Submit your post

Follow Us

अगर स्पेशल ट्रेन में यात्रा कर रहे हैं, तो क्वारंटीन होंगे या नहीं, ये समझ लीजिए

भारतीय रेल का सफ़र ठहराव के बाद फिर शुरू हो चुका है. श्रमिक ट्रेनें चल ही रही थीं. अब 12 मई से कुछ स्पेशल ट्रेनें भी शुरू कर दी गयी हैं. कमोबेश सारी जानकारी आप तक आ ही चुकी है. यात्री ट्रेनों को लेकर रेलवे ने एक विस्तृत योजना बनाई है. लेकिन एक कंफ्यूजन लगातार बना हुआ है. लोगों का एक बड़ा सवाल ये है कि क्या स्पेशल ट्रेनों से यात्रा करने के बाद लोगों को क्वारंटीन होना पड़ेगा?
रेल मंत्रालय ने 11 मई की रात करीब 11 बजे एक ट्वीट किया.

रेल मंत्रालय का यह ट्वीट देखिए.


हम उस ट्वीट को हिंदी में लिख रहे हैं.

‘MHA (गृह मंत्रालय) के गाइडलाइंस के अनुसार, अपने गंतव्य पर पहुंचने पर, यात्रियों को उस स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करना होगा, जो उस राज्य/ केंद्रशासित प्रदेश द्वारा तय किया गया है. यात्रा शुरू करने से पहले यात्रियों की जांच करने की सलाह दी जाती है. राज्य ऐसे सभी प्रोटोकॉल के बारे में बताएं’

ऐसे में अब राज्य सरकारों को तय करना है कि वो स्पेशल ट्रेन के यात्रियों को किस आधार पर क्वारंटीन करने वाली हैं. कुछ राज्यों ने इससे संबधित सूचनाएं सार्वजनिक कर दी हैं. इनके बारे में हम आपको बता रहे हैं.

 यह गर्भवती माहिला अपने चार साल के बेटे के साथ हावड़ा से दिल्ली आ रही हैं. तस्वीर साभार- PTI
यह गर्भवती महिला अपने चार साल के बेटे के साथ हावड़ा से दिल्ली आ रही हैं. तस्वीर साभार- PTI

मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश स्वास्थ्य विभाग ने सभी जिला कलेक्टरों को पत्र लिखकर इससे संबधित जानकारी दी है. पत्र में लिखा है-

सभी रेल यात्रियों के आगमन पर स्टेशन में उनकी थर्मल स्क्रीनिंग करवाई जाए. इस दौरान संक्रमण के लक्षण वाले यात्री को 14 दिन के लिए क्वारंटीन सेंटर भेजा जाए. अगर कोई संदिग्ध संक्रमित व्यक्ति क्वारंटीन सेंटर में नहीं रहना चाहता, तो उसे शासन द्वारा चिह्नित होटलों में 14 दिन के लिए क्वारंटीन में रहना होगा. इसका खर्च भी संबधित व्यक्ति को ही देना होगा. 14 दिन की क्वारंटीन अवधि समाप्त होने पर टेस्ट के लिए इनके सैंपल लिए जाएं और रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही इन्हें घर जाने की अनुमति दी जाए.

 

दिल्ली

दिल्ली में स्पेशल ट्रेन से पहुंच रहे यात्रियों की जांच के लिए केजरीवाल सरकार ने मानक संचालन प्रक्रिया (SOP) जारी की है. दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग ने इसे लेकर आदेश जारी किए हैं. आदेश में कहा गया है-

स्पेशल ट्रेन से दिल्ली पहुंच रहे यात्रियों की पहले जांच की जाएगी. इस जांच से उनके कोरोना संक्रमण के बारे में पता लगाया जाएगा. केवल उन्हीं लोगों को घर जाने की अनुमति होगी, जो कोरोना संक्रमित नहीं होंगे. जिनमें संक्रमण पाया जाएगा, उनको इलाज के लिए अस्पताल या क्वारंटीन सेंटर में भेजा जाएगा. उसके बाद की उनकी स्थिति को देखते हुए घर भेजने पर विचार किया जाएगा.

 

असम

असम सरकार ने भी 13 मई, मंगलवार से चलने वाली ट्रेनों के यात्रियों के लिए सूचना जारी की है. कहा है कि अगले कुछ सप्ताह तक स्पेशल ट्रेनों से राज्य में आने वाले यात्रियों को नौ से 14 दिनों तक क्वारंटीन में रहना जरूरी होगा. साथ ही जांच सिर्फ उन यात्रियों की होगी, जिनमें कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखाई देंगे. राज्य स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्व शर्मा ने मीडिया को बताया,

अब तक हम कोरोना संक्रमित मरीजों से पहले से ही निपट रहे थे. मंगलवार से स्थिति बदल जाएगी. यह संभव नहीं है कि ट्रेन से लौटने वाले हज़ारों मरीजों की टेस्टिंग की जाए, क्योंकि रिजल्ट आने में कई दिन लगेंगे. इसलिए हमने यह फैसला किया है.

असम आने वाली पहली ट्रेन दिल्ली से डिब्रूगढ़ के लिए चली, जिसमें करीब 1000 लोग हैं. यह गाड़ी 13 मई, बुधवार को पहुंचेगी. यहां कोरोना के लक्षण दिखने पर ही उन्हें जांच के लिए भेजा जाएगा.

सांकेतिक तस्वीर. साभार- PTI
सांकेतिक तस्वीर. साभार- PTI

उत्तर प्रदेश 

उत्तर प्रदेश शासन द्वारा इस संबंध में अब तक कोई सूचना जारी नहीं की गई है. उत्तर प्रदेश में अब तक श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से आने वाले यात्रियों के लिए थर्मल स्क्रीनिंग  से जांच की व्यवस्था थी. यानी जो मजदूर ट्रेन से आ रहे हैं, पहले उनकी थर्मल स्क्रीनिंग होती है. उनमें कोरोना के लक्षण दिखने पर उन्हें क्वारंटीन में भेजा जाता है. जिनमें लक्षण नहीं दिखते, उन्हें होम क्वारंटीन में रहने को कहा जाता है.

यात्री स्पेशल ट्रेनों के लिए उत्तर प्रदेश शासन के द्वारा अब तक कोई नई सूचना जारी नहीं की गयी है. हमने इस मुद्दे पर प्रयागराज के एडिशनल डायरेक्टर (हेल्थ) सुधाकर पांडेय से बात की. उन्होंने बताया-

सीएमओ की तरफ से हमें अब तक अलग से कोई जानकारी नहीं है. फिलहाल श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के लिए जो व्यवस्था है, वही फॉलो की जा रही है. हालांकि स्थानीय प्रशासन ने कुछ होटल भी चिह्नित किये हैं. लेकिन हमें यात्रियों के क्वारंटीन करने को लेकर अलग से कोई सूचना अभी तक नहीं मिली है.

 

झारखंड

झारखंड में स्पेशल ट्रेनों से आने वाले यात्रियों को ज़ोन के हिसाब से क्वारंटीन किया जाएगा. रांची के एडिशनल कलक्टर से हमने बात की. उन्होंने बताया-

हमें जो गाइडलाइन मिली है, उसके अनुसार रेड ज़ोन से आने वाले सभी यात्रियों को क्वारंटीन में रखा जाएगा. ऑरेंज और ग्रीन ज़ोन के यात्रियों को थर्मल स्क्रीनिंग के बाद होम क्वारंटीन के लिए भेज दिया जाएगा. हमने रांची में कुछ होटल और गेस्ट हाउस भी अरेंज किया है. सिम्पटम के हिसाब से लोग उसकी सुविधा ले सकते हैं. इसके अलावा सामान्यत: हो रही थर्मल स्क्रीनिंग जारी रहेगी.

हमने झारखंड के एस.एस.पी. से भी बात की. उन्होंने कहा कि रांची के रहने वाले यात्रियों को रांची में क्वारंटीन किया जाएगा. बाकी लोगों को उनके जिले में भेज दिया जाएगा. ज़ोन के हिसाब से क्वारंटीन करने की व्यवस्था हर शहर में होगी.

सांकेतिक तस्वीर. साभार- PTI
सांकेतिक तस्वीर. साभार- PTI

बिहार

बिहार में अब तक लौट रहे मजदूरों की थर्मल स्क्रीनिंग की जा रही थी. इसके बाद उन्हें अपने जिले में ब्लॉक स्तर पर बने क्वारंटीन सेंटर में रखा जा रहा था. यहां 21 दिन तक रखने के बाद उन्हें घर जाने की इजाजत थी. कोटा से लौटे छात्रों को 14 दिनों तक होम क्वारंटीन में रहने को कहा गया था.

बिहार सरकार ने 12 मई को देर शाम स्पेशल ट्रेन यात्रियों के लिए एक एडवाइज़री जारी की है. हमें यह जानकारी पटना में रेलवे के पीआरओ राजेश कुमार ने दी. उन्होंने बताया-

रेलवे द्वारा जारी किया गया ई-टिकट पास की तरह काम करेगा. आप उसकी मदद से 12 घंटे के भीतर अपने गंतव्य तक जा सकते हैं. निजी चारपहिया या बाइक-स्कूटी, किसी भी साधन से यात्रा की जा सकती है. सरकारी तौर पर क्वारंटीन करने का कोई आदेश अभी तक नहीं आया है. रेलवे स्टेशन पर थर्मल स्क्रीनिंग पहले की तरह ही की जा रही है.

फिलहाल बिहार में प्रशासन द्वारा क्वारंटीन करने को लेकर कोई सूचना नहीं है, न ही होम क्वारंटीन में रहने को लेकर ही प्रशासन ने अपनी तरफ से कोई गाइडलाइन जारी की है.

बिहार सरकार ने ये पत्र जारी किया है. साभार- रेल पीआरओ, पटना.
बिहार सरकार ने ये पत्र जारी किया है. साभार- रेल पीआरओ, पटना.


वीडियो देखिए: लॉकडाउन में चलने वाली ट्रेनें कहां रुकेंगी, किराया कितना होगा और रूट क्या होगा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज में से पहले दिन वित्त मंत्री ने क्या-क्या ऐलान किया?

20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की डिटेल दी.

पीएम मोदी ने जिस Y2K क्राइसिस का ज़िक्र किया, वो क्या था?

पीएम ने 12 मई को देश को संबोधित किया.

अपने भाषण में नरेंद्र मोदी ने अगले लॉकडाउन के बारे में ये हिंट दे दिया है

मोदी के 34 मिनट के भाषण में काम की बात क्या थी?

ट्रेन के बाद अब फ़्लाइट शुरू होगी तो यात्रा के क्या नियम होंगे?

केबिन लगेज, जांच और बैठने की व्यवस्था को लेकर क्या नियम हैं?

गुजरात: CM बदलने की संभावना पर खबर चलाई, पुलिस ने राजद्रोह का केस लिख लिया

इस मामले में गुजरात सरकार की किरकिरी हो रही है.

किसी को सही-सही पता ही नहीं कि दिल्ली में कोरोना से कितनी मौतें हुईं!

सरकार और नगर निगम के आंकड़े अलग-अलग.

चीन से ठगे जाने के बाद इंडिया ने अपनी टेस्टिंग किट बनाई, कैसे काम करेगी?

किसने बनाई ये टेस्टिंग किट?

कॉन्स्टेबल साब ने दिल्ली में शराब वितरण का लेटेस्ट तरीका निकाला था, नप गए

दिल्ली में शराब की दुकानों पर भीड़ बहुत ज़्यादा है.

12 मई से चलने वाली ट्रेनों के स्टॉपेज, टाइम टेबल और नियम क़ानून की जानकारी यहां देखिए

किस-किस दिन चलेंगी ट्रेनें?

कोरोना: सुपर स्प्रेडर क्या होते हैं और ये इतने खतरनाक क्यों हैं कि अहमदाबाद में सब कुछ बंद करना पड़ा

अहमदाबाद में 14 हजार सुपर स्प्रेडर होने की आशंका जताई जा रही है.