Submit your post

Follow Us

आज उन्हें उम्रकैद हुई, 4 साल पहले क्या हुआ था?

लड़कियों से छेड़छाड़ का विरोध करने वाले दो लड़के मार दिए गए थे. चार साल पहले मुंबई में. अब कोर्ट ने फैसला दिया है. चार लोगों को दोषी पाया और उन्हें उम्रकैद की सजा सुनाई.

मरने वाले लड़कों के नाम थे कीनन सांटोस और रूबेन फर्नांडीज. इसलिए इस केस को कीनन-रूबेन हत्याकांड कहा गया. 20 अक्टूबर 2011 को दोनों अपनी दोस्तों से छेड़छाड़ करने वालों का विरोध किया था. बदले में नारियल पानी वाले चाकू से मारकर उन्हें कत्ल कर दिया गया. पुलिस ने हत्या के आरोप में 4 और दंगे के आरोप में 17 लोगों को गिरफ्तार किया था. महाराष्ट्र सरकार ने यह केस फास्ट ट्रैक कोर्ट के हवाले कर दिया था.

हुआ क्या था?

मुंबई. 20 अक्टूबर. रात के 10:30 बज चुके थे. अंबोली बार एंड किचेन में डिनर के बाद दोस्तों का एक ग्रुप वापस लौट रहा था. इस ग्रुप में सात लोग थे. चार लड़के, तीन लड़कियां. नाम- कीनन सांटोस, रूबेन फर्नांडीज, अविनाश सोलंकी, बेंजामिन फर्नांडीज, प्रियंका फर्नांडीज और दो और लड़कियां.

डिनर के बाद वह पास की एक पान शॉप पर पहुंचे. यहां वे खड़े हुए बातचीत कर ही रहे थे, तभी चार लफंगों उनके साथ की लड़कियों पर कुछ कमेंट किए. 24 साल के कीनन सांटोस ने इसका विरोध किया. गर्मागर्मी हुई तो लफंगे वहां से चले गए. सबको लगा कि छोटी सी बात थी, यहीं खत्म हो गई.

लेकिन वे लफंगे करीब 20 लोगों को साथ लेकर लौटे. उनके हाथों में डंडे और चाकू थे. उन्होंने सबसे पहले कीनन पर हमला बोला. उस पर कई वार करके मार डाला. 29 साल का रूबेन आगे आया तो उस पर भी हमला हुआ. रूबेन को गहरी चोटें आईं और 10 दिन अस्पताल में जूझने के बाद उसने भी दम तोड़ दिया.

हमला इतना अचानक हुआ तो कि कीनन-रूबेन और उनके दोस्तों को रिएक्ट करने का वक्त ही नहीं मिला. रूबेन के भाई बेंजामिन ने ‘द हिंदू’ को बताया था, ‘उन्होंने पहले कीनन पर हमला किया. तब रूबेन आगे आया. मुझे उन्होंने बांस के एक डंडे से सिर पर मारा. मैं गिर गया. मैंने कीनन को गिरते देखा. एक हमलावर ने कीनन को अपने घुटनों से दबा दिया और उसकी आंखों में देखते हुए उसकी छाती पर ताबड़तोड़ वार किए. उन्हीं वारों ने कीनन की जान ले ली.’

सफाई कर्मचारी का काम करते थे दोषी

इस केस में 4 मुख्य आरोपी थे. जितेंद्र राणा, सतीश दुगरास, सुनील बोथ और दीपक पिसवल. स्पेशल जज वृशाली जैन ने चारों को हत्या का दोषी माना और उन्हें उम्रकैद की सजा सुनाई. सुनील, सतीश और दीपक लोखंडवाला कॉम्प्लेक्स में सफाई कर्मचारी थे. उन्होंने अपने बयान में कहा कि वो उसी कॉलोनी में एक बर्थडे पार्टी में थे, तभी जितेंद्र वहां पहुंचा और कहा कि चार लोगों ने उसे मारा है. इसके बाद वे चारों वहां के लिए निकल लिए. वहीं एक नारियल वाले के दो बड़े चाकू सतीश ने लिए और उसमें से एक जितेंद्र को दिया. सुनील और दीपक ने स्टंप और हॉकी स्टिक साथ ले ली.

जितेंद्र और सतीश सीधे कीनन के पास पहुंचे और उस पर चाकू से कई वार किए. इस घटना के वक्त पास के रेस्तरां में 20-25 लोग मौजूद थे. मगर एक वेटर को छोड़ कोई भी कीनन और रूबेन की मदद के लिए नहीं आया. उनके दोस्तों का कहना है कि पुलिस भी मौके पर देर से पहुंची थी.

फैसले के बाद कीनन के पिता वेलेरियन सांटोस ने कहा, ‘काफी दर्द सहने के बाद वो फैसला आ गया, जो हम चाहते थे. मैं फैसले से खुश हूं. उन्हें अपनी जिंदगी का हर पल कीनन और रूबेन के बारे में सोचते हुए बिताना चाहिए. लेकिन सफर यहां खत्म नहीं हुआ है. आगे की लड़ाई बाकी है. आरोपी ऊंची कोर्ट में जाएंगे, यह उनका हक है.’

कीनन के पिता ने कहा, ‘अगर वे ईश्वर की शरण में भी जाएंगे तो मैं वहां भी खड़ा होऊंगा और अपने बेटे के लिए इंसाफ मांगूंगा.’

कीनन-रूबेन केस एक समय देश के बहुचर्चित मामलों में रहा. ये दोनों लड़के उस साहस के प्रतिनिधि बन गए जिसकी चर्चा हम महिलाओं के खिलाफ हुए हर अपराध के बाद करते हैं. वे हमारे आदर्श समझे गए. लेकिन जैसा उनके साथ हुआ, उनकी कहानी हमारे सिस्टम के बारे में क्या बताती है? जब किसी लड़की पर हमला होता है तो हम किस पक्ष में खड़े होते हैं? और जो हिम्मत जुटाकर पक्ष लेते हैं, सिस्टम उनके साथ क्या करता है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

चीन पर मनमोहन सिंह ने पीएम मोदी को खरी-खरी सुना दी

चुप्पी के लिए मशहूर मनमोहन सिंह मुखरता से बोले हैं.

15 जून जैसे हालात से निपटने के लिए सेना को फायरिंग की खुली छूट मिली!

इस पर विवाद हुआ था कि 15 जून को भारतीय जवानों ने गोली क्यों नहीं चलाई.

चीन से तनाव के बीच सरकार ने तीनों सेनाओं को दी ये बड़ी छूट

इससे पहले उरी हमले और बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद सेना को ये ताकत दी गई थी.

दिल्ली दंगे: हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल मौत मामले की चार्जशीट में योगेंद्र यादव का नाम

चार्जशीट में कहा गया है- कवलप्रीत कौर, देवांगना कलिता, सफूरा, योगेंद्र यादव प्रदर्शन स्थल पर हेट स्पीच देते थे.

सूर्यग्रहण की ये तस्वीरें देखकर दिल खुश हो जाएगा

ऐसा नज़ारा इससे पहले कब देखा था?

आर्मी के बुलेट-प्रूफ जैकेट बनाने का सामान चीन से आता है, कैसे होगा चीनी प्रोडक्ट का बॉयकॉट

आर्मी के लिए सामान बनाने वाली कंपनियां ने ये सुझाव दिए हैं.

सुशांत सिंह की मौत पर पहली बार सलमान खान ने कुछ कहा है

सलमान खान पर कई तरह के आरोप लग रहे थे.

भारत से तनाव के बीच चीन ने बांग्लादेश को एक झटके में 97 फीसदी का फायदा दे दिया है

चीन लगातार भारत के पड़ोसियों को अपने पाले में लाने की कोशिश कर रहा है.

फाइनली! शाहरुख की नई फिल्म कौन सी होगी, पता चल गया

शाहरुख आख़िरी बार आनंद एल राय की फिल्म 'ज़ीरो' में दिखे थे.

लद्दाख की गलवान घाटी पर चीन ने अपना दावा किया था, भारत ने करारा जवाब दिया है

विदेश मंत्रालय ने कहा, गलवान घाटी पर स्थिति ऐतिहासिक रूप से स्पष्ट है.