Submit your post

Follow Us

सेरो सर्वे की मानें, तो ठीक होने के बाद दोबारा हो सकता है कोरोना!

कोरोना के समय हर जगह सेरो सर्वे चल रहा है. इस सेरो सर्वे में एक खास बात पता चली है. बात ये कि कोरोना से रिकवर किए बहुत सारे लोगों में एंटीबॉडी नहीं मिली है. 

नेशनल सेंटर फ़ॉर डिज़ीज कंट्रोल (NCDC) ने जुलाई के महीने में 208 लोगों का डेटा जुटाया था. ये लोग पहले कोविड पॉज़िटिव हो चुके थे, फिर ठीक हो गए. इनमें से 97 लोगों में एंटीबॉडी नहीं मिली. इसका क्या मतलब है? जानकारों का मानना है कि कोरोना से पैदा हुई रोग-प्रतिरोधक क्षमता कुछ ही देर के लिए शरीर में मौजूद थी. ये रोग प्रतिरोधक क्षमता शायद कुछ दिनों बाद शरीर से चली गयी. 

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अधीन आने वाले NCDC ने ये भी कहा है कि दिल्ली में रहने वाले लोगों के भीतर रोग-प्रतिरोधक क्षमता शायद कम देर के लिए है. ऐसा इसलिए, क्योंकि यहां दिल्ली, नोएडा और गुड़गांव से लोग आते-जाते रहते हैं.

लोगों में एंटीबॉडी न मिलने का क्या मतलब है

शरीर में जब भी कोई वायरस या बैक्टीरिया आ जाता है और इंफ़ेक्शन होने लगता है, तो शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता उस इंफ़ेक्शन को ख़त्म करने का काम करती है. उसके लिए शरीर उस वायरस या बैक्टीरिया को मारने के लिए अपने सिपाही भेजता है. इन सिपाहियों को कहा जाता है, एंटीबॉडी.

अमूमन देखा गया है कि इंफ़ेक्शन तो ख़त्म हो जाता है, लेकिन ये सिपाही डटे रहते हैं. ताकि बाद में वही वायरस या बैक्टीरिया शरीर में आएं, तो फिर से उन्हें ख़त्म किया जा सके.

ऐसे में एंटीबॉडी न मिलने का मतलब? एक कारण तो NCDC ने ही बताया है कि सम्भव है कि कोविड के खिलाफ़ बनी इम्यूनिटी की लाइफ़ छोटी है. और दूसरा कारण कि शरीर में कोरोना वायरस की मात्रा, जिसे वायरल लोड कहते हैं, वो ही कम हो. ऐसी परिस्थिति में शरीर में कम एंटीबॉडी बनेंगी और जल्द शरीर से ग़ायब भी हो जाएंगी.

तो क्या फिर से इंफ़ेक्शन हो सकता है

ऐसा कह सकते हैं. हॉन्गकॉन्ग और अमेरिका में कोविड का इलाज कराकर ठीक हो चुके कुछ लोगों में फिर से इंफ़ेक्शन देखने को मिला है. लेकिन अभी तक ये साफ़ नहीं है कि उनमें एंटीबॉडी थी या नहीं. लेकिन जानकारों का मानना है कि एंटीबॉडी के होने से शरीर में पहली लाइन ऑफ़ डिफ़ेंस तो मौजूद ही रहती है, न होने से रिस्क ज़्यादा है.

तो करें क्या?

घबराने से तो कुछ होगा नहीं. ऐसे में ख़याल रखिए ख़ुद का और अपनों का. सावधानी बरतिए. दिक़्क़त हो तो टेस्ट कराइए, और जल्द से जल्द इलाज की दिशा में आगे बढ़िए.


लल्लनटॉप वीडियो : ICMR ने जनसंख्या के आधार पर जो सेरो सर्वे किया था, उसकी कुछ बातें गौर करने वाली हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

BJP जॉइन करने पहुंचा गैंगस्टर, पुलिस को देखते ही नौ दो ग्यारह हो गया

उस पर छह मर्डर समेत 50 से ज्यादा मामले दर्ज हैं.

रिया चक्रवर्ती ने रास्ता रोकने वाले मीडिया कर्मियों के खिलाफ पुलिस कंम्प्लेन की है

रिया चक्रवर्ती से सुशांत मामले में सीबीआई पूछताछ कर रही है.

जनसंहार के बीच 1200 लोगों की जान बचाई थी, अब सरकार ने आतंकी बताकर अरेस्ट कर लिया है

पॉल के ऊपर 'होटल रवांडा' फिल्म बन चुकी है.

IPL2020 की टीवी रेटिंग्स को लेकर सौरव गांगुली ने क्या कहा है?

बिना फैंस के पहली बार होगा IPL2020.

कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए प्रणब दा को दी गई अंतिम विदाई

राष्ट्रपति, पीएम, सीएम समेत कई बड़े नेताओं ने श्रद्धांजलि दी

आठ महीने से जेल में बंद कफील खान की रिहाई पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने क्या फैसला दिया?

कफील खान पर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में भड़काऊ भाषण देने का आरोप था.

सुरेश रैना ने पंजाब पुलिस से मदद मांगी, बताया- परिवार पर हमला हुआ, फूफा और भाई मारे गए

रैना IPL 2020 छोड़कर दुबई से भारत आ गए थे.

बीजेपी का दावा, 'मन की बात' पर आए लाखों डिसलाइक एक्ट ऑफ़ 'बॉट' हैं

स्टूडेंट्स की समस्याओं से इनका कोई रिश्ता नहीं है.

कोरोना के डर के बीच कैसे हो रही है JEE की परीक्षा, तस्वीरों में देखिए

विरोध के बाद भी तारीख आगे नहीं बढ़ाई गई.

सुरेश रैना के बाहर होते ही गौतम गंभीर ने धोनी से क्या मांग कर दी?

फैंस भी कुछ ऐसा ही चाहते हैं.