Submit your post

Follow Us

पंचायत चुनाव के दौरान हुई मौतों पर योगी सरकार का 'सफ़ेद झूठ' पकड़ा गया!

उत्तर प्रदेश के हालिया पंचायत चुनावों के दौरान जान गंवाने वाले टीचरों की संख्या को लेकर यूपी सरकार घिरती जा रही है. योगी आदित्यनाथ की सरकार ने मंगलवार को कहा था कि चुनाव ड्यूटी में लगे केवल 3 टीचरों की मौत की जानकारी उसे मिली है. ये आंकड़ा तब, जबकि शिक्षक संगठन 1621 मृत टीचरों की लिस्ट थमा चुके हैं. अब झांसी जिले के डीएम की एक चिट्ठी वायरल है. इसमें बताया गया है कि चुनावी ड्यूटी करते हुए 36 लोगों की मौत हुई. इसके बाद लोग सवाल उठा रहे हैं कि जब एक ही जिले में इतनी मौतें हुईं, तो पूरे यूपी में क्या हाल हुआ होगा.

क्या है झांसी डीएम की चिट्ठी में?

झांसी के डीएम हैं आन्द्रा वामसी. इन्होंने 8 मई को एक चिट्ठी राज्य निर्वाचन आयोग को लिखी. उसमें लिखा कि 27 अप्रैल को अमर उजाला अखबार में एक खबर छपी. पंचायत चुनाव की ड्यूटी करने वाले 135 शिक्षक, शिक्षामित्र और अनुदेशकों की मृत्यु के बारे में. इस रिपोर्ट में झांसी का नाम नहीं है. अब तक (यानी 8 मई तक) झांसी में चुनावी ड्यूटी करने वाले 36 शिक्षक, अधिकारी, कर्मचारी आदि की विभिन्न कारणों से मृत्यु हुई है. चिट्ठी में इन सभी 36 लोगों के नाम, पद, मौत का कारण आदि बताया गया है. इसमें 33 लोगों के बारे में साफ़ लिखा है कि कोविड के कारण इन लोगों की मौत हुई. बाकी 3 लोगों की मौत का कारण एकाएक स्वास्थ्य का ख़राब होना बताया गया है.

Jhansi 36
झांसी प्रशासन के मुताबिक़, 33 लोगों की मौत चुनावी ड्यूटी पर कोविड के कारण हुई. (तस्वीर: ट्विटर)

सरकार पर उठाए सवाल

सोशल मीडिया पर लोग लिख रहे हैं कि जब आधिकारिक तौर पर एक जिले में 33 लोगों की मौत कोरोना से हुई है, तो उत्तर प्रदेश में तो 75 जिले हैं. ऐसे में हज़ार से अधिक लोगों की मौत कोरोना की वजह से हुई होगी. सरकार झूठ कह रही है कि सिर्फ 3 टीचरों की मौत हुई है. नेताओं ने भी सरकार को घेरने की कोशिश की.

नफ़ीस अहमद समाजवादी पार्टी के नेता हैं. गोपालपुर, आजमगढ़ से विधायक हैं. इन्होंने ट्वीट करके लिखा-

अब डीएम साहब पर भी मुकदमा होगा? सरकार तो सिर्फ 3 शिक्षकों के मरने की बात कर रही है जबकि डीएम झाँसी चुनाव के बाद 36 कर्मचारियों के मरने को सूची जारी कर चुके हैं. कितना झूठ बोलेगी सरकार? @samajwadiparty @MediaCellSP pic.twitter.com/P8B6rsoUmM

समाजवादी पार्टी के नेता अरविंद गिरी ने ट्वीट में लिखा-

उत्तर प्रदेश सरकार निष्ठुर भाजपा सरकार कह रही हैं कि सिर्फ 3-4 शिक्षकों की मौत चुनाव ड्यूटी में हुई है

योगी ने दिए नई गाइडलाइंस बनाने के आदेश

सीएम योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार 20 मई को अधिकारियों के साथ बैठक में चुनाव ड्यूटी में हुई मौतों पर नया आदेश दिया. सीएम ने मुख्य सचिव से कहा कि वह राज्य चुनाव आयोग से बात करें और चुनाव ड्यूटी के दौरान सरकारी कर्मचारियों की मृत्यु पर नई गाइडलाइंस बनाएं. ऐसा इसलिए क्योंकि मौजूदा गाइडलाइंस के मुताबिक चुनाव ड्यूटी में लगे उन्हीं लोगों की मृत्यु पर मुआवजा दिया जाता है, जिनकी मौत चुनाव स्थल पर हुई हो, या फिर चुनाव प्रक्रिया के बाद घर पहुंचने से पहले हुई हो.

सीएम योगी ने कहा कि यह गाइडलाइन पुरानी है. कोरोना संक्रमण को भी कवर नहीं करती. यह गाइडलाइन तब बनी थी, जब कोरोना वायरस जैसी कोई चीज नहीं थी. अब नई चुनौतियां हैं. शिक्षकों और दूसरे सरकारी कर्मियों की कोरोना से मृत्यु चुनाव ड्यूटी के बाद निश्चिय समय के अंदर होती हो तो उसे भी गाइडलाइन में शामिल किया जाए. तब सरकार सहायता और मुआवजा दे सकेगी.

सीएम योगी ने मुख्य सचिव और अपर मुख्य सचिव पंचायती राज को निर्देश दिए कि राज्य निर्वाचन आयोग से बात करें और ऐसे हर कर्मचारी के परिवार को आर्थिक सहायता और नौकरी दिलायी जाए, जिनकी मौत चुनाव ड्यूटी के दौरान हुई है.

Panchayat Election New Guidelines Up
सीएम योगी ने कहा कि पुरानी गाइडलाइन कोरोना संक्रमण को कवर नहीं करती. (तस्वीर: इंडिया टुडे)

शिक्षक संघ ने क्या कहा था?

सरकार भले ही 3 टीचरों की मौत का दावा करे लेकिन उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ ने 16 मई को सरकार को एक लिस्ट भेजी थी. इसमें 1621 टीचरों के नाम, स्कूल का नाम, ब्लॉक और जिले का नाम, मृत्यु की तिथि और परिवार का मोबाइल नंबर लिखा है. संगठन का दावा है कि चुनाव शुरू होने से लेकर खत्म होने तक इन सभी की कोरोना के कारण जान गई है. सरकार को इनके परिवार को एक-एक करोड़ की आर्थिक सहायता और नौकरी देनी चाहिए.

शिक्षक संघ का कहना है कि पंचायत चुनाव रोकने की उसकी ओर से बार-बार गुहार लगाई जाती रही, लेकिन नहीं सुनी गई. चुनाव ड्यूटी के दौरान शिक्षकों के अलावा अन्य कर्मचारियों को भी प्रशिक्षण दिया गया था. इसके बाद पोलिंग बूथ तक पहुंचने, मतदान कराने और आखिर में मतगणना तक ये सभी काम में जुटे रहे. संघ का आरोप है कि इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग आदि का ख्याल नहीं रखा गया. चुनावी ड्यूटी में लगे लोग संक्रमित होते रहे. जान गंवाते रहे.


विडियो- यूपी पंचायत चुनाव की ड्यूटी में लगे शिक्षकों की मौत में योगी सरकार सिर्फ 3 मौतें क्यों मान रही?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल में भारी बारिश के कारण हुई मौतों की संख्या 35 तक पहुंची.

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

इंसाफ दिलाने के लिए धमकियों और खतरों की परवाह नहीं की.

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

पुलिस और सुरक्षा बलों ने इलाके को घेरा.

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री से की बात.

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

कश्मीर ज़ोन पुलिस ने बताया घटनास्थलों को खाली कराया गया. तलाशी जारी.

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

राकेश टिकैत ने भी मीडिया से बात की है.

बांग्लादेश: दुर्गा पूजा पंडाल को कट्टरपंथियों ने तहस-नहस किया, मूर्तियां तोड़ीं, 3 लोगों की मौत

बांग्लादेश: दुर्गा पूजा पंडाल को कट्टरपंथियों ने तहस-नहस किया, मूर्तियां तोड़ीं, 3 लोगों की मौत

कुरान को लेकर अफवाह उड़ी और बांग्लादेश के कई हिस्सों में सांप्रदायिक तनाव फैल गया.

आर्यन खान को अब भी नहीं मिली बेल, 20 तारीख तक जेल में ही रहना होगा

आर्यन खान को अब भी नहीं मिली बेल, 20 तारीख तक जेल में ही रहना होगा

जज ने दोनों पक्षों की दलीलें तो सुनी लेकिन अपना फैसला रिज़र्व रख दिया.

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

किसी ने लोन लेकर परिवार को नया घर दिया था तो कोई दिवंगत पिता के शोक में जाने वाला था.

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

पुलिस ने संदिग्ध आतंकी के पास से एके-47, हैंड ग्रेनेड और कई कारतूस मिलने का दावा किया है.