Submit your post

Follow Us

18 अप्रैल को होने वाली NEET PG की परीक्षा को लेकर सरकार का क्या फैसला आया है?

देश में कोरोना वायरस के मामले बहुत तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. इसे देखते हुए CBSE ने 10वीं बोर्ड की परीक्षा कैंसिल कर दी है और 12वीं की परीक्षा को टाल दिया है. वहीं, कई दूसरी परीक्षाएं कराए जाने का भी विरोध किया जा रहा है. छात्र NEET PG की परीक्षाओं की डेट भी आगे बढ़ाने की मांग कर रहे थे और ताजा अपडेट ये है कि कोरोना के मद्देनज़र केंद्र सरकार ने NEET PG की परीक्षा को स्थगित करने का फैसला लिया है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने ट्वीट करके बताया है कि यह फैसला युवा मेडिकल छात्रों को ध्यान में रखते हुए किया गया है. उन्होंने बताया कि परीक्षा की अगली तारीख़ बाद में तय की जाएगी.

केंद्रीय मंत्री का यह ट्वीट देखिए

स्टूडेंट्स एग्जाम आगे बढ़ाने की मांग कर रहे थे

कोरोना महामारी को देखते हुए स्टूडेंट्स NEET PG की परीक्षा को टालने की लगातार मांग कर रहे थे. ट्विटर पर स्टूडेंट्स #postponeneetpg2021 और #postponeneetpg जैसे हैशटैग्स के साथ संबंधित अधिकारियों से परीक्षा की डेट आगे बढ़ाने की अपील कर रहे थे. बता दें कि ये परीक्षा 18 अप्रैल को होनी थी.

मामले को लेकर NEET PG के छात्रों ने नेशनल बोर्ड ऑफ़ एग्जामिनेशन (NBE) के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर डॉ. पवनिंद्र लाल को एक चिट्ठी भी लिखी थी. इसमें छात्रों ने लिखा था कि कई इंटर्न, डॉक्टर और उनके परिवार वाले कोरोना वायरस से संक्रमित हैं. इनमें से कइयों की तबीयत बहुत ख़राब है और वे हॉस्पिटल में भर्ती हैं. ऐसे में कई कैंडिडेट्स एसिम्टोमैटिक (संक्रमित होना, लेकिन लक्षण ना दिखना) हो सकते हैं. परीक्षा केंद्र आए छात्रों के लिए ये बुरा साबित हो सकता है. वैक्सीन की कमी के कारण सभी स्टूडेंट्स का वैक्सीनेशन भी संभव नहीं है.

छात्रों ने लिखा था कि सेंटर पर छात्रों के बड़ी संख्या में पहुंचने पर संक्रमण फैलने का खतरा तो है ही, लेकिन परेशानी का सबब केवल यही नहीं है. कोरोना संकट की वजह से कई राज्यों ने कर्फ्यू की घोषणा कर दी है. ऐसे में कई स्टूडेंट्स को तो सेंटर तक पहुंचने में ही दिक्कत होने वाली है. अगर जैसे-तैसे पहुंच भी गए, तो होटल आदि में रुकने की भी दिक्कत हो सकती है. इसीलिए NBE से अपील की गई थी कि 18 अप्रैल को होने वाली परीक्षा टाली जाए.

दिक्कतें उन छात्रों के साथ भी थी जो एग्जाम की तैयारी भी कर रहे थे, साथ में बतौर डॉक्टर अपनी ड्यूटी में भी लगे हुए थे.

छात्रों को मिला था राजनीतिक समर्थन

छात्रों की परीक्षा टालने की अपील को राजनीतिक समर्थन भी मिल रहा था. द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (DMK) के प्रमुख और तमिलनाडु विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष एमके स्टालिन ने छात्रों का सपोर्ट करते हुए एक ट्वीट में लिखा था,

‘कोविड-19 की दूसरी लहर के कारण CBSE की परीक्षा रद्द कर दी गई है. बढ़ते मामलों के साथ जब हमारे डॉक्टर इतनी दिक्कतों के साथ कड़ी मेहनत कर रहे हैं, ऐसे में क्या NEET PG छात्रों के लिए परीक्षा कराने का ये सही वक्त है?’

एमके स्टालिन ने अपने ट्वीट में प्रधानमंत्री कार्यालय और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को टैग कर ये सवाल पूछा था.

वहीं, कांग्रेस पार्टी की यूथ विंग NSUI यानी नेशनल स्टूडेंट यूनियन ऑफ़ इंडिया के राष्ट्रीय महासचिव शौर्यवीर सिंह ने भी ट्विटर पर कहा,

‘अन्य छात्रों की तरह NEET PG छात्रों की सुनने वाला कोई नहीं है. लेकिन फिर भी वे लड़ रहे हैं, क्योंकि उनकी चिंता वास्तविक है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और नेशनल बोर्ड ऑफ़ एग्जामिनेशन छात्रों की बात सुनें और समाधान के साथ आएं. परीक्षा स्थगित करने की उनकी मांग जायज है क्योंकि सुरक्षा सबसे पहले आती है.’

ऐसे में सरकार ने अंततः छात्रों की बात मांग ली है और 18 अप्रैल को होने वाली NEET PG की परीक्षा को स्थगित कर दिया है.


वीडियो- UP VDO भर्ती 2018: UPSSSC के स्कैनिंग रूम से ही OMR शीट गायब कर दीं दलालों ने

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से भी मदद की बात कही गई है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

ऑक्सीजन सप्लाई से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा था.

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

भारत सरकार की ओर से इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

दिल्ली हाई कोर्ट ने ऑक्सीजन की किल्लत पर केंद्र सरकार को बुरी तरह लताड़ दिया है

दिल्ली हाई कोर्ट ने ऑक्सीजन की किल्लत पर केंद्र सरकार को बुरी तरह लताड़ दिया है

बुधवार रात 8 बजे हुई सुनवाई में कोर्ट ने केंद्र को जमकर खरी-खोटी सुनाई.

कोरोना संकट के बीच देश के ये 3 शीर्ष मेडिकल एक्सपर्ट आपके लिए बहुत काम की बातें बता गए हैं

कोरोना संकट के बीच देश के ये 3 शीर्ष मेडिकल एक्सपर्ट आपके लिए बहुत काम की बातें बता गए हैं

कोरोना की रोकथाम से जुड़े हर जरूरी सवाल का जवाब दिया है.

कोविड प्रोटोकॉल्स की धज्जियां उड़ाते UP पंचायत चुनाव पर हाईकोर्ट की ये टिप्पणियां ज़रूर जानिए

कोविड प्रोटोकॉल्स की धज्जियां उड़ाते UP पंचायत चुनाव पर हाईकोर्ट की ये टिप्पणियां ज़रूर जानिए

सरकारी कर्मचारियों की चुनावी ड्यूटी पर भी नाराज़गी ज़ाहिर की.