Submit your post

Follow Us

लोकसभा में बहस हो रही थी, अमित शाह ने ओवैसी को चुप करा दिया!

5
शेयर्स

इस खबर में जिन दो लोगों का नाम है, वे अपने बात करने के तरीकों के लिए जाने जाते हैं. एक तरफ हैं अमित शाह, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके हैं. सांसद हैं. देश के गृहमंत्री हैं. उनके सामने हैं असदुद्दीन ओवैसी. ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन, छोटे में कहें तो AIMIM, के अध्यक्ष और हैदराबाद से सांसद. दोनों ही बेबाक. अपने-अपने राजनीतिक एजेंडे को लेकर मुखर. और आज संसद में दोनों एक दूसरे से उलझ गए. अब ये बहस चर्चा का मुद्दा बनी हुई है.

हुआ क्या था?

लोकसभा में ताज़ातरीन NIA बिल पर बहस हो रही थी. भाजपा इस बिल पर बहुत दिनों से मेहनत कर रही थी. इस बिल की ख़ास बात ये है कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी यानी National Investigation Agency अब कई मामलों में भारत के बाहर भी जाकर जांच कर सकती है. साथ ही साथ किसी संदिग्ध को भी आतंकी घोषित किया जा सकता है. पहले ऐसा नहीं था, जांच होती थी. आरोप सिद्ध होते थे, तभी ऐसा होता था. अब ऐसा नहीं करने की योजना है. ये तो हमने आपको पहले ही बता दिया था.

संसद में आज इस पर बहस हो रही थी. बागपत से सांसद सत्यपाल सिंह इस मामले पर संसद में बोल रहे थे. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सत्यपाल सिंह पुलिस अधिकारी रह चुके हैं. साथ ही साथ मुंबई के पुलिस कमिश्नर का पद उन्होंने लम्बे समय तक सम्हाला है.

बागपत से सांसद सत्यपाल सिंह मुंबई के पुलिस कमिश्नर भी रह चुके हैं.
बागपत से सांसद सत्यपाल सिंह मुंबई के पुलिस कमिश्नर भी रह चुके हैं.

संसद में बोलते हुए सत्यपाल सिंह हैदराबाद का संदर्भ ले आए. वे मालेगांव की बात कर रहे थे. उन्होंने कहा,

“हम अगर मालेगांव की बात कर रहे हैं तो हमें हैदराबाद की भी बात करनी चाहिए. हैदराबाद मस्जिद धमाकों की जांच चल रही थी. वहां के मुख्यमंत्री ने देखा कि उस मामले में अधिकतर संदिग्ध अल्पसंख्यक समुदाय से ताल्लुक रखते थे, तो उन्होंने वहां के पुलिस कमिश्नर को बुलाकर कहा कि वे मामले की जांच की दिशा बदल दें, अन्यथा उनकी नौकरी चली जाएगी.”

ये बात करते हुए सत्यपाल सिंह ने कहा कि जब ये मामला उनको पता चला तब वे मुंबई के पुलिस कमिश्नर थे. जैसे ही सत्यपाल सिंह ने बात रखी, सदन में ‘शेम-शेम’ कहा जाने लगा. इसी समय ओवैसी उठ खड़े हुए और उन्होंने कहा,

“भाजपा सदस्य जिस निजी बातचीत की बात कर रहे हैं और जिस नेता की बात कर रहे हैं, वे इस समय यहां मौजूद नहीं हैं. क्या भाजपा सदस्य इसके सबूत संसद में रख सकते हैं?”

ओवैसी ने अमित शाह को कहा, "डराइये मत!"
ओवैसी ने अमित शाह को कहा, “डराइये मत!”

और यहीं से अमित शाह और असदुद्दीन ओवैसी में खींचतान शुरू हुई. अमित शाह अपनी सीट पर खड़े हो गए. उन्होंने ओवैसी से कहा,

“ओवैसी साहब और सबका सेकुलरिज्म एकदम उभरकर सामने आया है. जब राजा साहब बोल रहे थे, तो वो लोग क्यों नहीं खड़े हुए. उन्होंने कई बातें रूल्स के खिलाफ़ कीं. हम आराम से सुनते रहे. सुनने की भी आदत डालिए, ओवैसी साहब! इस तरह से नहीं चलेगा…सुनना पडेगा.”

अमित शाह की भंगिमा गुस्से से भरी हुई थी. उंगली दिखाकर बात कर रहे थे. इसके बाद भाजपा सांसद समर्थन में सीटें थपथपाने लगे.

अमित शाह भी फायर हो गए.
अमित शाह भी फायर हो गए.

इसके बाद ओवैसी को गुस्सा आया. उन्होंने अमित शाह से कहा कि वे उन्हें ऊंगली न दिखाएं और ये भी कि उन्हें डराया नहीं जा सकता है. इस पर अमित शाह फिर से खड़े हुए. उन्होंने कहा कि वे ओवैसी को डराने की कोशिश नहीं कर रहे थे.

उन्होंने कहा,

“विपक्षियों के अंदर दूसरों की बातें सुनने का सब्र होना चाहिए. अगर आपके मन में ही डर है तो मैं क्या कर सकता हूं?”


लल्लनटॉप वीडियो : लोकसभा में ओवैसी से बोले अमित शाह, सुनने की आदत डालिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

जिसे आप ऋतिक रोशन की ओवर एक्टिंग मानते रहे, उन्होंने उसे सबसे मुश्किल रोल बताया है

वो फिल्म जिसमें VFX वाले तोते ने भी हद से ज्यादा एक्टिंग की थी.

प्रोटेस्ट में 'फ्री कश्मीर' का पोस्टर लेकर खड़ी लड़की ने बताया कि उसने ऐसा क्यों किया

बवाल हो गया था. देवेंद्र फडणवीस ने भी सवाल खड़े किए थे.

'ड्रीम गर्ल' के डायरेक्टर ने स्वरा भास्कर को कही फूहड़ बात, स्वरा ने धोकर रख दिया

JNU हिंसा मामले पर बात हो रही थी लेकिन इतनी बकवास की ज़रूरत नहीं थी.

अमित शाह ने बताया है कि CAA सपोर्ट के नंबर पर सेक्स और जॉब वाले कितने फोन आए!

और फ्री का सब्सक्रिप्शन भी ढूंढ रहे थे! लो. पढ़ लो.

JNU से पढ़े विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा, मैंने तो उस वक्त कोई टुकड़े-टुकड़े गैंग नहीं देखा

एक लाइन की नपी-तुली, लेकिन सॉलिड बात. उनकी ये बात नरेंद्र मोदी और अमित शाह को सुना देनी चाहिए.

JNU हिंसा की बातें वॉट्सऐप पर खूब हो रही थीं, इन ग्रुप के 8 लोग ABVP वाले थे

JNU के चीफ प्रोक्टर भी एक ग्रुप के मेंबर थे.

JNU हिंसा पर क्या बोले वहीं से पढ़े नोबेल विजेता अभिजीत बैनर्जी

अभिजीत और मोदी सरकार में मंत्री निर्मला सीतारमण एक ही लाइन पर दिखे.

जेएनयू हिंसा: दिल्ली पुलिस ने एफआईआर में कहा, दोपहर से कैंपस में थी पुलिस मौजूद

जेएनयू में हुए मारपीट और तोड़-फोड़ के मामले में पहली एफआईआर दर्ज

इस फेमस एक्टर ने टीवी इंडस्ट्री की बेहद कड़वी सच्चाई के बारे में बताया है

सवाल था- कुशल पंजाबी ने खुदकुशी से पहले किसी को कुछ क्यों नहीं बताया?

JNU हिंसा पर 'सावधान इंडिया' वाले सुशांत सिंह ने क्या कहा है?

CAA प्रोटेस्ट में उतरे तो 'सावधान इंडिया' से बिना कारण बताए उन्हें निकाल दिया गया था.