Submit your post

Follow Us

वो कांग्रेसी जिसने राहुल गांधी को नेता मानने से इनकार कर दिया था

” मैं राहुल गांधी को नेता नहीं मानता हूं. उन्हें तब तक नेता नहीं मानूंगा, जब तक जनता उन्हें नेता नहीं मानती. राहुल गांधी तो अभी सीख रहे हैं नेतागिरी. “

ये शब्द हैं हंसराज भारद्वाज के. हंसराज भारद्वाज, पूर्व कानून मंत्री और राज्यपाल. अब वो इस दुनिया में नहीं रहे. 8 मार्च, 2020 को उनका निधन हो गया.हार्ट अटैक से. वो 83 साल के थे. तबीयत काफी दिनों से नाज़ुक बनी हुई थी.

कांग्रेस के इस सीनियर नेता की निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा कांग्रेस और बीजेपी के सीनियर नेताओं ने शोक प्रकट किया. पीएम मोदी ने ट्वीट किया,

अन्य नेताओं ने भी हंसराज भारद्वाज के लिए ट्वीट किया.

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट किया ,

“हंसराज भारद्वाज के निधन की खबर सुनकर बहुत दु:ख हुआ. जो लंबे वक्त भारत के कानून मंत्री रहे. हम संसद में साथ रहे. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे.”

कौन थे हंसराज भारद्वाज ?

17 मई, 1937. हरियाणा के रोहतक में जन्मे. कांग्रेसी नेता थे. 2009 से 2014 तक कर्नाटक के गर्वनर रहे. इसी दौरान 2012 -13 में केरल के गर्वनर भी रहे. इनके नाम एक रिकॉर्ड भी है. ये सबसे ज्यादा समय तक कानून मंत्री रहने वाले दूसरे शख्स हैं, अशोक कुमार सेन के बाद. नौ साल कानून राज्य मंत्री रहे. कैबिनेट में कानून मंत्री भी रहे.

1982 में भारद्वाज पहली बार राज्यसभा पहुंचे. लगातार तीन बार राज्यसभा सांसद बने. 1984 से 1989 तक कानून राज्यमंत्री रहे. 22 मई, 2004 में केंद्रीय कानून मंत्री बने.

कांग्रेसी उनसे खासे परेशान रहते थे. उसकी तीन मुख्य वजहें हैंः

एकः 2-G घोटाला

साल 2014 . कांग्रेस की हार के बाद केंद्र में मोदी सरकार आई. इसके बाद नवंबर 2014 में आज तक न्यूज चैनल से हंसराज भारद्वाज ने बात की थी. उसमें उन्होंने कहा था कि 2-G घोटाला चिदंबरम का किया धरा है . इसमें पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की कोई गलती नहीं है. भारद्वाज ने चिदंबरम पर आरोप लगाया था. और कहा था कि सिब्बल ने वही किया जो चिदंबरम चाहते थे. चिदंबरम खुद पीएम बनना चाहते थे. और डीएमके से उनकी सांठगांठ थी. भारद्वाज ने बताया था कि मनमोहन सिंह ने इस मामले में सोच-समझकर फैसला लेने के लिए कहा था. लेकिन पी चिदंबरम खुद को बॉस समझते थे. उन्होंने डीएमके के साथ मिलकर 2-G घोटाले को अंजाम दिया. इस तरह के बयानों ने कांग्रेसियों को संकट में डाल दिया था.

दोः धर्म की राजनीति

धर्म की राजनीति. सब करते हैं. लेकिन हर नेता इसका समर्थन दे, यह जरूरी नहीं. इसी तरह के नेता थे हंसराज भारद्वाज. उनका मानना था कांग्रेस के असफल होने के पीछे उसकी धर्म की लेकर की जा रही राजनीति है. इस बात ने बवाल खड़ा कर दिया था.

तीन: न्यायपालिका पर दबाव डालने की बात

साल 2016. वॉशिंगटन पोस्ट को हंसराज भारद्वाज ने इंटरव्यू दिया था. कांग्रेस पर आरोप लगाया. कहा कि कानून मंत्री रहने के दौरान उनके साथियों ने उनसे न्यायपालिका पर दबाव डालने के लिए कहा था.


यह स्टोरी हमारे साथ इंटर्नशिप कर रहे बृज ने लिखी है


वीडियो देखें: उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी होगी गैरसैंण लेकिन इसकी कहानी क्या है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मां नहीं रही, बेटे इरफान खान विदेश में फंसे हैं, अंतिम संस्कार में भी नहीं आ पाए

कैंसर के इलाज के कारण विदेश में हैं.

संबित पात्रा के गलत ट्वीट पर फरीदाबाद पुलिस ने जवाब दिया, फिर ट्वीट डिलीट क्यों कर दिया?

आशा वर्कर्स की पिटाई को लेकर संबित पात्रा ने ट्वीट किया था.

ओडिशा, मेघालय और बॉम्बे हाईकोर्ट के ये नए चीफ जस्टिस पहले क्या करते थे?

एक मौजूदा वक्त में भी चीफ जस्टिस हैं.

चीन के वैज्ञानिक ने बताया, 'भारत की अमेरिका वाली हालत होने वाली है'

अमेरिका में 8.5 लाख से ज़्यादा लोग बीमार हैं.

नशीले पदार्थों को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने अब कौनसा बड़ा फैसला दिया है?

नशीले पदार्थों की शुद्धता नहीं, उनकी मात्रा के हिसाब से तय होगी सजा

कोरोना काल के बाद दुनिया कैसे बदल जाएगी, इस दिग्गज बिजनेस पत्रकार ने बताया

ई-कॉन्क्लेव में बिजनेस जर्नलिस्ट मार्टिन वुल्फ ने महामारी के बाद की अर्थव्यवस्था पर बात की.

इस साल अमरनाथ यात्रा होगी या नहीं?

कैंसिल करने वाला आदेश अपलोड हुआ, फिर मिनटों में डिलीट हो गया.

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी कोरोना के मामलों को छिपा रही हैं?

डॉक्टर क्या कह रहे हैं?

कोरोना: चीन से आई रैपिड टेस्ट किट में गड़बड़ी, ICMR ने इस्तेमाल पर रोक लगाई

भारत ने पांच लाख किट पिछले सप्ताह ही मंगाई थी.

लॉकडाउन : नीतीश कुमार ने बिहारी मज़दूरों को भूखा क्यों छोड़ दिया?

लल्लनटॉप से बातचीत में प्रशांत किशोर ने क्या कहा?