Submit your post

Follow Us

लोकसभा में बहस हो रही थी, अमित शाह ने ओवैसी को चुप करा दिया!

455
शेयर्स

इस खबर में जिन दो लोगों का नाम है, वे अपने बात करने के तरीकों के लिए जाने जाते हैं. एक तरफ हैं अमित शाह, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके हैं. सांसद हैं. देश के गृहमंत्री हैं. उनके सामने हैं असदुद्दीन ओवैसी. ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन, छोटे में कहें तो AIMIM, के अध्यक्ष और हैदराबाद से सांसद. दोनों ही बेबाक. अपने-अपने राजनीतिक एजेंडे को लेकर मुखर. और आज संसद में दोनों एक दूसरे से उलझ गए. अब ये बहस चर्चा का मुद्दा बनी हुई है.

हुआ क्या था?

लोकसभा में ताज़ातरीन NIA बिल पर बहस हो रही थी. भाजपा इस बिल पर बहुत दिनों से मेहनत कर रही थी. इस बिल की ख़ास बात ये है कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी यानी National Investigation Agency अब कई मामलों में भारत के बाहर भी जाकर जांच कर सकती है. साथ ही साथ किसी संदिग्ध को भी आतंकी घोषित किया जा सकता है. पहले ऐसा नहीं था, जांच होती थी. आरोप सिद्ध होते थे, तभी ऐसा होता था. अब ऐसा नहीं करने की योजना है. ये तो हमने आपको पहले ही बता दिया था.

संसद में आज इस पर बहस हो रही थी. बागपत से सांसद सत्यपाल सिंह इस मामले पर संसद में बोल रहे थे. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सत्यपाल सिंह पुलिस अधिकारी रह चुके हैं. साथ ही साथ मुंबई के पुलिस कमिश्नर का पद उन्होंने लम्बे समय तक सम्हाला है.

बागपत से सांसद सत्यपाल सिंह मुंबई के पुलिस कमिश्नर भी रह चुके हैं.
बागपत से सांसद सत्यपाल सिंह मुंबई के पुलिस कमिश्नर भी रह चुके हैं.

संसद में बोलते हुए सत्यपाल सिंह हैदराबाद का संदर्भ ले आए. वे मालेगांव की बात कर रहे थे. उन्होंने कहा,

“हम अगर मालेगांव की बात कर रहे हैं तो हमें हैदराबाद की भी बात करनी चाहिए. हैदराबाद मस्जिद धमाकों की जांच चल रही थी. वहां के मुख्यमंत्री ने देखा कि उस मामले में अधिकतर संदिग्ध अल्पसंख्यक समुदाय से ताल्लुक रखते थे, तो उन्होंने वहां के पुलिस कमिश्नर को बुलाकर कहा कि वे मामले की जांच की दिशा बदल दें, अन्यथा उनकी नौकरी चली जाएगी.”

ये बात करते हुए सत्यपाल सिंह ने कहा कि जब ये मामला उनको पता चला तब वे मुंबई के पुलिस कमिश्नर थे. जैसे ही सत्यपाल सिंह ने बात रखी, सदन में ‘शेम-शेम’ कहा जाने लगा. इसी समय ओवैसी उठ खड़े हुए और उन्होंने कहा,

“भाजपा सदस्य जिस निजी बातचीत की बात कर रहे हैं और जिस नेता की बात कर रहे हैं, वे इस समय यहां मौजूद नहीं हैं. क्या भाजपा सदस्य इसके सबूत संसद में रख सकते हैं?”

ओवैसी ने अमित शाह को कहा, "डराइये मत!"
ओवैसी ने अमित शाह को कहा, “डराइये मत!”

और यहीं से अमित शाह और असदुद्दीन ओवैसी में खींचतान शुरू हुई. अमित शाह अपनी सीट पर खड़े हो गए. उन्होंने ओवैसी से कहा,

“ओवैसी साहब और सबका सेकुलरिज्म एकदम उभरकर सामने आया है. जब राजा साहब बोल रहे थे, तो वो लोग क्यों नहीं खड़े हुए. उन्होंने कई बातें रूल्स के खिलाफ़ कीं. हम आराम से सुनते रहे. सुनने की भी आदत डालिए, ओवैसी साहब! इस तरह से नहीं चलेगा…सुनना पडेगा.”

अमित शाह की भंगिमा गुस्से से भरी हुई थी. उंगली दिखाकर बात कर रहे थे. इसके बाद भाजपा सांसद समर्थन में सीटें थपथपाने लगे.

अमित शाह भी फायर हो गए.
अमित शाह भी फायर हो गए.

इसके बाद ओवैसी को गुस्सा आया. उन्होंने अमित शाह से कहा कि वे उन्हें ऊंगली न दिखाएं और ये भी कि उन्हें डराया नहीं जा सकता है. इस पर अमित शाह फिर से खड़े हुए. उन्होंने कहा कि वे ओवैसी को डराने की कोशिश नहीं कर रहे थे.

उन्होंने कहा,

“विपक्षियों के अंदर दूसरों की बातें सुनने का सब्र होना चाहिए. अगर आपके मन में ही डर है तो मैं क्या कर सकता हूं?”


लल्लनटॉप वीडियो : लोकसभा में ओवैसी से बोले अमित शाह, सुनने की आदत डालिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

नहीं रहे पूर्व वित्तमंत्री अरुण जेटली

पिछले 15 दिनों से एम्स के आईसीयू में थे भर्ती

बुमराह का ये रिकॉर्ड टेस्ट क्रिकेट में उन्हें इंडियन बॉलिंग की सनसनी साबित करने के लिए काफी है

वनडे के बाद टेस्ट मैचों में बुमराह का कमाल.

बाबा रामदेव ने बताया क्यों बिगड़ी थी आचार्य बालकृष्ण की तबीयत

अचानक तबीयत खराब होने के बाद आचार्य बालकृष्ण को एम्स में भर्ती कराना पड़ा था.

ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड से कहा- करारा जवाब मिलेगा और लंका लगा दी

एक ओर जोफ्रा आर्चर थे तो दूसरी ओर हेजलवुड.

BCCI की टाइटल राइट्स डील में क्या झोल है?

ई-ऑक्शन नहीं होने को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं.

पतंजलि वाले बालकृष्ण को हार्ट अटैक आया, रेफर होने के बाद एम्स में भर्ती

पहले हरिद्वार के पतंजलि योगपीठ के पास भूमानंद अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

पाकिस्तानी टेरर फंडिंग के आरोप में बलराम सिंह, सुनील सिंह और शुभम मिश्रा को ATS ने धरा

बलराम सिंह को 2017 में भी गिरफ्तार किया था. फिलहाल बेल पर था.

प्रियंका चोपड़ा को हटाने की रिक्वेस्ट पर यूनिसेफ ने पाक का मूड और खराब कर देने वाला जवाब दिया

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद प्रियंका का 'जय हिन्द' लिखने वाला मुद्दा अब जोर क्यों पकड़ रहा है?

सरकार के थिंक टैंक ने माना, 'बीते 70 साल में ऐसी बुरी मंदी नहीं देखी'

इससे पहले सुब्रमण्यम ने प्राइवेट सेक्टर को दो टूक हिदायत दे डाली थी कि,'बालिग व्यक्ति लगातार अपने पापा से मदद नहीं मांग सकता.'

जोफ्रा आर्चर ने ऑस्ट्रेलिया की बैटिंग का धागा खोलकर रख दिया

जितनी उम्मीद थी उससे ज़्यादा डिलीवर किया है.