Submit your post

Follow Us

पटना में महिला का चालान कट रहा था, लोग पुलिस को पत्थर मारने लगे

12 सितंबर की बात है. पटना के एक्ज़िबिशन रोड का गोलंबर. वहां ड्यूटी पर तैनात ट्रैफिक पुलिस ने एक कार को रोका. उसने ट्रैफिक नियम तोड़ा था. चालान काटे जाने पर बहसबाजी हुई. होते-होते हालात इतने बिगड़े कि पुलिसवालों पर पत्थर फेंके गए.

ये दोपहर करीब 1 बजे की बात है. महिला कार ड्राइव कर रही है. उसने सीटबेल्ट नहीं लगाया हुआ था. ट्रैफिक पुलिस ने उसे रोका. चालान काटा. 1 सितंबर से लागू नए मोटर वाहन अधिनियम के तहत, सीटबेल्ट न पहनने पर हज़ार रुपये का जुर्माना है. महिला ने बहस की. आस-पास लोग जमा हो गए. पब्लिक भी महिला को सपोर्ट करने लगी. बात इतनी बिगड़ी कि लोग पुलिस के साथ भिड़ गए. चीजें हिंसक हो गईं. लोगों ने पुलिसवालों पर पत्थर फेंकना शुरू कर दिया. भीड़ को हटाने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा. हालात काबू करने के लिए पूरे एक्ज़िबिशव रोड पर पुलिस फोर्स तैनात करनी पड़ी.

महिला ने इंडिया टुडे को बताया- मैं PMCH जा रही थी, जब ट्रैफिक पुलिस ने मुझे रोका और मुझसे कार पार्क करने को कहा. मैंने उन्हें सारे कागज़ात दिखाए. फिर भी वो कहने लगे कि मुझे सीट बेल्ट न पहनने की वजह से 5,000 रुपये का चालान भरना होगा.

महिला का दावा है कि उसने सीट बेल्ट लगाया हुआ था. उसका ये भी कहना है कि पुलिस ने जेबरा क्रॉसिंग तोड़ने पर भी चालान की बात कही. जबकि उन्होंने खुद ही गाड़ी घुमाकर किनारे लगाने को कहा था.

महिला का आरोप है कि उसके पास सारे ज़रूरी कागज़ात थे. मगर पुलिस ने सीट बेल्ट न बांधने की वजह से उसका 5,000 रुपये का चालान काटने की बात कही. तस्वीर में पुलिस भीड़ हटाती दिख रही है (फोटो: इंडिया टुडे)
महिला का आरोप है कि उसके पास सारे ज़रूरी कागज़ात थे. मगर पुलिस ने सीट बेल्ट न बांधने की वजह से उसका 5,000 रुपये का चालान काटने की बात कही. तस्वीर में पुलिस भीड़ हटाती दिख रही है (फोटो: इंडिया टुडे)

घटना के बारे में बताते हुए सुरेश प्रसाद, DSP टाउन ने बताया-

मोटर वाहन से जुड़े नए नियमों से नाराज़ कुछ लोगों ने एक्ज़िबिशन रोड पर हंगामा किया. इसकी वजह से इलाके में गाड़ियों की आवाजाही रुक गई. उस महिला ने सीट बेल्ट नहीं बांधा हुआ था. इसीलिए उनका चालान काटा जा रहा था. स्थानीय लोग भी महिला के समर्थन में जमा हो गए और उन्होंने उपद्रव मचाया.

नए नियमों में सीट बेल्ट न बांधने पर 1,000 रुपये के चालान का प्रावधान है. ऐक्ट के 194 B में इस जुर्माने का ज़िक्र है. पहले ये रकम 100 रुपया थी. पुलिस ने 5,000 रुपये का जो चालान काटना चाहा, उसमें सीट बेल्ट के अलावा भी अलावा भी कोई उल्लंघन शामिल था, अगर हां तो क्या, ये अभी मालूम नहीं चल सका है.

नए यातायात नियमों में भारी चालान के प्रावधान पर लोगों की राय बंटी हुई है. कुछ का कहना है, सड़क सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिहाज से ये कानून सही है. आलोचना करने वाले कह रहे हैं कि रकम काफी ज़्यादा है. आर्थिक तौर पर कमज़ोर लोगों से इतना ज़्यादा जुर्माना वसूल करना ग़लत है. केंद्र और राज्य भी एक लाइन पर नहीं दिख रहे हैं. गुजरात और उत्तराखंड जैसे राज्यों ने अपनी तरफ से नियमों में बदलाव करते हुए जुर्माने की रकम घटा भी दी है.


1,41,700 रुपए: ये है अब तक की सबसे बड़ी रकम का चालान

भारी चालान के डर से बाप ने बेटे को कमरे में ही बंद कर दिया

ट्रक का 86,500 रुपये का चालान कटा, 5 घंटे बहस करके सिर्फ इतना ही रुपया कम हुआ

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.