Submit your post

Follow Us

पाकिस्तान की 7 जगहें, जहां हिंदू धर्म की होती है जय

भारत में बने मंदिरों का डंका दो दुनिया भर में बजता है. पर क्या आप उन मंदिरों के बारे में जानते हैं जो हमारे पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में हैं? हिंदू आस्थाओं के प्रतिनिधि कई पुराने मंदिर पाकिस्तान में भी हैं. जानिए इनके बारे में:

1. हिंगलाज मंदिर, बलूचिस्तान: विष्णु भगवान ने सती मां के शव को काटने के लिए चक्र फेंका था. उस चक्र से सती मां का सिर कटकर जहां गिरा था, वही ये है जगह. पाकिस्तान के बलूचिस्तान से 120 किलोमीटर दूर हिंगोल नदी के तट पर बना हिंगलाज मंदिर 51 शक्तिपीठों में से एक है. सदियों पुराने इस मंदिर में लोगों की गहरी आस्था है.

hinglaaj-temple-baluchistan

2. पंचमुखी हनुमान मंदिर, कराची: 1500 साल पुराना हनुमान मंदिर. मान्यता है कि त्रेता युग से यानी करीब 17 लाख साल से पंचमुखी हनुमान जी की मूर्ति यहीं है. मंदिर का पुनर्निमाण साल 1882 में कराया गया था. भीड़ मंदिर में हमेशा हचक कर रहती है.

panchmukhi-hanuman-temple

3. कटसराज मंदिर, चकवाल:  भगवान शिव की पत्नी जब सती हुईं तो महादेव की आंख से गिरे दो आंसू. आंसू को मालूम नहीं था कि किसी जमाने में हो जाएगा बंटवारा. तो एक आंसू गिरा भारत के पुष्कर में और दूसरा गिरा सीधा पाकिस्तानी पंजाब के चकवाल जिले में. बताते हैं कि करीब 900 साल पहले चकवाल में कटसराज मंदिर बनाया गया.

 

Katasraj-temple-chakwal

4. स्वामिनारायण मंदिर, कराची: शहर के बंदर रोड पर है यह मंदिर. 32,306 स्क्वायर यार्ड में बना है. करीब 160 साल पुराने इस मंदिर में हिंदू-मुस्लिम दोनों की आवाजाही रहती है. बंटवारे के वक्त मंदिर का इस्तेमाल रिफ्यूजी कैंप की तरह हुआ. इसी परिसर में एक गुरुनानक गुरुद्वारा भी है और इसी मंदिर से हिंगलाज मंदिर के लिए यात्रा शुरू होती है.

 

shri-swaminarayan-temple
5. मुल्तान सूर्य मंदिर, मुल्तान: रामायण वाले जामवंत ने अपनी बेटी जामवंती की शादी कृष्ण से करवाई थी. जामवंती कृष्ण के बेटे का नाम था- सांब. उन्ही सांब साहेब ने इस मंदिर को बनाया. वजह थी पिता कृष्ण से मिले कोढ़ी होने के श्राप से मुक्ति. 1500 साल पहले मुल्तान के सूर्य मंदिर में टहलने आए चीन के बौद्ध भिक्षु शुयांग ने इसके ब्योरे लिखे थे. मुहम्मज बिन कासिम और मुहम्मद गजनी समेत कई मुस्लिम क्रूर शासकों ने मंदिर को कई बार लूटा. आज भी मंदिर की हालत खस्ता है.

multan-temple-s

6. श्री वरुणदेव मंदिर, कराची: पाकिस्तान सिंध के कराची के मनोरा आईलैंड में बना यह मंदिर 100 साल से ज्यादा पुराना है. श्रीवरुणदेव मंदिर का इस्तेमाल अब हिंदू काउंसिल ऑफ पाकिस्तान के कामों के लिए किया जाता है. कहते हैं 16वीं सदी से मंदिर अस्तित्व में था, लेकिन मौजूदा स्ट्रक्चर 1917-18 का बना हुआ है.

 

shri-varun-dev-temple

7. राम मंदिर, इस्लामकोट: पाकिस्तान का बड़ा राम मंदिर इस्लामकोट में है. भारत में भगवान राम हिंदू बहुसंख्यक आस्था और उस आस्था से पैदा हुई राजनीति के प्रतीक के तौर पर भी देखे जाते हैं. लेकिन पाकिस्तान में बहुत कम राम मंदिर हैं. इस्लामकोट पाकिस्तान की वह जगह है, जहां हिंदुओं और मुसलमानों की  आबादी लगभग एक समान ही है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

कोरोना लॉकडाउन : बस जुलाई में इतने लोगों की नौकरी गई कि सुनकर मूड बिगड़ जाएगा

जून में जितने लोगों को देशभर में नौकरी मिली, जुलाई में उससे 10 लाख ज़्यादा लोगों को निकाल दिया गया.

रिया ने कहा- सुशांत की बहन ने ग़लत हरकतें कीं, तभी उसके परिवार से खटक गई

रिया चक्रवर्ती ने लंबा-चौड़ स्टेटमेंट जारी किया है.

नसीरुद्दीन शाह ने जो 'आधे ज्ञान वाली स्टार' जैसी बात कही थी, उस पर कंगना रनौत ने जवाब दे दिया

नसीरुद्दीन शाह ने बिना नाम लिए कहा था, जवाब कंगना ने दिया है.

क्या है ये वर्चुअल प्रॉडक्शन तकनीक, जिससे इंडिया की पहली फिल्म शूट होने जा रही है?

'अवतार' और 'द लायन किंग' भी इसी तकनीक से शूट हुई थीं.

मुंबई में बिजनेसमैन नमाज पढ़ने गए थे, मस्जिद के बाहर 15 बार चाकू घोंपकर हत्या

दो साल से मिल रही थीं धमकियां. पुलिस को भी बताया था, पर सुनवाई नहीं हुई

कभी कंगना ने ही कहा था करण जौहर पद्मश्री डिज़र्व करते हैं, अब कह रही हैं इनसे ये अवॉर्ड वापस ले लो

कंगना-करण युद्ध का नया अध्याय.

बेंगलुरु के अस्पताल में ख़त्म हुई ऑक्सीजन, रातों-रात शिफ्ट किए गए कोरोना के मरीज़

अस्पताल ने इस मामले पर अपना पक्ष रखा है.

प्रभास की 'आदिपुरुष' का पोस्टर देखकर लोगों को उम्मीद हो रही कि बाहुबली से ज़्यादा कमाल फिल्म होगी

अपनी 22वीं फिल्म का पोस्टर रिलीज़ किया प्रभास ने. कहते हैं फिल्म रामायण पर बेस्ड है.

सचिन तेंडुलकर ने बताया- IPL 2020 से देश में क्या बदलेगा

किसके लिए हमेशा खुले हैं सचिन के दरवाज़ें?

नारायण मूर्ति ने बताया कि धोनी से बिज़नेस लीडर्स क्या सीख सकते हैं?

इंफोसिस और धोनी में क्या समानता है?