Submit your post

Follow Us

नोटबंदी का सबसे बड़ा तर्क आज लुड़ुस हो गया

नोटबंदी सही कदम था या गलत, ये अब तक यक्ष प्रश्न था. कोई ठोस जानकारी थी ही नहीं, इसलिए हर कोई अपने हिसाब से तुक्के लगाता था. लेकिन 30 अगस्त, 2017 को जारी हुई रिज़र्व बैंक की वार्षिक रिपोर्ट में नोटबंदी का पूरा गणित पब्लिक कर दिया गया है. नोटबंदी के बाद ये पहला मौका है कि रिज़र्व बैंक ने सटीक आंकड़े जारी किए हैं.

इस रिपोर्ट के मुताबिक 1000 रुपए के नोटों में से सिर्फ 1.3 फीसदी ऐसे थे, जो रिज़र्व बैंक को वापस नहीं मिले.

नोटबंदी का शुरुआती लॉजिक यही था कि जिनके पास 1000 और 500 के नोटों की शक्ल में काला धन जमा है, वो नए नोटों के चलते चलन से बाहर हो जाता. इस हिसाब से चलन से बाहर हुए नए जारी हुए नोटों के अंतर को (कैश) काला धन मान लिया जाता. अनुमान था कि काला धन ज़्यादातर 1000 के नोटों की शक्ल में था. इसीलिए 1.3% का आंकड़े ने कई लोगों को हैरान किया.

यूपीए के ज़माने में वित्तमंत्री रहे पी चिदंबरम ने बिना देर किए एक ट्वीट भी चेंप दियाः

 

रिज़र्व बैंक की रिपोर्ट की मोटा-माटी बातें जानें:

# 8 नवंबर को जब नोटबंदी हुई, तब देश में 1000 रुपए के 67 करोड़ नोट चलन में थे.

# नोट बदलने की कवायद पूरी होने के बाद इन 67 करोड़ नोटों में से सिर्फ 8 करोड़ 90 लाख नोट वापस नहीं आए.

# नोटबंदी के बाद नए नोटों की किल्लत को लेकर रिज़र्व बैंक को खूब कोसा गया था. रिपोर्ट के मुताबिक नोटबंदी के बाद के महीनों में रिज़र्व बैंक ने 2,380 करोड़ नोट जारी किए. इनकी कुल कीमत 5.54 लाख करोड़ थी.

 

रिज़र्व बैंक के कुछ कर्मचारियों ने नोटबंदी को उनकी बदनामी का कारण बताया था
रिज़र्व बैंक के कुछ कर्मचारियों ने नोटबंदी को उनकी बदनामी का कारण बताया था

 

# मार्च 2017 के अंत में देश के बाज़ारों में कुल 13.1 लाख करोड़ का कैश सर्कुलेट हो रहा था. ये आंकड़ा पिछले साल की तुलना में 20.2% कम है.

# रिज़र्व बैंक ने साल 2016-17 में नोट छापने पर 7,965 करोड़ रुपए खर्च किए. पिछले साल ये खर्च 3,420 करोड़ था. इस साल हुए खर्च का बड़ा हिस्सा 500 और 2000 के नए नोट छापने में इस्तेमाल हुआ.

# नोटबंदी से पहले देश का 86.4% कैश 500 और 1000 के नोटों की शक्ल में मौजूद था. नोटबंदी के बाद 500 और 2000 रुपए के नोटों (माने बड़े नोटों) का देश के कैश में हिस्सा 73.4% पर आ गया था.

# मार्च 2017 के अंत तक 2000 के नोटों का शेयर देश के कुल कैश में 50.2% था.

इस सब पर सरकार का पक्ष रखने वित्तमंत्री अरुण जेटली ने एक प्रेसकॉन्फ्रेंस भी की. लगभग पूरे नोटों के वापस आ जाने पर उन्होंने कहा कि नोटबंदी का लक्ष्य नोटों को ज़ब्त करना नहीं था. भारत की अर्थव्यवस्था कैश आधारित है, और इसे बदलने की ज़रूरत है. कैश का चलन 17% नीचे आया भी है. सरकार का अगला लक्ष्य चुनावों में लगने वाले काले धन को खत्म करना है.


ये भी पढ़ेंः

200 रुपए के नोटों का ये खास फीचर आपको कभी पैसों की कमी नहीं होने देगा!

500 के नोटों में सिल्वर स्ट्रिप अलग-अलग जगह है, जानिए कौन सा असली है

पहली बार उर्जित पटेल ने सरकार को दिखाया कि RBI गवर्नर वो हैं

‘मैं धारक को मूर्ख बनाने का वचन देता हूं’

नोटबंदी के फैसले को लागू करने से ‘अपमानित’ हो गए RBI के एम्प्लॉइज

 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

हफ़्ते भर कोरोना-फ़्री हुआ था ये देश, अब हो गयी चौचक गड़बड़

बस वही, न्यूज़ीलैंड की बात है

मैच तो दोबारा शुरू करा लेंगे, लेकिन इस नई प्रॉब्लम का क्या करेंगे क्रिकेट बोर्ड?

हर टीम गेम में हो रही है ये समस्या.

युवी ने फर्स्ट चांस देने वाले सलेक्टर्स को कहा- थैंक्स, भज्जी बोले- आखिरी सलेक्टर्स को क्या कहोगे?

युवी ने बिना कहे ही एमएसके प्रसाद पैनल के लिए सबकुछ कह दिया.

सुशांत के जाने पर रवीना टंडन ने वो सब बता दिया जो वो इतने साल तक झेलती रहीं

रवीना ने कहा, 'इंडस्ट्री में डर्टी पॉलिटिक्स होती है'.

'दबंग' डायरेक्टर ने सलमान पर गंभीर आरोप लगाए, उनके भाई अनुराग कश्यप ने अपना पक्ष लिख दिया

अभिनव कश्यप ने कहा था कि सलमान, अरबाज़ और सुहैल ने उनका करियर बर्बाद कर दिया.

सलमान के साथ काम कर चुकी एक्ट्रेस ने कोरोना जांच के लिए उनसे मदद मांगी

2018 में सलमान ने उनका टीबी का इलाज कराया था.

'दबंग' के डायरेक्टर ने कहा कि सलमान खान, अरबाज़ और सुहैल ने उनका करियर बर्बाद कर दिया

बड़ी तफसील में सब लिखा है कि कब क्या हुआ. कहा, 'सुशांत की तरह हार नहीं मानूंगा'.

रोहित, गेल या डीविलियर्स, विराट की ये खासियत इनमें से किसी के पास नहीं!

विराट की एवरेज 50 से ऊपर क्यों है, राज़ खुल गया.

'उड़ान' फेम एक्टर ने सुशांत मामले पर पूछा, '10 सालों में कितने लोगों ने मेरी पर्सनल ग्रोथ की परवाह की?'

'सुशांत पर तब क्यों नहीं बोले जब वो इस स्थिति से गुज़र रहे थे?'

सैफ अली खान ने सुशांत सिंह राजपूत के लिए बॉलीवुड में उमड़े 'प्यार' पर बड़ी बात बोल दी है

सैफ का नज़रिया बाकियों से थोड़ा अलग है.