Submit your post

Follow Us

तीसरे दिन के बाद डेरिल मिचेल ने मयंक की तारीफ में क्या कह दिया?

न्यूज़ीलैंड के ऑलराउंडर डेरिल मिचेल ने मयंक अग्रवाल की जमकर तारीफ की है. डेरिल मिचेल ने कहा है कि मयंक अग्रवाल ने वानखेड़े में जिस तरह बल्लेबाज़ी की वो काबिल-ए-तारीफ़ है. उन्होंने हमारे स्पिनर्स पर दबाव बनाया. और एक टेम्पलेट सेट किया कि स्पिन फ्रेंडली पिच पर दरअसल खेला कैसे जाता है.

गौरतलब है कि मयंक अग्रवाल ने मुंबई टेस्ट की दोनों पारियों में फिफ्टी प्लस स्कोर किया. पहली पारी में शानदार 150 रन बनाए. इसके बाद दूसरी पारी में 62 रन बनाए. शतक बनाने का मौका था. लेकिन एजाज़ पटेल ने विकेट निकालकर मयंक (Mayank Agarwal) की उम्मीदों पर पानी फेर दिया. मयंक पूरे मैच के दौरान एजाज़ पटेल, विलियम समरविल और रचिन रविन्द्र की स्पिन तिकड़ी के सामने काफी सहज दिखे. और बढ़िया बल्लेबाज़ी करते हुए साथी खिलाड़ी के साथ अच्छी साझेदारी भी की.

इसके बाद भारतीय गेंदबाजों ने बाकी का काम पूरा कर दिया. न्यूज़ीलैंड की पहली पारी सिर्फ 62 रन पर ही सिमट गई. हालांकि, दूसरी पारी में न्यूज़ीलैंड की तरफ से डेरिल मिचेल ने अच्छी बल्लेबाजी की. 92 गेंदों का सामना करते हुए 60 रन बनाए और अक्षर पटेल के हाथों कैच आउट हुए.

चौथे दिन का खेल खत्म होने के बाद मिचेल ने कहा,

‘मयंक अग्रवाल ने दोनों पारियों में जिस तरह बल्लेबाज़ी की. वो कमाल था. उन्होंने हमारे स्पिनर्स पर दबाव बनाया. और एक टेम्पलेट सेट किया कि स्पिन फ्रेंडली पिच पर कैसे खेला जाता है. निजी तौर पर मैंने भी मयंक के टेम्पलेट को अपनाया. और उसी की तरह बल्लेबाजी करने की कोशिश की. 

काफी चैलेंजिंग पिच है. गेंद काफी ज्यादा घूम रही थी. लेकिन एक अच्छी साझेदारी हुई. हम लोगों को बस एक रास्ता ढूंढने की जरूरत थी. अपनी स्ट्रेंथ के साथ खेलने की जरूरत थी. ताकि विपक्षी गेंदबाजों पर दबाव बनाया जा सके. आज मैदान पर वक्त बिताना अच्छा लगा.’ 

बता दें कि चौथे दिन का खेल खत्म होने तक न्यूज़ीलैंड ने पांच विकेट खोकर 140 रन बना लिए हैं. क्रीज पर रचिन रविन्द्र और हेनरी निकल्स टिके हुए हैं. हेनरी निकल्स 36 रन बनाकर खेल रहे हैं. जबकि रचिन रविन्द्र दो रन बनाकर निकल्स का साथ दे रहे हैं.  भारत की तरफ से आर अश्विन ने तीन और अक्षर पटेल ने एक विकेट चटकाया. न्यूज़ीलैंड को अगर वानखेड़े फतह करना है तो 400 रन बनाने होंगे.


1983 वर्ल्ड कप में इन पांच के बिना जीत पाना शायद मुश्किल होता

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.