Submit your post

Follow Us

सोनम कपूर ने पूछा- 'पटाखे क्यों चलाए, दिवाली है क्या?' और ट्रोल्स उनके पीछे पड़ गए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता से अपील की थी कि 5 अप्रैल को रात 9 बजे लोग घर की लाइटें बंद करके दीये, कैंडल, टॉर्च जलाएं. 9 मिनट के लिए. ताकि कोरोना के खिलाफ लड़ रहे डॉक्टर, नर्स, पुलिसकर्मियों, सफाईकर्मियों और मीडिया वालों का मनोबन बना रहे.

लेकिन लोग सिर्फ दीया, मोमबत्ती जलाने पर नहीं रुके. उन्होंने पटाखे फोड़े, कागज़ की लालटेन उड़ाईं, मशाल रैली निकली. ऐसे लोगों पर नाराजगी जाहिर करते हुए सोनम कपूर ने दो ट्वीट किए. इसके बाद उन्हें बुरी तरह ट्रोल किया जाने लगा. प्रोड्यूसर अशोक पंडित भी सोनम से ट्विटर पर ही भिड़ गए.

क्या थे सोनम के ट्वीट

पूरा मसला समझने से पहले सोनम के ट्वीट्स देख लेते हैं. सोनम ने 5 अप्रैल की रात को दो ट्वीट किए थे. पहले ट्वीट में लिखा,

लोग पटाखे फोड़ रहे हैं, सिर्फ आपकी जानकारी के लिए, वो कुत्तों को बाहर निकाल रहे हैं. क्या लोगों को ये दीवाली लग रही है? मैं बहुत कंफ्यूज हूं.

दूसरे ट्वीट में लिखा,

यहां पूरी तरह से शांति और शांत माहौल था. अब दक्षिण दिल्ली में पक्षी, कुत्ते परेशान हैं. शोर-शराबा सुनाई दे रहा है, क्योंकि कुछ मूर्खों ने आज रात पटाखे फोड़ने का फैसला किया है.

सोनम फिलहाल साउथ दिल्ली में रुकी हुई हैं. यहां उनके पति आनंद आहूजा का घर है.

ट्रोल हो गईं सोनम

इन ट्वीट्स के बाद उन्हें ट्रोल किया जाने लगा. लोग उनकी दीवाली की फोटो और वीडियो खोज लाए. लोग पूछने लगे कि वो दिवाली पर पटाखे क्यों चलाती हैं? लोग उन्हें फ्रस्ट्रेटेड बताने लगे.

अपनी दिवाली वाली तस्वीरों पर सोनम ने लिखा, मुझे खुशी है कि आप कॉमन सेंस देखते हैं. हर चीज का एक समय और स्थान होता है.

अशोक पंडित और सोनम की बहस- सोनम के ट्वीट पर न सिर्फ ट्रोल्स ने उन्हें टारगेट किया. बल्कि फिल्म प्रोड्यूसर अशोक पंडित की भी सोनम से बहस हो गई. सोनम के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए अशोक पंडित ने लिखा,

सोनम जी पटाखे सेलेब्रेशन के दौरान जलाए जाते हैं और केवल दिवाली पर नहीं. लोग इस मुश्किल वक्त में खुश रहने की कोशिश कर रहे हैं. कम से कम वह तबलीगी जमात की तरह वायरस तो नहीं फैला रहे. काश, आप पटाखे फोड़ने की बजाय आतंकवाद के इस कृत्य की निंदा करतीं.

इसके जवाब में सोनम कपूर ने लिखा,

सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी है अशोक जी. यह भी सुनिश्चित करना कि कोई सांप्रदायिक घुसपैठ नहीं हो. जिससे सरकार अच्छे काम करने पर फोकस कर सके, जिस तरह वह कर रही है. मुझे विश्वास है कि आप मुझसे सहमत हैं. आप एक समझदार व्यक्ति हैं जो अच्छा और दयालु होने में विश्वास करते हैं.

इस पर अशोक पंडित ने रिएक्ट करते हुए लिखा,

हम सभी को अपने और दूसरों के लिए सामाजिक दूरी बनाए रखनी होगी. तबलीगी जमात और उसके आतंकवादी कृत्य पर आपकी प्रतिक्रिया का अब भी इंतजार है. वह बहुत सी मौत के जिम्मेदार हैं. वह आतंकवादी हैं. आप उनकी निंदा करें.

अशोक पंडित के जवाब में सोनम कपूर ने लिखा,

मैं हवा में तीर नहीं छोड़ रही. जैसा मैंने पहले कहा था कि सामाजिक दूरी बहुत जरूरी है. और जो भी उसे फॉलो नहीं करता चाहे वह हिंदू हो या मुस्लिम, सिख हो या ईसाई वह सब गलत हैं. मुझे लगता है कि आप सहमत होंगे. आपको और भी कई जरूरी काम होंगे. मुझे लगता है कि अब हम दोनों ने अपनी बातें रख दी हैं. 

इसपर अशोक पंडित ने लिखा,

चलिए इसका सामान्यीकरण नहीं करते हैं और असली अपराधियों की तरफ उंगलियां नहीं उठाते हैं. हम सबने आसाराम बापू, राम रहीम के खिलाफ आवाज उठाई. जब दूसरे धर्मों की बात आती है, तो भी यही उम्मीद की जाती है. अपराधी अपराधी है. दिन अच्छा बीते.

इसके बाद सोनम का कोई रिप्लाई नहीं आया. हालांकि सोनम अकेली नहीं हैं, जिन्होंने दीए जलाने की जगह इस तरह जश्न मनाने का विरोध किया हो. ऋचा चड्ढा, तापसी पन्नू, रणवीर सौरी और अनुराग कश्यप ने भी ट्विटर पर ऐसा करने वाले लोगों को लताड़ लगाई.


Video : कोरोना के खिलाफ लड़ाई में इस तरह मदद करेंगे शाहरुख खान

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

20 अप्रैल से कौन-कौन से लोग अपना काम-धंधा शुरू कर सकते हैं?

और खाने-पीने के सामान को लेकर सरकार ने क्या कहा?

लॉकडाउन के बीच ज़रूरी सामान भेजना है? बस एक कॉल पर हो जाएगा काम

रेलवे अधिकारियों ने शुरू की है 'सेतु' सर्विस.

सड़क पर मजदूरों संग खाना खाने वाले अर्थशास्त्री ने सरकार को कमाल का फॉर्मूला सुझाया है

कोरोना और लॉकडाउन ने मजदूर को कहीं का नहीं छोड़ा.

सरकार की नई गाइडलाइंस, जानिए किन इलाकों में, किन लोगों को लॉकडाउन से छूट

कोरोना से निपटने के लिए लॉकडाउन पहले ही बढ़ाया जा चुका है.

टेस्टिंग किट की बात पर राहुल गांधी ने भारत की तुलना किन देशों से की?

कहा, 'हम पूरे खेल में कहीं नहीं हैं.'

चीन से भारत के लिए चली टेस्टिंग किट की खेप अमरीका निकल गयी!

और अभी तक भारत में नहीं शुरू हो पाई मास टेस्टिंग.

कोरोना: मरीजों की खातिर बेड और लैब के लिए कितना तैयार है भारत, PM मोदी ने बताया

लॉकडाउन बढ़ाने के अलावा पीएम ने क्या-क्या कहा?

15 अप्रैल को लॉकडाउन-2 की जो गाइडलाइंस आनी हैं, उनमें क्या-क्या हो सकता है

पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ चुका है.

सुप्रीम कोर्ट ने बता दिया है कि किन लोगों का कोरोना वायरस टेस्ट फ्री में होगा

प्राइवेट लैब भी नहीं ले सकेंगे इनसे पैसा.

PM CARES Fund पर लगातार उठ रहे सवाल, अब हिसाब-किताब की होगी जांच

वकील ने PM Cares फंड को रद्द करने की मांग की है.