Submit your post

Follow Us

कांशीराम के जमाने के नेता, जिन्होंने बसपा में 30 साल दिए, पार्टी छोड़ते हुए बड़ी बात कह दी!

बसपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष आरएस कुशवाहा 17 अक्टूबर को सपा में शामिल हो गए. अखिलेश यादव की मौजूदगी में उन्होंने समाजवादी पार्टी जॉइन की. उनके साथ बसपा के और भी कई नेताओं ने सपा जॉइन की. इनमें पूर्व सांसद कादिर राणा, राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के प्रदेश अध्यक्ष हरि किशोर तिवारी शामिल रहे.

आरएस कुशवाहा ने कहा –

“आज मैं अपने तमाम साथियों के साथ सपा में शामिल हो रहा हूं. सपा की विचारधारा को स्वीकार करते हुए आज हम एक साथ आ रहे हैं. लखीमपुर से मैं विधायक रहा हूं. जिस तरह से अब वहां किसानों पर गाड़ी चढ़ा दी जा रही है, आज सभी लोग वहां त्रस्त हैं. सब मौके की तलाश में हैं कि कब उन्हें मौका मिले और कब सपा की सरकार बनवा दें.”

आरएस कुशवाहा बसपा के उन नेताओं में से रहे हैं, जो कांशीराम के समय के हैं. अब पार्टी छोड़ने पर उन्होंने कहा –

“बसपा में मैने 30 साल तक काम किया, लेकिन आज पार्टी अपने मूल विचार से, बाबा साहेब के नारे से भटक गई है. इसीलिए आज एक-एक करके सब पुराने साथी दुखी होकर सपा में आ रहे हैं, बड़ी तादाद में आ रहे हैं.”

आरएस कुशवाहा 2002 से 2007 तक निघासन से विधायक रहे. फिर 2010 से 2016 तक लखीमपुर खीरी से MLC रहे. मई 2018 से अगस्त 2019 तक बसपा के प्रदेश अध्यक्ष रहे. वे ओबीसी समाज से आते हैं और लखीमपुर खीरी के ही रहने वाले हैं. UP में कुशवाहा, मौर्या, शाक्य सैनी के बीच आरएस कुशवाहा की अच्छी पकड़ मानी जाती है.

2 और बसपाई सपा में जा सकते हैं

बता दें कि बसपा से निष्कासित नेता लालजी वर्मा और रामअचल राजभर भी समाजवादी पार्टी जॉइन कर सकते हैं. दोनों नेताओं ने हाल ही में अखिलेश यादव से मुलाकात की थी. इसके बाद कयासबाजी तेज है कि दोनों जल्द सपा से जुड़ सकते हैं. ये दोनों नेता भी कांशीराम से लेकर मायावती तक के करीबियों में शुमार रहे. 2017 तक समीकरण इन दोनों नेताओं के पक्ष में थे. तभी इनको विधायकी का टिकट मिला भी और दोनों ने भाजपा के जबरदस्त प्रदर्शन के बीच सीट भी निकाली. लेकिन फिर पंचायत चुनाव के बीच इनकी पार्टी से ठन गई. पुराने नेताओं का बसपा से जाना लगातार जारी है.

कांशीराम के समय के नेताओं का जाना

पहले भी बसपा के तमाम ऐसे नाम रहे हैं, जो कांशीराम के समय से पार्टी के साथ थे, लेकिन मायावती के कमान संभालने के बाद सभी बाहर होते गए. आरके चौधरी, नसीमुद्दीन सिद्दीकी, स्वामी प्रसाद मौर्य, सोनेलाल पटेल, रामवीर उपाध्याय, जुगल किशोर, बृजेश जयवीर सिंह और इंद्रजीत सरोज जैसे नेताओं की लंबी-चौड़ी लिस्ट है.

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी के प्रॉफेसर विवेक कुमार ने इस विषय पर The Lallantop से बात करते हुए कहा था कि कांशीराम ने पैन इंडिया लेवल से को-ऑर्डिनेटर तैयार किए थे. पंजाब से हरभजन लाखा, महाराष्ट्र से सुरेश माने वगैरह. UP से भी उन्होंने ऐसे नेता तैयार किए जो अच्छी-ख़ासी अपील रखते थे. लेकिन मायावती के आने के बाद ये ट्रेंड बदल गया. को-ऑर्डिनेटर UP से ही निकलने लगे. बाकी राज्यों की भूमिका कम हुई. कांशीराम की तरह नेता तैयार करने का चलन कम हुआ और पावर सेंटर एक होने से तमाम नेताओं ने धीरे-धीरे अपनी प्रासंगिकता खो दी.


ललितपुर में नाबालिग ने लगाया परिवारवालों और सपा-बसपा के नेताओं पर गैंगरेप का आरोप

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा?