Submit your post

Follow Us

वीसी के खिलाफ खबर छपी और जेएनयू से अखबार के पन्ने ही गायब हो गए!

550
शेयर्स

आपके खाने पर प्रशासन की नज़र है, ये बात आप शायद पहले से जानते होंगे. आपके डेटा, बायोमेट्रिक, व्यक्तिगत जानकारी और हज़ारों तरह की जानकारियों पर उसकी नज़र है ये सच है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आप क्या पढ़ रहे हैं इस पर भी प्रशासन नज़र रख रहा है? एक मामला सामने आया है और अपने आप में बहुत हैरान कर देने वाला है. दरअसल मामला दिल्ली की जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी का है.

जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय
जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय

तो हुआ ये कि इंडियन एक्सप्रेस ने 19 जुलाई को अपने फ्रंट पेज पर एक स्टोरी छापी. जिसमें हैदराबाद की एक फर्म OMICS के बारे में बताया जो इंटरनेशनल कांफ्रेंस आयोजित कराने का दावा करती है. इंडियन एक्सप्रेस के वरिष्ठ संपादक श्यामलाल यादव जी ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि कैसे ये फर्म पैसे लेकर पेपर पब्लिश करवाती है. जिसका इस्तेमाल छात्र इंटरव्यू में अतिरिक्त नंबर लेने या सीवी को बेहतर बनाने के लिए करते हैं. पीएचडी छात्रों के लिए तो थीसिस जमा कराने से पहले यूजीसी से मान्यता प्राप्त जर्नल्स में 2 पेपर पब्लिश कराना जरूरी है. नहीं तो सालों की मेहनत मिट्टी में मिल सकती है. लेकिन हर जगह कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जिन्हें मेहनत करना अच्छा नहीं लगता. उन्हें कोई ना कोई शॉर्टकट चाहिए होता है. ये उन्ही लोगों की कहानी है जिनकी वजह से जेएनयू एक बार फिर चर्चा में आ गया है.

इसी रिपोर्ट के कारण अख़बार के पेज निकाल लिए गये थे.
इसी रिपोर्ट के कारण अख़बार के पेज निकाल लिए गये थे.

दरअसल जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश मामीडाला ऐसे ही एक जर्नल, इंटरनेशनल जर्नल ऑफ़ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग में सह लेखक हैं. जगदीश मामीडाला के अनुसार उनके निर्देशन में पीएचडी करने वाले एक छात्र दवित अब्दी ने भी ऐसे ही एक जर्नल द्वारा आयोजित कांफ्रेंस में अपनी प्रेजेंटेशन दी. ये बात सामान्य हो सकती है, लेकिन जो नॉर्मल नहीं है वो ये कि पूरी यूनिवर्सिटी में वितरित इंडियन एक्सप्रेस अख़बार के बीच के वो पेज गायब थे जिनपर ये रिपोर्ट छपी थी (पेज संख्या है 9 से 12). शायद इसलिए कि छात्र अपने वाइस चांसलर द्वारा किए गए घपले की जानकारी ना रख सकें. लेकिन वाइस चांसलर साहब शायद भूल गए कि ज़माना डिजिटल हो चुका है. सबने इसे पढ़ा और खूब फैलाया भी.

जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष मोहित पांडे ने हमें बताया कि किसी भी रिसर्च स्कॉलर द्वारा लिखी गई कॉपी में को-ऑथर (सह-लेखक) होने का श्रेय लेने में उनके गाइड हमेशा आगे रहते हैं क्योंकि ये उनके सीवी को भी बेहतर बनता है. मोहित का कहना है कि ‘अखबारों को सेंसर किया जाने का यह पहला मामला है क्योंकि यह सीधे वाइस चांसलर की मंशा पर सवाल उठा रहा है. छात्रसंघ इसे अपने तरीके से भी डील करेगा, शिक्षा मंत्रालय को लेटर लिखें जाएंगे. लेकिन छात्रों से अख़बार पढ़ने का हक छीना जाना असंवैधानिक है.’

श्यामलाल यादव जी, जिन्होंने ये स्टोरी की है, उनका कहना है कि अख़बार के पेज गायब होने की बात सामान्य नहीं है. लेकिन इसका जल्द ही संज्ञान लिया जाएगा. अख़बार का ऐसी घटना के बाद, सब पता होते हुए भी चुप्पी साधना कुछ इशारा तो नहीं कर रहा है.

हमने जेएनयू के लायब्रेरियन से बात की लेकिन उन्होंने इस सवाल को टालना चाहा. 


ये भी पढें:

JNU में पकौड़े बेचने वालों को एक ही दिन के बिजनस में 60,000 रुपए का घाटा

जेएनयू में बुलाया गया राजीव गांधी का भूत!

JNU के इकलौते दीक्षांत में बलराज साहनी ने सबको शालीनता से धो दिया था

कौन हैं प्रोफेसर राकेश भटनागर, जिन्हें BHU का VC बनाया गया है

तुम्हारे स्तन अच्छे हैं, नीचे की बॉडी भी मेन्टेन करो, वरना भद्दी दिखोगी’


विडियो:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
NEWSPAPER CENSORED IN JNU AFTER JNU VC NAME FEATURED IN IT.

टॉप खबर

लोकसभा में बहस हो रही थी, अमित शाह ने ओवैसी को चुप करा दिया!

किस बात पर अमित शाह ऊंगली दिखाकर बात करने लगे थे?

कहानी भारत के अंतरिक्ष मिशन चंद्रयान-2 की, जिसे दुनिया का कोई भी देश इतने सस्ते में नहीं बना पाया

एंड गेम में मारवेल ने जितने पैसे खर्च करके थानोस को मारा, उतने में तो भारत दो बार चांद पर पहुंच जाएगा.

मदरसे में मिला देसी कट्टा, जानिए क्या होता था

और अफवाहों पर बवाल हो गया

बच्चों के बलात्कार पर अब होगी फांसी, मोदी सरकार का फैसला

बहुत दिनों से बात चल रही थी, अब काम होगा!

भाजपा विधायक की बेटी ने दलित से शादी की तो बाप ने मरवाने के लिए गुंडे भेज दिए!

पति और पत्नी भागे-भागे वीडियो बना रहे हैं.

एक महीने से छात्र धरने पर हैं, किसी को परवाह नहीं

ये खबर हर स्टूडेंट को पढ़नी चाहिए.

बजट में सरकार ने अमीरों पर बंपर टैक्स लगाया

पेट्रोल-डीज़ल पर एक रुपया अतिरिक्त लेगी सरकार.

राहुल गांधी के पत्र की चार ख़ास बातें, तीसरी वाली में सारे देश की दिलचस्पी है

आज राहुल गांधी ने आखिरकार इस्तीफा दे ही दिया.

आकाश विजयवर्गीय पर मोदी बहुत नाराज़ हुए, उतना ही जितना साध्वी प्रज्ञा पर हुए थे!

"अफ़सोस! दिल से माफ़ नहीं कर पाएंगे."

नुसरत जहां के खिलाफ़ जिस फतवे पर बवाल मचा, वैसा फ़तवा जारी ही नहीं हुआ

निखिल से शादी के बाद सिन्दूर-साड़ी में संसद पहुंची थीं नुसरत