Submit your post

Follow Us

धोनी का 'हेलिकॉप्टर' उड़ा तो सही लेकिन लैंडिंग से जस्ट पहले क्रैश हो गया

310
शेयर्स

महेंद्र सिंह धोनी. मैच फंसा के फिर आखिर में क्रांति करने वाला बल्लेबाज़. कितनी ही बार उन्होंने मैच अकेले दम पर जिताया है. रिक्वायर्ड रन रेट कितना ही हाई हो, अगर धोनी क्रीज़ पर है तो लोगों की उम्मीद बनी रहती है. सबको पता है कि ऊपर-ऊपर शांत लगने वाला ये आदमी आखिर में बम की तरह फटेगा. लेकिन हर बार ये हो ही, ये ज़रूरी तो नहीं. कई बार फिनिशिंग लाइन नहीं पार हो पाती. आखिर धोनी भी इंसान हैं, सुपरमैन थोड़े ही है. ऐसा ही कुछ चेन्नई के पंजाब से हुए मैच में भी हुआ.

15 अप्रैल को चेन्नई सुपरकिंग्स का किंग्स इलेवन पंजाब से मोहाली में मैच हुआ. ये मैच जितना क्रिस गेल की आतिशी पारी के लिए याद किया जाएगा, उतना ही महेंद्र सिंह के काउंटर अटैक के लिए. गेल की दमदार पारी के दम पर पंजाब ने 197 रन बनाए. जब चेन्नई जवाब देने उतरी तो ठीकठाक शुरुआत के बाद लड़खड़ा गई. जब धोनी बैटिंग करने आए तब 58 रन पर तीन विकेट खो चुकी थी चेन्नई. 13 ओवर में 140 रन चाहिए थे. शुरू में धोनी हमेशा की तरह ठंडा खेलें. एक वक़्त ऐसा था जब उन्होंने 30 गेंदें खेल ली थीं और सिर्फ 38 रन बनाए थे. मामला क्रिटिकल हो गया था. तीन ओवर में 55 रन चाहिए थे. यहां से धोनी ने गियर बदला.

dhoni_806x605_61523816787

इन 55 में से 50 रन बना लिए गए. इनमें से 41 रन अकेले धोनी ने बनाए. सिर्फ 14 गेंदों में. ये ख़तरनाक बैटिंग थी. एंड्रयू टाय और मोहित शर्मा के होश उड़ा दिए. बावजूद इसके धोनी अपनी टीम को जिता नहीं पाए. इसका क्रेडिट मोहित शर्मा को दिया जाना चाहिए. आखिरी ओवर में चेन्नई को 17 रन चाहिए थे. जब धोनी सामने हो तो ये कोई ख़ास टार्गेट नहीं होता. सबको उम्मीदें थी कि धोनी ऐसा कर डालेंगे. आखिरी तीन गेंदों पर 11 रन चाहिए थे. ऐसे में जब धोनी के फट पड़ने की उम्मीद थी, मोहित शर्मा ने कमाल की बॉलिंग की. उन्होंने अगली गेंद डॉट फेंकी. शानदार डिलीवरी. वाइड योर्कर इस बॉल को धोनी चाह के भी नहीं खेल सकें. तेज़ बल्ला तो चलाया लेकिन गेंद को छू भी न सके. असल में मैच इसी गेंद पर जीता गया.

अगली गेंद को धोनी ने कवर में मारा तो सही लेकिन डीप पॉइंट पर रोक ली गई. धोनी ने कोई रन नहीं लिया. एक बॉल में ग्यारह रन फिर कहां ही बनते! आखिरी बॉल पर धोनी का मारा छक्का बेकार ही गया. छक्का क्या 44 गेंदों में बनाए शानदार 79 रन बेकार गए. चेन्नई चार रन पीछे रह गई.

धोनी के आखिरी वक़्त तक टिके रहने और आक्रामक मूड में होने के बावजूद टीम मैच हार जाए, तो फैन्स का दिल टूटता ही है. इस मैच में यही हुआ. धोनी का हेलिकॉप्टर ठीक से लैंड न हो पाया. खैर किसी दिन और सही.

देखिए धोनी का हेलिकॉप्टर शॉट:


ये भी पढ़ें:

अपनी चोट के बारे में बात करते हुए धोनी ने जो कहा है, वो सिर्फ धोनी ही कह सकता था

गेल ने निकाला पहली बार न ख़रीदे जाने का गुस्सा, मोहाली में आतंक मचा दिया

बैट्समैन ने चौका मारा लेकिन अश्विन ने उसे फिर भी आउट कर लिया

कोहली ने ये 2 शॉट मारे और सबको मालूम पड़ गया कि कप्तान साहब आज मूड में हैं

वीडियो: जो धोनी के साथ सेल्फी लेने में घबराया था, पहले ही मैच में झंडा बुलंद कर गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
IPL 2018: Mahendra Singh Dhoni failed to win the match for CSK despite crazy inning against KXIP

टॉप खबर

ISIS ने मोसुल में 39 भारतीयों को मार डाला था, जिनके जिंदा होने की उम्मीद सुषमा स्वराज ने बंधाई थी

वहां से भागे एक हिंदुस्तानी ने बताया था कि वो मार डाले गए, लेकिन सरकार ने नहीं माना था.

दिनेश कार्तिक ने 8 गेंदों पर 29 रन कूटे और पूरा प्रेमदासा स्टेडियम नागिन डांस करने लगा

आख़िरी गेंद पर 5 रन चाहिए थे, कार्तिक ने छक्का लगा दिया.

मोदी का स्लोगन #MainBhiChowkidar बैकफायर कर गया

पता है न आप सबको? कहां पता है... नहीं पता है...

कौन है वह आदमी, जिसने न्यूज़ीलैंड की मस्जिदों में हमला किया

बोला, सारे मुसलमानों से नफरत नहीं करता.

किस वजह से मसूद अजहर को बार-बार बचाता है चीन?

दुनिया से बैर लेकर भी क्यों पाकिस्तान और आतंकियों का साथ देता है चीन...

आखिर क्यों क्रैश हो रहे हैं Boeing 737 MAX प्लेन, जिन्हें पूरी दुनिया में बैन किया जा रहा है

बोइंग के इस प्लेन के क्रैश होने से 5 महीनों में कुल 346 लोगों की मौत हो चुकी हैं.

पाकिस्तान से हुई लड़ाई में कैप्टन अमरिंदर का क्या रोल था?

कैप्टन हर जगह 65 की जंग की बात करते हैं. आज बड्डे है. जानते हैं उनसे जुड़े किस्से.

रॉयटर्स के मुताबिक भारत की बालाकोट स्ट्राइक फेल हुई! सैटेलाइट इमेज में क्या दिखा?

एक्सपर्ट के मुताबिक हाई रेजॉल्यूशन फोटो में जैश के मदरसे को कोई साफ नुकसान नहीं दिखता.

IND vs AUS : वो 5 फैक्टर, जिन्होंने भारत को दूसरा वनडे जिता दिया

कोहली तो हैं हीं...मगर असली काम तो बॉलरों ने किया.

किन तीन वजहों से दलित-आदिवासी संगठनों ने 5 मार्च को 'भारत बंद' बुलाया?

चुनाव के माहौल में इनकी नाराज़गी का क्या असर होगा? कोई असर होगा भी कि नहीं होगा...