदी से कुछ कहना चाहती है

शौहर ने कहा तलाक तलाक, चीफ जस्टिस को खून से खत लिखकर मांगी मरने की इजाजत

ट्रिपल तलाक के विक्टिम खोज रहे लोग यहां आएं

कोर्ट में नहीं चलेगा मुस्लिम मर्दों का तीन तलाक सिस्टम

हैदराबाद की एक औरत को सबसे घटिया तरीके से दिया गया तलाक

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या सोशल डिस्टेंसिंग से चूकने की इतनी बुरी सज़ा देगी पुलिस?

किसी एक पुलिसवाले का ऐसा करना बाकियों की मेहनत पर पानी फेर देता है.

उदयपुर में एक ही दिन में कोरोना वायरस के 58 केस सामने आए

राजस्थान में मरीज़ों की संख्या तीन हज़ार से ऊपर पहुंच चुकी है.

सूरत: BJP कार्यकर्ता पर आरोप, घर पहुंचाने के नाम पर मजदूरों से पैसे लिए, टिकट मांगने पर पीटा!

एक अन्य वीडियो में BJP पार्षद के भाई टिकट के ज्यादा पैसे लेते दिखे.

जिस फ़ैक्टरी से निकली गैस ने तबाही मचाई, उसे क्लीयरेंस ही नहीं मिला था!

आबादी के बीच बना रहे थे स्टायरीन प्रोडक्ट.

रेड जोन में भी जल्द से जल्द लॉकडाउन खत्म करने के पक्ष में क्यों हैं मोंटेक सिंह अहलूवालिया?

बोले- लॉकडाउन की वजह से सबसे ज्यादा प्रभावित गरीबों के लिए सरकार योजना लाए.

राहुल गांधी बोले- कोरोना से लड़ाई में एक मजबूत PM काफी नहीं, कई मजबूत CM और DM की जरूरत

कहा- सरकार को 17 मई के बाद लॉकडाउन खोलने के लिए स्ट्रैटेजी तय करनी ही होगी.

थके हुए मज़दूर रेल की पटरी पर सो रहे थे, मालगाड़ी से कुचलकर 16 की मौत

सुबह मजदूरों के शव पटरी पर बिखरे पड़े थे.

कोरोनावायरस : दिल्ली के इस ट्रॉमा सेंटर का हाल देखकर आप माथा पीट लेंगे!

संक्रमण फैल रहा, लेकिन अस्पताल बोल रहा है कि ड्यूटी करो.

सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार ने बताया, दूसरे आर्थिक पैकेज में क्या मिलेगा

चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर कृष्णमूर्ति सुब्रह्मण्यम ने कोरोना संकट से निकलने का प्लान बताया.

विशाखापटनम में कंपनी से जहरीली गैस के रिसाव के बाद कैसे थे हालात, तस्वीरों में देखिए

अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है. हजारों लोग प्रभावित हुए हैं.