Submit your post

Follow Us

मंत्री पद क्या छोड़ा सिद्धू को विधायक वाली सैलरी भी मिलनी बंद हो गई

पंजाब सरकार में कैबिनेट मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू को पिछले चार महीने 22 दिन से बतौर विधायक भी सैलरी नहीं मिली है. मंत्री पद छोड़ने के बाद विधायक के रूप में सिद्धू अब तक अपनी सैलरी लेने नहीं गए हैं. पंजाब विधानसभा से सिद्धू को 20 जुलाई, 2019 तक की सैलरी मिल चुकी है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ सिद्धू के इस्तीफे का नोटिफिकेशन विधानसभा को नहीं भेजा गया है, इसलिए उनकी सैलरी अटकी हुई है.

नियमों के मुताबिक़ 20 जुलाई से सिद्धू को सिर्फ विधायक की सैलरी मिलनी है. ऐसे में करीब 5 महीने होने को हैं और सिद्धू को सैलरी नहीं मिली है. विधानसभा के अधिकारियों ने बताया, राज्य सरकार से सिद्धू के बारे में जैसे ही नोटिफिकेशन की कॉपी उन्हें मिल जाएगी, उनके वेतन और सभी भत्तों के पेंडिंग पेमेंट कर दिए जाएंगे.

झोल कहां है?

न्यू इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक़ पंजाब विधानसभा के रिकॉर्ड के अनुसार, सिद्धू अभी भी कैबिनेट मंत्री हैं क्योंकि संबंधित विभाग ने अभी तक उनके इस्तीफे की कॉपी नहीं दी है. वहीं कैबिनेट अधिकारी का कहना है कि नोटिफिकेशन की कॉपी विधानसभा को पहले ही भेज दी गई है.

सूत्रों के मुताबिक़ सिद्धू को अभी 85 हजार रुपये के साथ ही फ्लैट, पेट्रोल, गाड़ी और फोन बिल के खर्चे के पैसे मिलने हैं.

सिद्धू ने इस्तीफा क्यों दिया था?

पंजाब कैबिनेट में विभाग बदलने से नाराज सिद्धू ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था.

सिद्धू कांग्रेस से पहले भाजपा में थे और पंजाब में 2017 में हुए विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस से जुड़े थे. पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह के साथ सिद्धू के रिश्ते सहज नहीं रहे. खासकर तब जब सिद्धू पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथ समारोह में शामिल हुए थे और वहां पाकिस्तान के आर्मी चीफ के गले लगते देखे गए थे. विपक्ष ने कांग्रेस को इसको लेकर खूब घेरा. कैप्टन अमरिंदर ने लोकसभा चुनाव 2019 में पंजाब में कांग्रेस की शहरी इलाकों में खराब परफॉर्मेंस के लिए सिद्धू को दोषी बताया था. छह जून को मंत्रिमंडल में हुए बदलाव के बाद सिद्धू को पर्यटन मंत्रालय से हटाकर ऊर्जा मंत्री बनाया गया. लेकिन सिद्धू ने ऑफिस जॉइन नहीं की.

14 जुलाई को ट्वीट करते हुए सिद्धू ने इस्तीफे का ऐलान किया था. यह इस्तीफा उन्होंने कांग्रेस प्रेसिडेंट को लिखा था. 15 जुलाई को सिद्धू ने पंजाब के सीएम को इस्तीफा भेजा था. इसकी जानकारी भी उन्होंने ट्वीट करके दी थी.


वीडियो- नागरिकता संशोधन बिल राज्यसभा में पास कराने के लिए अमित शाह ने क्या किया? | दी लल्लनटॉप शो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.