Submit your post

Follow Us

लखीमपुर: SC ने यूपी सरकार से रिपोर्ट मांगते हुए ऐसी बात पूछी है कि जवाब देना मुश्किल हो सकता है

लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार 7 अक्टूबर को सुनवाई हुई. इस दौरान कोर्ट ने यूपी सरकार से पूरे मामले पर स्टेटस रिपोर्ट तलब की. ये भी पूछा कि इस मामले को लेकर अभी कोई गिरफ्तारी हुई कि नहीं. कोर्ट ने यूपी सरकार को निर्देश दिया है कि वो एक विस्तृत रिपोर्ट पेश करे. बाकी बातों के साथ ये भी बताएं कि कितने लोगों की मौत हुई, किनके खिलाफ FIR दर्ज की गई और किस किसकी गिरफ्तारी हुई. यूपी सरकार को ये रिपोर्ट दाखिल करने के लिए शुक्रवार 8 अक्टूबर तक का वक्त दिया है. कोर्ट 8 अक्टूबर को फिर इस मामले पर सुनवाई करेगा.

लखीमपुर मामले में गिरफ्तारी की बात पर यूपी सरकार मुश्किल में फंस सकती है. विपक्षी दल पहले से ही योगी आदित्यनाथ सरकार को निशाने पर ले रहे हैं. केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा सवालों के घेरे में हैं. 3 अक्टूबर को हुई हिंसा में चार किसानों, एक पत्रकार समेत 8 लोगों की मौत को चार दिन बीत चुके हैं, आशीष मिश्रा के खिलाफ हत्या की एफआईआर दर्ज हो चुकी है, इसके बावजूद वह पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं. हालांकि आईजी रेंज लखनऊ लक्ष्मी सिंह ने आजतक से खास बातचीत में कहा है कि आशीष मिश्रा की तलाश की जा रही है. गिरफ्तारी के लिए टीमें कोशिश कर रही हैं.

सुप्रीम कोर्ट में लखीमपुर मामले पर चीफ जस्टिस एन वी रमना की बेंच ने सुनवाई की. उनके अलावा जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस हिमा कोहली भी बेंच में हैं. इस मामले पर गौर करने के लिए सुप्रीम कोर्ट को दो वकीलों की तरफ से चिट्ठी मिली थी. इस पर चीफ जस्टिस ने कहा कि

“हमने इस मामले को वकील शिवकुमार त्रिपाठी और सीएस पांडा की चिट्ठी पर दर्ज किया है. हमने इसे जनहित याचिका के तौर पर दर्ज करने को कहा था लेकिन कुछ कंफ्यूजन से रजिस्ट्री से ये स्वतः संज्ञान के तौर पर दर्ज हो गया.”

कोर्ट ने दोनों वकीलों को भी पेश होने के लिए कहा. सुप्रीम कोर्ट को चिट्ठी लिखने वाले वकील शिवकुमार त्रिपाठी ने कोर्ट में कहा कि

“लखीमपुर खीरी की घटना में कई किसान मारे गए हैं. ये प्रशासन की लापरवाही से हुआ है. अदालत इस मामले में उचित कार्यवाही करे. मैं उम्मीद करता हूं कि कोर्ट हमारे लेटर को गंभीरता से लेगी और दोषियों के खिलाफ एक्शन लेगी. ये मानवाधिकार उल्लंघन का मामला है.”

कोर्ट में क्या सवाल-जवाब हुए?

इसी पर सीजेआई ने यूपी सरकार से जवाब मांगा है. यूपी की तरफ से सीनियर एडवोकेट गरिमा प्रसाद ने कोर्ट में कहा कि

‘ये घटना दुर्भाग्यपूर्ण है. SIT का गठन कर दिया गया है. एफआईआर दर्ज हो चुकी है. हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज की अगुआई में जांच टीम भी बना दी गई है. हम इस पर रिपोर्ट दाखिल कर सकते हैं.’

यूपी सरकार के बयान पर सीजेआई रमना ने कहा कि आरोप ये है कि आप जांच सही से नहीं कर रहे है. यूपी सरकार ने आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि हमने इस मामले में न्यायिक आयोग का गठन भी किया है. शुक्रवार को मामले की सुनवाई रखी जाए. हम सारे जवाब देने की कोशिश करेंगे.

इस पर सीजेआई ने यूपी सरकार के वकील से कहा कि इस मामले में राज्य सरकार से बात करके निर्देश लेकर आएं. ये बताएं कि हाईकोर्ट में इस मामले को लेकर कितनी याचिकाएं दाखिल हुई हैं. उनकी डिटेल्स और मामले की स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करें. कितनी FIR हुईं, कितने गिरफ्तार हुए, कितने आरोपी हैं, सब कुछ बताएं.


वीडियो – लखीमपुर हिंसा में जिस अंकित दास का नाम सामने आया, वो आखिर हैं कौन?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

लखीमपुर: नए वीडियो में साफ दिखा कैसे कुचले गए किसान, मंत्री पुत्र की गिरफ्तारी में लगी पुलिस

वरुण गांधी ने अब कहा- हत्या करके प्रदर्शनकारियों की आवाज़ नहीं दबा सकते.

आर्यन खान ड्रग्स मामले में दो नए वीडियो सामने आए, आरोपों के बादल गहराए

क्रूज शिप पर ड्रग्स रेड में बीजेपी और प्राइवेट डिटेक्टिव का क्या रोल है?

IPL में जम्मू के फल-सब्ज़ी बेचने वाले के बेटे ने कमाल कर दिया!

उमरान की कहानी दिल जीत लेगी.

विराट ने बताया एबी डीविलियर्स मैच क्यों नहीं जिता पाए?

उमरान की 150 वाली स्पीड पर भी कुछ बोले हैं.

इन तीन वैज्ञानिकों ने क्या किया कि पहली बार मौसम विज्ञान में फिजिक्स का नोबेल मिल गया?

पुरस्कार की साढ़े 8 करोड़ रुपये की राशि तीनों में बराबर बांटी जाएगी.

कैंसर पीड़ित बेटे की मुक्ति के लिए पिता ने उसे इच्छामृत्यु दे दी, हत्या के आरोप में गिरफ्तार

बेटे का दर्द देखा नहीं गया तो अपनी इच्छा से मृत्यु दे दी.

IPL 2021: एक सीज़न में 10 विकेट को तरसने वाला इस बार सबसे बड़ा बॉलर बन गया!

बुमराह, भुवी सब छूटे पीछे.

NEET-SS 2021: सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने छात्रों को खुश कर देने वाली बात कह दी है

ऐन वक्त पर परीक्षा पैटर्न बदलने पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को चेतावनी दी थी.

GK की तैयारी कर रहे लोग जान लें, केमिस्ट्री का नोबेल किसे और क्यों मिला

ऐसा क्या खोज लिया कि नोबेल मिल गया!

RCB के खिलाफ मैच से पहले ही हैदराबाद ने कर दी बड़ी चूक!

विराट ने मैच से पहले क्या कहा है?