Submit your post

Follow Us

ICC ने सचिन को कहा ये नो बॉल है, सचिन ने जो जवाब दिया वो उनकी कवर ड्राइव से भी अच्छा है

5
शेयर्स

सचिन तेंडुलकर ने चार दिन पहले एक ट्वीट किया. सचिन एक क्रिकेट अकेडमी में पहुंचे थे. वहां नेट्स में बॉलिंग करते दिख रहे थे. ट्वीट में सचिन ने लिखा कि विनोद कांबली के साथ वापस नेट्स में आकर अच्छा लगा. इससे शिवाजी पार्क में बिताए हमारे बचपन के दिन याद आ गए. बहुत कम लोग जानते हैं कि मैं और विनोद बचपन से एक ही टीम के लिए खेले हैं. कभी एक दूसरे की विरोधी टीमों में नहीं.

अब इस पर आईसीसी के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से एक मजेदार ट्वीट किया गया. इस वीडियो में सचिन बॉलिंग करते दिख रहे थे और एक गेंद में पैर लाइन से काफी बाहर था. या यूं कहिए कि दोनों पैर ही बाहर थे. आईसीसी ने सचिन की ये तस्वीर और साथ में अंपायर स्टीव बकनर की नो बॉल वाली तस्वीर लगाकर ट्वीट किया कि अपना फ्रंट फुट देखिए. ये एक फनी ट्वीट था. मगर फिर सचिन ने भी उसी अंदाज में जवाब दिया. कहा,” कम से कम इस समय में बॉलिंग कर रहा हूं. बैटिंग नहीं. अंपायर का निर्णय आखिरी होता है इसलिए ये आउट है.”

यहां सचिन ने अपने उस दर्द को भी जाहिर कर दिया जो बैटिंग करते हुए उनको दिया गया. पूरे करियर में अनेकों बार ऐसा हुआ कि अंपायरों ने सचिन को गलत आउट दिया. कई ऐसे मौके भी आए जब इंडिया की जीत सचिन पर टिकी थी और उन्हें अंपायरों ने गलत आउट कर दिया. तब तो रिव्यू लेने के भी मौके नहीं मिलते थे. मजे की बात तो ये कि जिस अंपायर की तस्वीर यहां आईसीसी ने नो-बॉल का इशारा करते यूज की है वो स्टीव बकनर की है जिनका जन्म ही सचिन को गलत आउट देना था. एक, दो या तीन बार नहीं. अनेकों बार इस अंपायर ने सचिन को गलत आउट दिया था. इसी पर लिखा दी लल्लनटॉप का ये लेख जरूर पढें.


लल्लनटॉप वीडियो भी देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

JNU : जिस समय आइशी घोष को पीटा जा रहा था, उसी वक़्त उन पर FIR हो रही थी

और नक़ाबपोश गुंडों का न कोई नाम, न कोई सुराग

बवाल हुआ तो JNU प्रशासन ने मंत्रालय से कैम्पस को बंद करने की मांग उठा दी

मंत्रालय ने भी ये जवाब दिया.

5 जनवरी की रात तीन बजे तक JNU कैम्पस में क्या-क्या हुआ?

जेएनयू कैम्पस में 5 जनवरी को नकाबपोशों ने स्टूडेंट्स और टीचर्स पर हमला किया.

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

JNU छात्रों पर हमले के बाद VC एम जगदीश कुमार क्या बोले?

नकाबपोश गुंडों ने कैंपस में मारपीट की थी.

जानिए, 5 जनवरी की दोपहर और शाम JNU कैंपस में क्या हुआ?

दो-तीन दिनों से कैंपस में तनाव था. अगले सेमेस्टर के रजिस्ट्रेशन पर स्टूडेंट्स में झड़पों की भी ख़बरें आईं थीं.

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...

CAA Protest : यूपी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाने वालों को पुलिस ने क्यों ब्लॉक किया?

यूपी पुलिस की इस कार्रवाई का क्या मतलब है?