Submit your post

Follow Us

ओडिशा लौटने वाले लोगों की क्वारंटीन सेंटर में हो रही है हेल्थ वर्कर वाली ट्रेनिंग

पलायन के दौर में जो प्रवासी ओडिशा लौट रहे हैं, उन्हें राज्य सरकार ने हेल्थ वर्कर के रूप में बेसिक ट्रेनिंग देनी शुरू की है. पंचायत स्तर पर क्वारंटीन सेंटर में ये ट्रेनिंग सेशन हो रहे हैं. लौटने के बाद उन्हें यहां रखा जाता है. इसके अलावा राज्य सरकार उन लोगों को 150 रुपए रोज़ देगी जो क्वारंटीन सेंटर में हेल्थ से जुड़े कामों में हाथ बंटाते हैं. कहा गया है कि ये बतौर सम्मान दिया जाएगा.

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पंचायती राज-पेय जल विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी डीके सिंह ने बताया,

हमें पता था कि हज़ारों नहीं बल्कि लाखों प्रवासी वापस आएंगे. सरकार ने पंचायतों को शामिल करने का फैसला किया और उन्हें क्वारंटीन सेंटर बनाने की ज़िम्मेदारी दी गई. हम उन्हें अस्थायी मेडिकल कैंप कह रहे हैं. अभी तक करीब सात हज़ार पंचायतों में हमने करीब 15,000 कैंप बनाए हैं. बेड क्षमता 6 लाख के करीब है. फिलहाल एक लाख लोग इनमें हैं लेकिन ये संख्या रोज़ बढ़ रही है.

उन्होंने कहा,

हमने सोचा जब यहां लोग ठहरे हैं तो ये अच्छा होगा कि इन्हें न सिर्फ कोविड बल्कि कई मुद्दों के बारे में बताया जाए. तो हमने UNICEF को शामिल किया. पहले वो पंचायत अधिकारियों, सिविल सोसायटी के लोगों, आशा-आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को ट्रेनिंग दे रहे हैं. फिर ये लोग बाहर से लौटने वाले लोगों को ट्रेनिंग दे रहे हैं.

हेल्थ वर्कर लोगों को जागरुक करेंगे

गंजम ज़िले के डीएम विजय कुलांगे ने कहा,

पैंतालीस हज़ार से ज़्यादा लोग अब तक गंजम आ चुके हैं . हमने रेलवे स्टेशन पर काउंटर सिस्टम बना रखा है. वो प्रवासियों की स्क्रीनिंग करते हैं. रजिस्ट्रेशन करते हैं. स्टांप लगाते हैं. पैक्ड खाना और पानी देते हैं. इसके बाद बस से उन्हें क्वारंटीन सेंटर लाया जाता है.

डीएम ने बताया कि सुबह इन लोगों की फिजिकल ट्रेनिंग होती है. नाश्ते के बाद COVID-19 पर क्लास होती है. हम उन्हें कम्युनिटी हेल्थ वर्कर बना रहे हैं. यहां से जाने के बाद भी वो अपने घर, मोहल्ले में हेल्थ वर्कर की तरह काम करेगा. वो लोगों को जागरुक करेगा. उन्होंने बताया कि लंच के बाद ये लोग क्वारंटीन सेंटर में काम करते हैं. शाम को मनोरंजन और इसके बाद डिनर होता है. अगर वो खाना बनाने, क्वारंटीन सेंटर में स्कूल स्थापित करने में मदद करते हैं तो सम्मान के तौर पर 150 रुपए प्रति दिन दिए जाएंगे. ये लोग हमारे मेसेंजर हैं. ओडिशा में कोरोना वायरस के 737 मामले सामने आए हैं और 3 लोगों की मौत हुई है.


पूरी दुनिया कोरोना वारयस से परेशान है, वहीं ओडिशा के इन इलाकों में कुछ अच्छा हुआ!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

चोटिल बेटे को खटिया पर लादकर 900 किमी दूर घर के लिए निकल पड़ा ये मज़दूर

पंजाब से चला था परिवार, मध्य प्रदेश जाना था.

20 लाख करोड़ के राहत पैकेज की आख़िरी किश्त में मनरेगा को 40 हजार करोड़, अन्य को क्या मिला?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सात सेक्टर्स के लिए घोषणाएं कीं.

यूपी: औरैया में दो ट्रक टकराने से 24 मज़दूर मारे गए, योगी ने कई पुलिसवालों को सस्पेंड किया

पीएम मोदी ने घटना पर शोक जताया है.

घर-घर खाना पहुंचाने वाली ये कंपनी 600 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल रही है

राहत वाली बात ये है कि छह महीने तक आधी सैलरी मिलती रहेगी.

बंगाल में हफ्तेभर से क्या बवाल चल रहा है, जिसमें 129 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं

‘तुम कोरोना फैला रहे हो’ कहकर हमला किया, हिंसा भड़की.

लंबे वक्त तक क्रिकेट के नक्शे पर पाकिस्तान को जिंदा रखा था इस जोड़ी ने

वो दिन, जब मिस्बाह-उल-हक़ और यूनिस खान ने क्रिकेट को अलविदा कहा

कश्मीर : चेकप्वाइंट पर गाड़ी नहीं रोकी तो आम नागरिक को CRPF ने गोली मार दी?

क्या है घटना का सच?

रेलवे ने टिकट कटा चुके लोगों को बड़ा झटका दिया है

इसका श्रमिक और स्पेशल ट्रेनों पर क्या असर पड़ेगा?

20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज में से पहले दिन वित्त मंत्री ने क्या-क्या ऐलान किया?

20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की डिटेल दी.

पीएम मोदी ने जिस Y2K क्राइसिस का ज़िक्र किया, वो क्या था?

पीएम ने 12 मई को देश को संबोधित किया.