Submit your post

Follow Us

PMC बैंक पर आरबीआई ने बड़ी राहत दी है

पंजाब और महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक के कस्टमर्स अब अपने खाते से 10 हजार रुपए निकाल सकते हैं. भारतीय रिजर्व बैंक यानी RBI ने 26 सितंबर को खाताधारकों के लिए निकासी की सीमा बढ़ा दी. इससे पहले आरबीआई ने 23 सितंबर को एक नोटिस जारी किया. इसमें कहा गया था कि बैंक के कस्टमर 6 महीने तक 1000 रुपए से ज्यादा नहीं निकाल पाएंगे. आरबीआई के इस फैसले के बाद खाता धारकों की परेशानी बढ़ गई थी. बैंक की शाखाओं के बाहर विरोध प्रदर्शन और लंबी कतारें लग गईं. मुंबई में बैंक के खिलाफ केस दर्ज कराने के लिए कुछ लोग थाने पहुंच गए.

पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक की स्थापना 1984 में हुई थी. सात राज्यों में इस बैंक की 137 शाखाएं हैं. महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 103 शाखाएं हैं. दिल्ली में 6, गोवा में 6, गुजरात में 5 मध्य प्रदेश में दो और कर्नाटक में 15 शाखाएं हैं. बैंक की 2018-19 की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक, मार्च 2019 तक बैंक के 51,601 सदस्य हैं. बैंक के पास 11,600 करोड़ रुपये जमा है. इस रिपोर्ट के मुताबिक, बैंक ने कुल 8,300 करोड़ का कर्ज दे रखा है. बैंक की अलग-अलग ब्रांच में 1814 लोग काम करते हैं. बैंक का टोटल इनकम 1297 करोड़ था. नेट प्रॉफिट 100 करोड़ का हुआ.लेकिन गड़बड़ियों के चलते आरबीआई ने बैंक पर कुछ पाबंदियां लगा दी.

पाबंदी लगने के बाद पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक के एमडी जॉय थॉमस. का बयान आया है. इसमें कहा गया है, ‘हमें आरबीआई के नियमों के उल्‍लंघन का खेद है. अगले 6 महीने तक हमारे ग्राहकों को मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है. एमडी के तौर पर मैं इसकी जिम्‍मेदारी लेता हूं. इसके साथ ही सभी जमाकर्ताओं को यह सुनिश्चित करता हूं कि 6 महीने से पहले हम अपनी कमियों को सुधार लेंगे. इसके बाद प्रतिबंधों को हटाने के लिए सभी प्रयास किए जाएंगे. मुझे पता है कि यह आप सभी के लिए एक मुश्किल समय है. मुझे यह भी पता है कि कोई भी माफी इस दर्द को खत्‍म नहीं कर सकती है. आप सभी से अपील है कि कृपया हमारे साथ रहें और सहयोग करें. हम विश्वास दिलाते हैं कि जल्‍द इस स्थिति से उबरेंगे और मजबूत होंगे.


पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक से आरबीआई क्योंं लोगों को 1000 रुपये से ज्यादा नहीं निकालने दे रही?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

20 अप्रैल से कौन-कौन से लोग अपना काम-धंधा शुरू कर सकते हैं?

और खाने-पीने के सामान को लेकर सरकार ने क्या कहा?

लॉकडाउन के बीच ज़रूरी सामान भेजना है? बस एक कॉल पर हो जाएगा काम

रेलवे अधिकारियों ने शुरू की है 'सेतु' सर्विस.

सड़क पर मजदूरों संग खाना खाने वाले अर्थशास्त्री ने सरकार को कमाल का फॉर्मूला सुझाया है

कोरोना और लॉकडाउन ने मजदूर को कहीं का नहीं छोड़ा.

सरकार की नई गाइडलाइंस, जानिए किन इलाकों में, किन लोगों को लॉकडाउन से छूट

कोरोना से निपटने के लिए लॉकडाउन पहले ही बढ़ाया जा चुका है.

टेस्टिंग किट की बात पर राहुल गांधी ने भारत की तुलना किन देशों से की?

कहा, 'हम पूरे खेल में कहीं नहीं हैं.'

चीन से भारत के लिए चली टेस्टिंग किट की खेप अमरीका निकल गयी!

और अभी तक भारत में नहीं शुरू हो पाई मास टेस्टिंग.

कोरोना: मरीजों की खातिर बेड और लैब के लिए कितना तैयार है भारत, PM मोदी ने बताया

लॉकडाउन बढ़ाने के अलावा पीएम ने क्या-क्या कहा?

15 अप्रैल को लॉकडाउन-2 की जो गाइडलाइंस आनी हैं, उनमें क्या-क्या हो सकता है

पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ चुका है.

सुप्रीम कोर्ट ने बता दिया है कि किन लोगों का कोरोना वायरस टेस्ट फ्री में होगा

प्राइवेट लैब भी नहीं ले सकेंगे इनसे पैसा.

PM CARES Fund पर लगातार उठ रहे सवाल, अब हिसाब-किताब की होगी जांच

वकील ने PM Cares फंड को रद्द करने की मांग की है.