Submit your post

Follow Us

सेना ने माना, शोपियां एनकाउंटर में जवानों ने किया AFSPA का दुरुपयोग

इसी साल जुलाई में जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में सेना के साथ एक मुठभेड़ में तीन लोग मारे गए थे. इस एनकाउंटर पर सवाल उठ रहे थे. आरोप लगाए जा रहे थे कि सेना ने आतंकियों की बजाय अन्य लोगों को निशाना बनाया. अब आर्मी ने माना है कि इस दौरान सैनिकों ने आर्म्ड फोर्सेस स्पेशल पावर्स एक्ट (AFSPA) के तहत मिली शक्तियों की सीमा लांघी. इस मामले में अनुशासनात्मक कार्यवाही शुरू करने के आदेश दिए गए हैं.

शोपियां में ये एनकाउंटर 18 जुलाई को हुआ था. शुरुआत में मामले की जांच के दौरान कहा गया था कि शोपियां के एम्सिपोरा में तीन अज्ञात आतंकी मारे गए हैं. तीनों की शिनाख्त राजौरी के इम्तियाज अहमद, अबरार अहमद और मोहम्मद इबरार के रूप में की गई थी.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऑपरेशन के बाद इन लोगों के परिवार और स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया था कि जो इस एनकाउंटर में मारे गए हैं, वो तीनों चचेरे भाई थे और शोपियां में मजदूरी करते थे.

 

कोर्ट ऑफ इनक्वायरी बैठाई गई थी

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, इन सभी आरोपों के बाद सेना की तरफ से एनकाउंटर को लेकर कोर्ट ऑफ इनक्वायरी बैठाई गई थी. इसमें प्रथम दृष्टतया ये निकलकर सामने आया है कि जवानों ने इस दौरान आर्म्ड फोर्सेस स्पेशल पावर्स एक्ट (AFSPA) की शक्तियों का फायदा उठाया.

श्रीनगर में रक्षा प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने कहा कि आतंकवाद विरोधी अभियानों के दौरान नैतिक आचरण के लिए प्रतिबद्ध सेना ने सोशल मीडिया पर आई उन रिपोर्ट के बाद जांच शुरू की, जिसमें दावा किया गया था कि जम्मू के राजौरी जिले के रहने वाले तीन व्यक्ति अमशीपुरा से लापता पाए गए थे.

जांच चार सप्ताह के भीतर पूरी कर ली गई. सेना ने एक बयान में कहा कि जांच से कुछ निश्चित साक्ष्य सामने आए हैं, जो दर्शाते हैं कि अभियान के दौरान AFSPA, 1990 के तहत निहित शक्तियों का दुरुपयोग किया गया. साथ ही उच्चतम न्यायालय द्वारा स्वीकृत सेना प्रमुख की ओर से तय नियमों का उल्लंघन किया गया. नतीजतन, सक्षम अनुशासनात्मक प्राधिकरण ने पहली नजर में जवाबदेह पाए गए सैनिकों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही शुरू करने का निर्देश दिया गया है.


नवरुणा कांड में खुद पर लगने वाले आरोपों को लेकर क्या बोले गुप्तेश्वर पांडेय?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

हरसिमरत कौर बादल ने किसानों से जुड़े मुद्दे को लेकर मोदी सरकार से इस्तीफा दिया

हरसिमरत कौर केंद्र सरकार में फूड प्रॉसेसिंग इंडस्ट्रीज मिनिस्टर थीं.

20 सैनिकों की मौत के बाद भारत सरकार ने चीन में मौजूद बैंक से कई हज़ार करोड़ रुपए उधार लिए

सरकार ने ये जानकारी दी तो कांग्रेस ने इसे हथियार बना लिया

संसद सत्र से पहले दो जगह कराई कोरोना जांच, रिपोर्ट देखकर चकरा गए सांसद महोदय

मॉनसून सत्र से पहले हुई जांच में 17 MP कोविड पॉजिटिव मिले हैं.

बिहार: 70 साल के इस शख्स ने दशरथ मांझी जैसा काम कर दिया है

और इस नेक काम में उन्हें 30 साल लगे.

कोरोना से ठीक होने के बाद अगले कुछ दिनों तक क्या करें, स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया

प्रोटोकॉल जारी किया है, पढ़ लें.

पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह का एम्स में निधन

तीन दिन पहले लालू की पार्टी छोड़ी थी.

दिल्ली दंगा: पुलिस ने कहा-चार्जशीट में योगेंद्र यादव और येचुरी का नाम है पर आरोपी के रूप में नहीं

मीडिया में चल रही खबरों पर दिल्ली पुलिस ने स्थिति स्पष्ट की है.

जो काम खुद बाल ठाकरे करते थे, शिवसेना वालों ने उसी के लिए एक्स नेवी ऑफिसर को पीट दिया!

पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

क्या यूपी में कोविड किट खरीद में घोटाला हुआ है? जांच के लिए SIT बनी

बीजेपी नेताओं ने ही घोटाले का आरोप लगाया है. ताजा मामला सहारनपुर से आया है.

जोकोविच ने अंपायर को गेंद मार घायल किया, उसके बाद जो हुआ वो क्रिकेट फैन्स के लिए सीख है

और इंडिया के बड़े सुपरस्टार्स के लिए भी.