Submit your post

Follow Us

कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे के गुंडों की गोलियों से IG और SSP ऐसे बचे!

कानपुर का बिकरू गांव. यहां के रहने वाले गैंगस्टर विकास दुबे पर 60 से ज्यादा मामले चल रहे हैं. इसी तरह के एक मामले में 2 जुलाई को  पुलिस की टीम बिकरू गांव गई. यह टीम दुबे को गिरफ्तार करने गई थी. लेकिन किसी ने दुबे को पहले ही खबर दे दी. पुलिस टीम जैसे ही दुबे के घर के पास पहुंची, उस पर हमला हो गया.  दुबे और उसके साथियों ने पुलिस टीम पर गोलियां बरसाईं. फिर ढूंढ-ढूंढ़कर पुलिसवालों को मारा गया. आठ पुलिसकर्मी मौके पर ही शहीद हो गए.

हमले के बाद भारी संख्या में पुलिस बिकरू गांव के लिए रवाना हुई. 3 जुलाई की सुबह पुलिस की दुबे गैंग के लोगों से मुठभेड़ हुई थी. इसमें कानपुर रेंज के आईजी मोहित अग्रवाल और कानपुर नगर के एसएसपी दिनेश कुमार बाल-बाल बच गए. दुबे के दो साथी मारे गए.

दुबे के साथियों की तलाश को बनाई थी दो टीमें

इस मुठभेड़ के बारे में पुलिस ने अभी विस्तार से जानकारी दी है. कहा कि कानपुर रेंज के आईजी मोहित अग्रवाल, कानपुर नगर एसएसपी दिनेश कुमार पुलिस बल के साथ बिकरू गांव पहुंचे थे. गांव पहुंचने पर आस-पास के इलाके में दुबे और उसके साथियों को तलाशने के लिए दो टीमें बनाई गई. एक के मुखिया आईजी थे, जबकि दूसरी को एसएसपी लीड कर रहे थे. गांव से कुछ दूर इनकी मुठभेड़ पांच लोगों से हुई. ये लोग खेतों और झाड़ियों में छिपे हुए थे. इनमें से एक के पास राइफल थी.

बिकरू गांव में 2 जुलाई की देर रात हुई मुठभेड़ में पुलिस पर घात लगाकर हमला किया गया. इसके बाद ये बात आरोप लगे कि विकास दुबे को पुलिस की तरफ से मुखबिरी की गई. फोटो: PTI
बिकरू गांव में 2 जुलाई की देर रात हुई मुठभेड़ में पुलिस पर घात लगाकर हमला किया गया. इसके बाद ये आरोप लगे कि विकास दुबे को पुलिस की तरफ से मुखबिरी की गई. फोटो: PTI

एसएसपी के सीने पर लगी गोली लेकिन…

पुलिस ने बताया कि इन गुंडों की पहली भिड़ंत एसएसपी दिनेश कुमार की टीम से हुई. उन्होंने पुलिस को देखते ही गोलीबारी शुरू कर दी. इसमें कॉन्स्टेबल दुर्गेश त्रिपाठी घायल हो गए. गोलीबारी शुरू होने के बाद आईजी की टीम ने इन गुंडों को चारों तरफ घेरा लिया. इसी दौरान एसएसपी दिनेश कुमार के सीने पर गोली लगी. लेकिन बुलेटप्रूफ जैकेट होने की वजह से गोली जैकेट में धंस गई. इसके कुछ देर बाद एक बदमाश को गोली लग गई. और वह घायल हो गया. ऐसे में बाकी बदमाश मौके से भागने लगे.

आईजी के बालों को छूकर निकली गोली

पुलिस ने बताया कि गुंडों को भागने से रोकने के लिए आईजी की टीम ने जगह बदलने का फैसला किया. आईजी मोहित अग्रवाल ने जैसे ही अपना सिर ऊपर किया, उनके सिर के पास से गोली गुजरी. गोली उनके बालों को छूते हुए निकल गई. इस तरह मुठभेड़ में आईजी बाल-बाल बचे. इसके बाद पुलिस की गोलीबारी में एक और बदमाश घायल हो गया. लेकिन बाकी तीन बदमाश पास से गुजर रहे भैंसों की आड़ लेकर भाग गए.

Untitled Design (15)
फिलहाल पुलिस की 20 टीमें विकास दुबे के सर्च ऑपरेशन में जुटी हैं. बिकरू गांव में भी भारी संख्या में फोर्स तैनात है. (फोटो- PTI)

मारे गए बदमाशों में से एक दुबे का मामा

मुठभेड़ में घायल हुए बदमाशों की पहचान प्रेमप्रकाश पांडे और अतुल दुबे के रूप में हुई. पांडे विकास दुबे का मामा था. इनके पास से राइफल और पुलिसकर्मियों से लूटी गई पिस्तौल बरामद की गई थी. पांडे और दुबे गोली लगने से घायल हुए थे. इस पर उन्हें अस्पताल रवाना किया गया. लेकिन रास्ते में दोनों की मौत हो गई.


Video: कानपुर में उस रात क्या-क्या हुआ था, विकास दुबे की मामी ने पूरी कहानी बताई

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

श्रीलंका का ये क्रिकेटर हत्या के आरोप में गिरफ्तार

44 टेस्ट, 76 वनडे और 26 टी20 खेल चुका है.

लेह में दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने चीन का नाम लिए बिना क्या-क्या कहा?

जवानों पर, बॉर्डर के विकास पर, दुनिया की सोच पर बहुत कुछ बोला है.

ICMR ने एक महीने में कोरोना की वैक्सीन लॉन्च करने का झूठा दावा किया है!

क्या वैक्सीन के ट्रायल में घपला हो रहा है?

भारत-चीन के तनाव के बीच पीएम मोदी ने लद्दाख़ पहुंचकर किससे बात की?

पहले राजनाथ सिंह जाने वाले थे, नहीं गए.

मलेरिया वाली जिस दवा को कोरोना में जान बचाने के लिए इस्तेमाल कर रहे, वो उल्टा काम कर रही है?

हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्विन पर चौंकाने वाली रिसर्च!

इस साल के आख़िर तक मिलने लगेगी कोरोना की 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन!

भारत बायोटेक के अधिकारी ने क्या बताया?

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?

लगभग 16 मिनट के राष्ट्र के नाम संदेश में नरेंद्र मोदी ने क्या काम की बात की?

संदेश का सार यहां पढ़िए.