Submit your post

Follow Us

झारखंड में हेमंत सोरेन सरकार गिराने की कथित साजिश को लेकर BJP सवालों में क्यों है?

झारखंड में बड़ी सियासी उठापटक शुरू हो गई है. दावा किया जा रहा है कि राज्य की हेमंत सोरेन की सरकार को गिराने की कोशिश की जा रही है. आरोप लग रहा है बीजेपी पर. सोरेन की पार्टी झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) का आरोप है कि बीजेपी कर्नाटक मॉडल अपनाकर उसकी सरकार गिराना चाहती है. कांग्रेस भी मैदान में कूद पड़ी है. एक कांग्रेसी विधायक ने दावा किया है कि सरकार को अस्थिर करने के लिए उन्हें मंत्री पद और मोटी रकम का ऑफर दिया गया था. ये आरोप कोलेबीरा से कांग्रेस विधायक विक्सल कोंगड़ी ने लगाया है. सोरेन सरकार गिराने की साजिश के आरोप में अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. आइए जानते हैं कि ये पूरा मामला क्या है.

‘मुझे 1 करोड़ रुपए का ऑफर दिया गया’

झारखंड में JMM, कांग्रेस, आरजेडी की मिलीजुली सरकार है. कांग्रेस के एमएलए विक्सल कोंगड़ी ने 25 जुलाई को आरोप लगाया कि उन्हें झारखंड सरकार को अस्थिर करने के लिए 1 करोड़ रुपए और मंत्री पद ऑफर किया गया. ये ऑफर कुछ अनजान लोगों ने उन्हें कई बार संपर्क करके दिया. कोलेबीरा से एमएलए विक्सल कोंगड़ी ने इंडियन एक्सप्रेस अखबार को बताया कि तीन लोगों ने उनसे आधा दर्जन बार संपर्क किया. उनका दावा है कि

“तीन लोगों ने मेरी पार्टी के कार्यकर्ताओं के जरिए मुझसे संपर्क किया. उन्होंने बताया कि वो किसी कंपनी के लिए काम करते हैं. मैं उनसे न मिलने की कोशिश करता रहा, लेकिन वो किसी न किसी तरह से मिलने का रास्ता निकाल लेते. एक बार उन्होंने मुझे 1 करोड़ रुपए से ज्यादा कैश ऑफर किया. मैंने तुरंत अपनी पार्टी के नेता आलमगीर आलम और झारखंड कांग्रेस के इंचार्ज आरपीएन सिंह को जानकारी दी. मैंने सीएम हेमंत सोरेन जी को भी इस बारे में सूचित किया.”

हालांकि विक्सल कोंगड़ी ने यह भी कहा कि उनसे जिन तीन लोगों ने संपर्क किया था, उनके चेहरे वो भूल चुके हैं. अब उन्हें पहचान पाना मुश्किल है.

JMM का आरोप- झारखंड में कर्नाटक मॉडल की कोशिश

इस राजनीतिक हंगामे की शुरुआत कांग्रेस विधायक विक्सल कोंगड़ी के दावे से एक दिन पहले ही हो गई थी. 24 जुलाई को रांची के एक होटल से पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया. उनके पास से भारी मात्रा में कैश मिला था. झारखंड पुलिस ने दावा किया कि ये तीन लोग होर्स ट्रेडिंग (खरीद फरोख्त) में शामिल हैं. लंबे समय से पैसों का प्रलोभन देकर सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं. इस गिरफ्तारी के बाद JMM की तरफ से बीजेपी पर गंभीर आरोप लगाए गए. दावा किया गया कि बीजेपी झारखंड में कर्नाटक मॉडल लागू करना चाहती है. यहां पर विधायकों की खरीद-फरोख्त करके सरकार गिराने की साजिश रची जा रही है. उधर बीजेपी ने इन तमाम आरोपों को बेबुनियाद बताया है और उल्टे राज्य सरकार पर ही आरोप मढ़ दिए हैं.

गिरफ्तार किए गए लोग कौन हैं?

पुलिस ने रांची के होटल से अभिषेक दुबे, अमित सिंह और निवारण प्रसाद महतो को गिरफ्तार किया. इसमें दो शख्स सरकारी कर्मचारी हैं, वहीं तीसरा एक शराब करोबारी है. पुलिस ने इन तीनों के पास से भारी मात्रा में कैश मिलने की बात तो कही लेकिन कितना, इसका खुलासा नहीं किया. पुलिस ने उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 419 (आपराधिक साजिश में शामिल होना), 420 (धोखाधड़ी), 124A (राजद्रोह), 120B (आपराधिक साजिश) और प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है.

तीन विधायक दिल्ली क्यों गए?

पुलिस इस मामले में नई-नई बातें सामने आने का दावा कर रही है. आजतक की खबर के मुताबिक, इस मामले में महाराष्ट्र बीजेपी के दो विधायकों का नाम भी आ रहा है. ये विधायक हैं चंद्रशेखर राव और चरण सिंह. पुलिस के मुताबिक, गिरफ्तार आरोपियों ने सरकार गिराने के इस पूरे खेल का खुलासा किया है. पुलिस का दावा है कि अभिषेक दुबे की कांग्रेस के 19 में से 11 विधायकों के साथ डील हो रही थी. उन्हें एक करोड़ रुपये एडवांस देने की बात हुई थी. अभिषेक दुबे कांग्रेस के विधायक डॉ इरफान अंसारी, उमाशंकर अकेला और निर्दलीय विधायक अमित कुमार यादव के साथ दिल्ली भी गया था. उनके साथ अमित सिंह, निवारण महतो भी थे. दिल्ली एयरपोर्ट से जय कुमार नाम के एक शख्स ने इन लोगों को रिसीव किया. तीनों कांग्रेस विधायक एक इनोवा कार से, और बाकी लोग दूसरी गाड़ी से होटल के लिए रवाना हो गए. रांची से दिल्ली जाने के लिए विधायक अमित कुमार यादव का टिकट भी जय कुमार नाम के शख्स ने भेजा था. जय कुमार महाराष्ट्र बीजेपी विधायक का भांजा है.

आजतक के मुताबिक, पुलिस का ये भी कहना है कि कांग्रेस के दोनों विधायक डॉ. इरफान अंसारी, उमाशंकर अकेला और निर्दलीय विधायक अमित कुमार यादव की दिल्ली में महाराष्ट्र के दो विधायकों से बैठक हुई. ये 16 जुलाई का दिन था. झारखंड से आए विधायकों की महाराष्ट्र बीजेपी विधायकों से मुलाकात जय कुमार ने करवाई. अभिषेक दुबे ने पुलिस को जो बयान दिया है, उसमें दावा किया है कि इसी मुलाकात में कांग्रेस विधायकों को एक करोड़ रुपये एडवांस देने की डील हुई थी. लेकिन जब कांग्रेस विधायकों को एडवांस पैसा नहीं मिला तो वे नाराज हो गए. मीटिंग के तुरंत बाद कांग्रेस विधायक रांची लौट गए.

दैनिक भास्कर अखबार के मुताबिक, कांग्रेसी विधायक इरफान अंसारी, उमाशंकर अकेला और निर्दलीय विधायक अमित यादव ने दिल्ली जाने की बात मानी है. उन्होंने कहा कि इरफान अंसारी को अपने पिता को देखने जाना था. अमित यादव को पत्नी का इलाज कराना था, इसलिए तीनों साथ गए थे. वहां किसी से भी मिलना-जुलना नहीं हुआ. दो दिन में लौट आए. उन्होंने आरोपियों से किसी भी संबंध को नकारा दिया.

बीजेपी का क्या कहना है?

बीजेपी पूरे मामले से पल्ला झाड़ रही है. इंडियन एक्सप्रेस अखबार की खबर के मुताबिक, एक आरोपी निवारण प्रसाद महतो के सोशल मीडिया पेज से उसके बीजेपी में सक्रिय होने का पता चलता है. हालांकि झारखंड बीजेपी के प्रवक्ता प्रतुल सहदेव ने निवारण महतो के बीजेपी सदस्य होने की जानकारी न होने की बात कही है. सहदेव ने मामले में सीबीआई जांच की मांग की है. बीजेपी नेता और राज्य के पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी ने इसे नौटंकी करार दिया है. उनका कहना है कि पुलिस को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके मामले की पूरी जानकारी देनी चाहिए. पुलिस ने अब तक इस मामले के कई पहलुओं के बारे में नहीं बताया है. पुलिस एक प्रेस विज्ञप्ति के जरिए तीन लोगों के हवाले से सरकार गिराने की साजिश की बात कह रही है. चूंकि सीबीआई की बात होने पर कहा जाएगा कि केंद्र में बीजेपी सरकार है इसलिए हाईकोर्ट के सिटिंग जज की अध्यक्षता में एसआईटी बनवाकर जांच कराई जाए. मरांडी ने पुलिस को चेतावनी देते हुए कहा कि वो राज्य सरकार का टूल न बने.

झारखंड के पहले मुख्यमंत्री रह चुके हैं बाबुलाल मरांडी.
झारखंड के मुख्यमंत्री रह चुके बीजेपी के बाबूलाल मरांडी ने एसआईटी जांच की मांग की है .

अब मामला पुलिस के पाले में है. सिटी एसपी सौरभ ने दैनिक भास्कर अखबार से कहा है कि पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है. जांच में जो भी दोषी पा जाएंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई होगी. चूंकि इन आरोपियों पर दर्ज केस में भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की धाराएं लगी हुई हैं. इसलिए अब डीएसपी स्तर के अधिकारी मामले की जांच करेंगे. पहले जांच का जिम्मा कोतवाली थाने के दारोगा कमलेश राय जांच कर रहे थे.

झारखंड में विधानसभा का गणित क्या है?

81 सीटों वाली झारखंड विधानसभा में झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के नेतृत्व में मिलीजुली सरकार चल रही है. सीएम हैं हेमंत सोरेन. सरकार बनाने के लिए 42 सीटें चाहिए. हेमंत सोरेन की सरकार में कांग्रेस, आरजेडी, एनसीपी और सीपीआई(एमएल) लिबरेशन शामिल है. सीटों की संख्या कुछ इस तरह से है-
जेएमएम – 30
कांग्रेस – 18
आरजेडी – 1
एनसीपी – 1
सीपीआई(एमएल) लिबरेशन – 1
कुल – 51
बीजेपी 26 सीटों के साथ प्रदेश की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी है.


वीडियो – झारखंड: दो दिन से लापता BJP नेता की बेटी का शव पेड़ से लटकता मिला

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

LIC पॉलिसी से PAN नंबर लिंक नहीं है, ये बड़ा नुकसान होगा!

LIC पॉलिसी से PAN नंबर लिंक नहीं है, ये बड़ा नुकसान होगा!

लिंक करने का पूरा प्रोसेस बता रहे हैं, जान लीजिए.

यूपी चुनाव: सपा-सुभासपा गठबंधन का ऐलान, राजभर बोले- एक भी सीट नहीं देंगे तो भी समर्थन रहेगा

यूपी चुनाव: सपा-सुभासपा गठबंधन का ऐलान, राजभर बोले- एक भी सीट नहीं देंगे तो भी समर्थन रहेगा

सपा ने ट्वीट कर कहा- 2022 में मिलकर करेंगे बीजेपी को साफ़!

आगरा में पुलिस कस्टडी में सफाईकर्मी की मौत, बवाल के बाद पुलिसकर्मियों पर FIR, 6 सस्पेंड

आगरा में पुलिस कस्टडी में सफाईकर्मी की मौत, बवाल के बाद पुलिसकर्मियों पर FIR, 6 सस्पेंड

थाने के मालखाने से 25 लाख चोरी के आरोप में पुलिस ने पकड़ा था सफाईकर्मी को.

लखीमपुर की जांच से हाथ खींच रही यूपी सरकार? SC ने तगड़ी फटकार लगाते हुए और क्या सवाल दागे?

लखीमपुर की जांच से हाथ खींच रही यूपी सरकार? SC ने तगड़ी फटकार लगाते हुए और क्या सवाल दागे?

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, कभी खत्म न होने वाली कहानी न बन जाए ये जांच.

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल में भारी बारिश के कारण हुई मौतों की संख्या 35 तक पहुंची.

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

इंसाफ दिलाने के लिए धमकियों और खतरों की परवाह नहीं की.

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

पुलिस और सुरक्षा बलों ने इलाके को घेरा.

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री से की बात.

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

कश्मीर ज़ोन पुलिस ने बताया घटनास्थलों को खाली कराया गया. तलाशी जारी.

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

राकेश टिकैत ने भी मीडिया से बात की है.