Submit your post

Follow Us

आकाश विजयवर्गीय पर मोदी बहुत नाराज़ हुए, उतना ही जितना साध्वी प्रज्ञा पर हुए थे!

लोकसभा चुनाव के बाद पहली बार बीजेपी की संसदीय दल यानी पार्लियामेंट्री बोर्ड की बैठक हो रही है. इस बैठक में पीएम मोदी ने इंदौर वाली घटना पर सख्त नाराजगी जताई है. उन्होंने कैलाश विजयवर्गीय और उनके बेटे का नाम लिए बिना बैठक में कहा-

ऐसी घटना से मुझे बहुत नाराजगी हुई. ये नहीं होना चाहिए. चाहे किसी का भी बेटा हो, मंत्री या सांसद किसी का भी. उनको पार्टी से बाहर निकाल देना चाहिए.

जबकि दूसरी तरफ कैलाश विजयवर्गीय ने इस घटना पर जिस तरह से बयान दिया वो कुछ और ही इशारे करता है. कैलाश विजयवर्गीय ने अपने बेटे का “कच्चा खिलाड़ी” बताया. इंदौर वाली घटना पर बात करते हुए उन्होंने कहा-

ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. मुझे लगता है आकाश और नगर निगम के कमिश्नर दोनों पक्ष कच्चे खिलाड़ी हैं. यह एक बड़ा मुद्दा नहीं था, लेकिन इसे बहुत बड़ा बना दिया गया. मुझे लगता है कि अधिकारियों को अहंकारी नहीं होना चाहिए. उन्हें जनप्रतिनिधियों से बात करनी चाहिए. मैंने इसकी कमी देखी है. दोनों को समझना चाहिए, ताकि ऐसी घटना दोबारा न हो.

कैलाश विजयवर्गीय की नज़र में ये बड़ी घटना नहीं थी. ना ही इस घटना का मलाल आकाश विजयवर्गीय को है. क्योंकि जेल से बाहर आने पर जब उनसे पूछा गया कि इस घटना पर आप क्या कहेंगे, तब उन्होंने कहा था –

मुझे इस घटना पर कोई अफसोस नहीं है. उस वक्त की जो परिस्थिति थी उसको देखते हुए मुझे जो करना था वो मैंने सोच समझकर ज़िम्मेदारी के साथ किया. उस वक्त एक विक्लांग महिला को पैर पकड़ कर घर से बाहर निकाला जा रहा था. भरी बारिश में एक गरीब परिवार को बेघर किया जा रहा था. इसीलिए मैंने जो किया उसे लेकर मुझे कोई अफसोस नहीं है.

जेल से निकलने के बाद आकाश विजयवर्गीय का भव्य स्वागत हुआ था.
जेल से निकलने के बाद आकाश विजयवर्गीय का भव्य स्वागत हुआ था.

अब मामले का फौरी रिकैप

दरअसल इंदौर नगर निगम की एक टीम गंजी कंपाउंड में एक जर्जर मकान गिराने पहुंची थी. इस बात की जानकारी आकाश विजयवर्गीय को दी गई. आकाश इसी इलाके से विधायक हैं और कैलाश विजयवर्गीय के बेटे भी. मकान गिराने की बात पर आकाश की निगम अधिकारी भिड़ंत हो गई. उन्होंने अधिकारी को बल्ले से पीट दिया.

इस मामले में बाद में आकाश की गिरफ्तारी हुई. फिर रविवार को उन्हें ज़मानत मिल गई. अब चूंकि इस मामले पर पीएम मोदी ने कड़ी आपत्ति जता दी है. बात पार्टी से निकालने तक पहुंच गई है. तो देखना है कि आकाश विजयवर्गीय पार्टी से निकाले जाएंगे या नहीं.

वैसे पीएम की कड़ी आपत्ति से एक घटना याद आई. भोपाल से बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने गोडसे को लेकर आपत्तिजनक बयान दिया था. उस पर भी पीएम ने कड़ा रुख अख्तियार किया था. साथ ही ये भी कहा था कि वो उन्हें दिल से कभी माफ नहीं कर पाएंगे.

बीजेपी की पार्लियामेंट्री बोर्ड की बैठक संसद भवन की लाइब्रेरी के सभागार में हो रही है. जिसमें बीजेपी के लोकसभा और राज्यसभा के सभी 380 सांसद मौजूद हैं. इस बैठक की अध्यक्षता पीएम मोदी कर रहे हैं, जो सभी सांसदों के साथ आगे का एजेंडा तय करेंगे.


वीडियो- इन 10 बातों से पता चलता है कि आकाश विजयवर्गीय नए जमाने के असली नेता हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

'मिर्ज़ापुर 2' की रिलीज़ डेट आते ही 'मेमे' वालों की बमचक हो गई

कालीन भैया ने बताया कब आ रहा है मिर्ज़ापुर.

राहुल गांधी कहते हैं कि हमारी बीजेपी से सांठगांठ है... सिब्बल ने लिखा, फिर ट्वीट डिलीट कर दिया

23 नेताओं के पत्र के बाद सोनिया ने कर दिया ये ऐलान

सूरज पंचोली ने इंस्टाग्राम से अपने सारे पोस्ट डिलीट क्यों कर दिए?

पूजा भट्ट ने भी बीते दिनों अपना इंस्टाग्राम अकाउंट प्राइवेट कर लिया था.

इस तारीख़ तक पता चल जाएगा कि अयोध्या में बाबरी मस्जिद गिराने में किन लोगों ने साज़िश रची थी?

किन-किन नेताओं का नाम आता है इस मामले में?

प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट से माफ़ी मांगने ने इनकार क्यों किया?

अपनी सफाई में प्रशांत ने क्या कहा है?

गावस्कर ने बताया- गांगुली, धोनी, विराट में से किसकी टीम है बेस्ट

बताई ऐसी बात, जिसके दम पर टीम कहीं भी मार सकती है मैदान

कोविड-19 की वजह से महिला का गर्भपात हो गया! स्टडी से सामने आईं चौंकाने वाली जानकारी

गर्भ में भ्रूण को कोरोना से बचाने के लिए ये काम करना है बेहद जरूरी

सुनील गावस्कर की नज़र में कौन है टीम इंडिया के दो सबसे बेहतरीन क्रिकेटर?

गावस्कर ने खुलकर बताया इनके आगे और कोई खिलाड़ी नहीं है.

IIT बॉम्बे ने कॉन्वोकेशन में स्टूडेंट्स के डिजिटल अवतार उतार दिए, सोशल मीडिया बौरा गया

इस यूनीक कॉन्वोकेशन पर IIT बॉम्बे ने क्या कहा?

वक़ील ने स्वरा भास्कर पर केस चलाने की परमिशन मांगी, केंद्र सरकार के इस बड़े अधिकारी ने मना कर दिया

1 फ़रवरी, 2020 को क्या कहा था स्वरा भास्कर ने?