Submit your post

Follow Us

पीएम मोदी के मित्र, जापान के पीएम शिंजो आबे को किस बीमारी की वजह से पद छोड़ना पड़ा?

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे. उन्होंने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया. स्वास्थ्य कारणों से. शिंजो आबे का कार्यकाल सितंबर, 2021 में ख़त्म होने वाला था. वो जापान के सबसे लंबे समय तक पीएम रहने का रिकॉर्ड बना चुके हैं.

उन्होंने कहा,

मेरा कार्यकाल पूरा होने में अभी एक साल का वक्त है, लेकिन मैं नहीं चाहता कि मेरी सेहत की वजह से सरकार के कामकाज पर असर पड़े. इसलिए मैंने प्रधानमंत्री पद छोड़ने का फैसला किया है.

65 साल के आबे लंबे समय से पेट से जुड़ी बीमारी से जूझ रहे हैं. इसकी वजह से उन्हें इस महीने दो बार अस्पताल जाना पड़ा था. इसके बाद से ही उनकी सेहत को लेकर जापान की मीडिया कई तरह की चर्चा हो रही थी.

आबे के इस्तीफा देने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर उनके जल्दी स्वस्थ होने की कामना की. पीएम मोदी ने लिखा,

आपके स्वास्थ्य के बारे में सुनकर दुख हुआ, मेरे प्यारे दोस्त. हाल के वर्षों में आपके बुद्धिमान नेतृत्व और व्यक्तिगत प्रतिबद्धता के चलते भारत-जापान साझेदारी पहले से कहीं अधिक गहरी और मजबूत हुई है. मैं आपके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना और प्रार्थना करता हूं.

आखिर पीएम मोदी के दोस्त शिंजो आबे पेट से जुड़ी किसी बीमारी से जूझ रहे हैं? मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आबे कई साल से अल्सरेटिव कोलाइटिस की समस्या से जूझ रहे हैं. 2007 में भी उन्होंने अल्सरेटिव कोलाइटिस की वजह से अचानक अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. इस बीमारी से वो किशोरावस्था से ही जूझ रहे हैं.

क्या है ये बीमारी 

ये जानने के लिए हमने बात की दिल्ली के सरकारी अस्पताल के डॉक्टर रौनक से. उन्होंने बताया-

जैसा कि इस बीमारी के नाम में है- अल्सरेटिव कोलाइटिस. कोलाइटिस शब्द आया है कोलोन से. बड़ी आंत को कोलोन कहते हैं.कोलाइटिस का मतलब हुआ Inflammation of the colon यानी आंत में सूजन होना. अल्सरेटिव का मतलब हुआ साथ में अल्सर का भी होना. अल्सरेटिव कोलाइटिस में आम तौर पर बड़ी आंत में Ulceration यानी घाव हो रहे होते हैं. ये क्रोनिक बीमारी है, जो लंबे समय तक चलती है. ऐसा नहीं है कि ये किसी इंफेक्शन के कारण होती है. ये बीमारी जिनको होती है, बार-बार परेशान करती है. आतों में Inflammation के कई कारण हो सकते हैं. इनमें से एक है अल्सरेटिव कोलाइटिस.

डॉक्टर रौनक ने आगे बताया-

कोलाइटिस में मरीजी की लाइफ मुश्किल हो जाती है. लैट्रिंग में दर्द होना, जलन होना, पेट में दर्द होना. पेट में क्रोनिक पेन रहना, ब्लीडिंग होना. हिमोग्लोबिन का गिरना, ये सबकुछ हो सकता है अल्सरेटिव कोलाइटिस में. इस बीमारी में आंत का प्राइमरी फंक्शन प्रभावित होता है. इसके अलावा इस बीमारी में आंखों में दिक्कत हो सकती है. हड्डियों, जोड़ों में दर्द हो सकता है.

इस बीमारी में 25 प्रतिशत लोगों को अपने जीवन में पेट के अलावा भी कहीं न कहीं प्रॉब्लम होती है. इस बीमारी का इलाज काफी लंबा चलता है. इलाज से सिंपटम्स कंट्रोल कर सकते हैं, लेकिन ये बीमारी पूरी तरह खत्म नहीं हो पाती है.

डॉक्टर रौनक का कहना है कि ये बीमारी जिनको होनी है, उनको ये बीमारी होगी ही. इस बीमारी से बचाव का कोई तरीका नहीं है. लेकिन बीमारी के दौरान ये पता चल जाता है कि किस चीज से बढ़ रही है. जैसे खाने की पहचान हो गई कि ये खाने के बाद उनकी बीमारी बढ़ रही है, तो उन चीजों को से परजेह करें.

क्या लक्षण है? 

कोई भी जिनको बार-बार लैट्रीन की तकलीफ होती है. लूज मोशन होते हैं, पेट में जलन रहती है. पेट दर्द रहता है, ये देखा हो कि कुछ पार्टिकुलर चीजें खाने के बाद ज्यादा होता है, तो उन्हें जांच करानी चाहिए. लैट्रीन के रास्ते दूरबीन डालकर आंतों को देखा जाता है. अल्सरेटिव कोलाइटिस में अल्सर आतों में मिलते हैं. बीमारी का पता लगने के बाद ट्रीटमेंट शुरू होता है. कई मामले में ऑपरेशन की नौबत आती है. हालांकि ये इतना सफल नहीं होते कि इंसान नॉर्मल लाइफ जीने लगे.

हालांकि ये बीमारी ऐसी नहीं है कि तुरंत मौत हो जाएगी. हालांकि कुछ मामलों में कैंसर का खतरा बना रहता है.

29 नवंबर, 2005 की आउटलुक की एक खबर के मुताबिक, अमिताभ बच्चन को भी कोलाइटिस से जुड़ी समस्या हो चुकी है. उस समय उन्हें मुंबई के लीलावती हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था.


सेहतः रोज़ सिर में दर्द होता है तो ये दिक्कतें हो सकती हैं, निपटने का तरीका जान लीजिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

तय समय पर परीक्षा कराने के लिए 150 शिक्षाविदों ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी.

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

बीजेपी नेताओं के खिलाफ़ याचिका ख़ारिज करते हुए अदालत ने और क्या कहा, ये भी पढ़िए.

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.

महाराष्ट्र: रायगढ़ में पांचमंज़िला इमारत ढही, 50 से ज़्यादा लोग दबे

एनडीआरएफ की तीन टीमें राहत के काम में जुटी हैं.

क्या 73 दिन में कोरोना वैक्सीन आ रही है? बनाने वाली कंपनी ने बताई सच्ची-सच्ची बात

कन्फ्यूजन है कि खुश होना है या अभी रुकना है?

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?