Submit your post

Follow Us

जम्मू-कश्मीर के इस IPS अधिकारी को किस बात के लिए सस्पेंड कर दिया गया?

बसंत रथ. जम्मू-कश्मीर के आईपीएस अधिकारी. गृह मंत्रालय ने उन्हें सस्पेंड कर दिया है. दुराचार और दुर्व्यवहार के आरोप में. गृह मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जम्मू-कश्मीर के आईपीएस अधिकारी को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाता है. उनके खिलाफ लगातार दुराचार और दुर्व्यवहार के कथित मामले सामने आए हैं.

मंगलवार शाम जारी आदेश में कहा गया है कि 2000 बैच के आईपीएस अधिकारी को तुरंत श्रीनगर में पुलिस मुख्यालय से जोड़ा जाता है. बसंत रथ से कहा गया है कि वो जम्मू-कश्मीर पुलिस के डायरेक्टर जनरल की अनुमति के बिना मुख्यालय नहीं छोड़ सकते.

गृह मंत्रालय की ओर से जारी लेटर.
गृह मंत्रालय की ओर से जारी लेटर.

लेटर से वबाल मच गया था

बसंत रथ ने हाल ही में एक लेटर लिखा था. यह लेटर सोशल मीडिया में वायरल हो गया था. इसमें उन्होंने जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह की वजह से खुद की सुरक्षा को लेकर आशंका जताई है. बसंत रथ ने 25 जून को गांधीनगर थाना प्रभारी को यह कथित पत्र लिखा था. इस लेटर में उन्होंने एफआईआर दर्ज करने की मांग नहीं की थी. हालांकि इसे डेली डायरी में दर्ज करने के लिए कहा था. गांधीनगर थाने के प्रभारी गुरनाम चौधरी ने इस तरह का कोई पत्र मिलने से इनकार किया था.

आईजी बसंत रथ ने इस कथित लेटर में कहा था,

मैं आपको अपनी सुरक्षा और प्रतिष्ठा के प्रति वास्तविक आशंका को लेकर पत्र लिख रहा हूं. मैं यह देश के आम नागरिक के तौर पर कर रहा हूं. अपनी व्यक्तिगत क्षमता में, न कि लोकसेवक के रूप में, न कि पुलिसकर्मी के रूप में. मैं आपसे उपर्युक्त व्यक्ति के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने को नहीं कह रहा हूं. मैं आपसे सिर्फ यह कह रहा हूं कि आप इसे अपने थाने में रोजनामचा का हिस्सा बनाएं…अगर मेरे साथ कुछ बुरा होता है, तो आपको पता होना चाहिए कि किसका नंबर आपको डायल करना है.

लेटर की कॉपी.
लेटर की कॉपी.

पत्र में सब्जेक्ट के रूप में जम्मू-कश्मीर पुलिस प्रमुख दिलबाग सिंह का नाम है. सोशल मीडिया पर वायरल हुए इस पत्र ने केंद्रशासित प्रदेश में विवाद खड़ा कर दिया था.

आईपीएस अधिकारी बसंत रथ (बाएं) और जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह (दाएं)
आईपीएस अधिकारी बसंत रथ (बाएं) और जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह (दाएं)

जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं. बसंत रथ ने लिखित शिकायत की एक प्रति डीजीपी सिंह को दी थी. बसंत रथ को IGP, होमगार्ड का जिम्मा मिला था. 2018 में वह IGP के रूप में प्रमोट हुए थे. जम्मू-कश्मीर में ट्रैफिक नियमों को प्रभावी बनाने की वजह से सोशल मीडिया पर चर्चा में आए थे. हालांकि लोगों की ओर पसंद किए जाने के बावजूद IGP, ट्रैफिक के रूप में उनका कार्यकाल कुछ समय का ही रहा.


CBSE के इस फैसले से स्कूली बच्चों को थोड़ी राहत मिली होगी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

विकास दुबे को बचाने के लिए अपने ही साथियों को धोखा देने वाले दो पुलिसवाले धर लिए गए हैं

घटना में आठ पुलिसवाले शहीद हुए थे.

PM Cares के पैसों से बने वेंटिलेटर पर सवाल उठे तो बनाने वाले ने राहुल गांधी को घेर लिया

कहा कि राहुल गांधी के सामने डेमो दिखा सकता हूं.

क्या गलवान में पीछे हटकर चीन 1962 वाली चाल दोहरा रहा है?

58 साल पहले भी ऐसा ही हुआ था. पहले चीन गलवान में पीछे हटा और कुछ दिन बाद भारत पर हमला कर दिया.

सरकार ने वो आदेश दिया है कि कंपनियां मास्क और सैनिटाइज़र के दाम में मनचाहा बदलाव कर सकती हैं

राज्यों ने शिकायत नहीं की, तो सरकार ने आदेश निकाल दिया

बुरी खबर! 'मेरे जीवनसाथी', 'काला सोना' जैसी फ़िल्में बनाने वाले प्रड्यूसर हरीश शाह नहीं रहे

कैंसर से जारी जंग आखिरकार हार गए.

दिल्ली की जेल में सजा काट रहे सिख दंगे के दोषी नेता की कोरोना से मौत हो गई

विधायक रह चुके इस नेता की कोरोना रिपोर्ट 26 जून को पॉज़िटिव आई थी.

श्रीलंका का ये क्रिकेटर हत्या के आरोप में गिरफ्तार

44 टेस्ट, 76 वनडे और 26 टी20 खेल चुका है.

लेह में दिए अपने भाषण में पीएम मोदी ने चीन का नाम लिए बिना क्या-क्या कहा?

जवानों पर, बॉर्डर के विकास पर, दुनिया की सोच पर बहुत कुछ बोला है.

ICMR ने एक महीने में कोरोना की वैक्सीन लॉन्च करने का झूठा दावा किया है!

क्या वैक्सीन के ट्रायल में घपला हो रहा है?

भारत-चीन के तनाव के बीच पीएम मोदी ने लद्दाख़ पहुंचकर किससे बात की?

पहले राजनाथ सिंह जाने वाले थे, नहीं गए.