Submit your post

Follow Us

पांच पुलिसवालों को चाकुओं से गोदा, गोलियां मारीं और फिर हथियार लूटकर भाग गए

14 जून, 2019 की शाम को झारखंड के सरायकेला-खरसावां जिले में एक बड़ा नक्सली हमला हुआ. इस हमले में तिरुलडीह थाने के पांच पुलिसवाले शहीद हो गए. पुलिसवालों की हत्या के बाद नक्सलियों ने उनके हथियार लूट लिए और फरार हो गए. झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास ने ट्वीट कर कहा है कि जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी.

बाइक से आए, पुलिसवालों को घेरा और गोलियां बरसा दीं

दुमका पुलिस और एसएसबी की जॉइंट टीम ने एक मुठभेड़ में 10 लाख के इनामी नक्सली ताला दा को मार गिराया है.
झारखंड और पश्चिम बंगाल की सीमा पर कई नक्सली संगठन सक्रिय हैं.

सरायकेला-खरसावां जिले के तिरुलडीह थाने में एक गांव है. नाम है आदारडीह. इस गांव के लोगों ने शिकायत की थी कि गांव की सड़कें बहुत खराब हैं. दोपहर में तिरुलडीह थाने से पांच पुलिसवाले बोलेरो गाड़ी से गांव में पहुंचे. वहां पर उनलोगों ने गांववालों की दिक्कतें सुनीं और सड़क बनने का आश्वासन देकर निकल गए. दोपहर के करीब 1.30 बजे पुलिसवालों ने गांव से निकलते हुए मछली खरीद ली. शाम के करीब 4 बजे पुलिसवाले पास के बाजार कुकडू हाट में गश्त करने लगे. ये कुकडू हाट बंगाल की सीमा से मुश्किल से डेढ़ किमी दूर है. बाजार में बाइकों पर सवार करीब 15 लोगों ने पुलिसवालों को घेर लिया. पुलिस टीम के जिंदा बचे ड्राइवर सुखलाल कुदादा ने बताया कि नक्सलियों ने पुलिसवालों को घेरने के बाद चाकुओं से गोद दिया और फिर गोली मारकर हत्या कर दी. इस हमले में सभी पांचों पुलिसवालों की मौके पर ही मौत हो गई. इसके बाद नक्सलियों ने पुलिसवालों के हथियार लूट लिए और फरार हो गए. नक्सली हमले में शहीद होने वालों में एएसआई गोवर्धन पासवान, एएसआई मानोधन हांसदा, कॉन्सटेबल धनेश्वर महतो, युधिष्ठिर और डिबरू पूर्ति शामिल हैं. पुलिसवालों की गाड़ी चला रहे कॉन्सटेबल सुखलाल कुदादा इस हमले में किसी तरह से बचकर भाग गए.

महाराज प्रमाणिक दस्ते ने किया हमला

anti-naxal-force-reuters
माना जा रहा है कि इस हमले के पीछे पश्चिम बंगाल के पुरुलिया में सक्रिय महाराज प्रमाणिक दस्ते का हाथ हो सकता है.

सरायकेला-खरसावां के एसपी चंदन कुमार सिन्हा फिलहाल छुट्टी पर हैं. उनकी जगह प्रभारी बनाए गए हैं प्रभात कुमार. प्रभात कुमार ने कहा है कि अभी तक किसी भी नक्सली संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है. लेकिन पुलिस इस बात की आशंका जता रही है कि हमले के पीछे महाराज प्रमाणिक दस्ते का हाथ हो सकता है. ये दस्ता पश्चिम बंगाल के पुरुलिया में सक्रिय है, जो कुकडू हाट से सटा हुआ है. हमले के बाद जैसे नक्सलियों ने माओवाद जिंदाबाद का नारा लगाया, उससे इस ग्रुप का हाथ होने की आशंका जताई जा रही है. वहीं जिस तिरुलडीह थाने के पुलिवालों पर ये नक्सली हमला हुआ है, उस थाने के प्रभारी महावीर उरांव को कुछ ही दिन पहले सस्पेंड कर दिया गया था.

बंगाल-झारखंड सीमा पर सक्रिय हैं कई बड़े इनामी नक्सली

naxalcover2
बंगाल-झारखंड की सीमा पर 15 लाख रुपये से लेकर 25 लाख रुपये तक के इनामी नक्सली सक्रिय हैं.

पश्चिम बंगाल और झारखंड की सीमा पर कई बड़े नक्सली सक्रिय हैं. इनमें 25 लाख का इनामी नक्सली असीम मंडल उर्फ आकाश उर्फ तिमिर है. इसके अलावा 15 लाख के इनामी नक्सली मदन महतो भी इसी इलाके में है, जो रीजनल कमेटी मेंबर भी है. उसके अलावा एक और 15 लाख का इनामी नक्सली है, जिसका नाम सचिन उर्फ रामप्रकाश मार्डी है.

2013 के बाद पहली बार किया सरेबाजार हमला

naxal
2013 में भी नक्सलियों मे दुमका के एसपी अमरजीत बलिहार और उनके बॉडीगार्ड्स की हत्या कर दी थी.

पुलिसवालों को घेरकर सरेबाजार हमला करना नक्सलियों ने बंद कर दिया था. आखिरी बार 2013 में नक्सलियों ने पुलिसवालों की घेरकर हत्या की थी. वो 2013 का साल था. पाकुड़ के एसपी अमरजीत बलिहार और उनके बॉडीगार्ड एक मीटिंग से लौट रहे थे.दुमका के काठीकुंड में घात लगाए नक्सलियों ने घेरकर एसपी और उनके बॉडीगार्ड्स को मार डाला था. करीब छह साल के बाद ऐसा हमला 14 जून, 2019 को हुआ और उसमें पांच पुलिसवाले शहीद हो गए.


पश्चिम बंगाल में NRS हॉस्पिटल में उस दिन क्या हुआ था?|दी लल्लनटॉप शो| Episode 237

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.