Submit your post

Follow Us

दोनों इंजन फेल, फिर भी 3 मिनट तक सरकाया प्लेन

बाहरी दिल्ली का नजफगढ़ इलाका. ‘खैर’ गांव के एक खेत में तेज शोर के साथ एक हवाई जहाज गिरा. गांव वाले दौड़कर पहुंचे तो पता चला कि प्लेन गिरा नहीं, लड़खड़ाते हुए लैंड किया है. इसे क्रैश लैंडिंग कहते हैं. प्लेन में से 7 लोग थे, सातों जिंदा थे. उन्हें मामूली चोटें लगी थीं.

यह प्लेन एक मरीज को लेकर पटना से दिल्ली आ रहा था. पता चला कि प्लेन के दोनों इंजन खराब हो गए थे. लेकिन फिर भी सातों लोगों की जान बच गई. यह इत्तेफाक या चमत्कार नहीं था, प्लेन के पायलटों की सूझबूझ का कमाल था.

हुआ क्या था?

‘बीचकिंग एयर सी-90 ए’ प्लेन पटना से चला था. 61 साल के दिल के मरीज वीरेंद्र राय को दिल्ली लाया जा रहा था. साथ में थे उनके रिश्तेदार जूही और भगवान राय. एक डॉक्टर रूपेश थे. एक टेक्नीशियन थे जंग बहादुर.

और वे दो हीरो थे, जिन्होंने अपनी और इन पांचों की जान बचाई. वे हैं, पायलट अमित कुमार और को-पायलट रोहित सिंह. टेक-ऑफ के 10 मिनट बाद ही प्लेन में गड़बड़ शुरू गई थी. दिल्ली पहुंचते-पहुंचते ये तय हो गया कि प्लेन की नॉर्मल लैंडिंग नहीं हो सकेगी. हालात मरने या जीने के हो गए थे. ये वो समय होता है जब दिमाग की नसें सुन्न हो जाती हैं. लेकिन नौजवान पायलटों ने धीरज नहीं खोया.

 बिना इंजन सपोर्ट के 3 मिनट तक कंट्रोल किया 

चैलेंज ये था कि प्लेन को जल्दी लैंड कराना था, लेकिन रिहाइशी इलाकों में उतार नहीं सकते थे. राजधानी के आसमान में हवा का रुख भी पलटने लगा था. प्लेन नीचे गिरने लगा था. अमित और रोहित ने तय किया कि वे दिल्ली के गुड़गांव-द्वारका साइड की तरफ प्लेन उतारेंगे, जहां अब भी खेत वाले इलाके हैं. दोनों इंजन फेल होने के बावजूद वे करीब 3 मिनट तक प्लेन को हवा में सरकाते रहे और हरियाणा बॉर्डर से सटे नजफगढ़ के खैर गांव के एक खाली खेत में इसे उतार दिया. सबकी जान बच गई.

27 साल पुराना यह प्लेन TMC सांसद केडी सिंह की कंपनी एल्केमिस्ट एयरवेज का था. सूत्रों के मुताबिक, नवंबर में इस एयरक्राफ्ट ऑपरेटर का परमिट एक्सपायर हो रहा था. पायलटों ने इसे जिस तरह से उतारा, प्लेन को बहुत कम नुकसान हुआ है.

मई 2011 में, हरियाणा के फरीदाबाद में एक एयर एंबुलेंस प्लेन क्रैश हो गया था. प्लेन में सवार सभी 10 लोगों की मौत हो गई थी. यह प्लेन भी पटना से दिल्ली आ रहा था.

एक्सपर्ट मानते हैं कि ऊबड़-खाबड़ जमीन पर प्लेन को लैंड कराने में हुनर लगता है. वरना यह बहुत खतरनाक साबित हो सकता है. लेकिन अमित और रोहित ने यह कर दिखाया. खबर मिलने पर जब दिल्ली पुलिस के अफसर वहां पहुंचे तो उन्होंने दोनों पायलटों की खूब तारीफ की.

साउथवेस्ट दिल्ली के डीसीपी सुरेंद्र कुमार ने कहा, ‘सब लोग ठीक-ठाक थे और वहां के लोकल लोग पायलटों की तारीफ कर रहे थे. उन्होंने 5 लोगों की जान बचाई, जिसकी तारीफ की ही जानी चाहिए.’

पायलट अमित, अपनी बेटी के साथ
पायलट अमित, अपनी बेटी के साथ

अमित मुंबई में बीवी और चार साल की बच्ची के साथ रहते हैं. रोहित हाल ही में पायलट बने हैं. दिलचस्प बात है कि घटना से पहले तक अमित का whatsapp स्टेटस था, ‘परफेक्ट हालात का इंतजार मत करो. अपना रास्ता खुद बनाओ.’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

लॉकडाउन: 69 लाख लोगों ने नौकरी मांगी, आत्मनिर्भर भारत वाली वेबसाइट से मिली महज़ 7,700 लोगों को

भारत में अप्रैल से लेकर जुलाई के बीतने तक संगठित और असंगठित क्षेत्र मिलाकर कुल 26 करोड़ लोगों की नौकरी जा चुकी है.

अज़हर अली बिना आउट हुए पूरा दिन खेलते रहे लेकिन पाकिस्तान का काम नहीं बना!

न बैटिंग की न बोलिंग, फिर भी बटलर ही बटलर क्यों हो रहा है!

सौरव गांगुली ने बताई धोनी को नंबर 3 पर भेजने की वजह

इस वजह में है सचिन का भी रोल.

MP: परिवार के पांच सदस्यों के शव फांसी पर लटके मिले, पुलिस हत्या और आत्महत्या में उलझी

बहू की नस कटी मिली, बाकी के शरीर पर चोट के निशान.

क्या 23 नेताओं के लेटर के बाद सोनिया गांधी अध्यक्ष पद छोड़ने जा रही हैं?

रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा इस बारे में क्या कहा?

पूर्व CJI रंजन गोगोई ने असम में बीजेपी के मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवारी पर क्या कहा?

असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने कहा था कि वो बीजेपी के सीएम उम्मीदवार हो सकते हैं.

ICC ने जैक कैलिस, ज़हीर अब्बास और लीसा स्थालेकर को दिया बड़ा सम्मान!

जानें इस लिस्ट में शामिल होने वाले छह इंडियन क्रिकेटर्स कौन-कौन हैं

दिल्ली से गिरफ्तार ‘आईएस आतंकी’ की पत्नी और माता-पिता सरकार से क्या मांग रहे हैं?

21 अगस्त की रात दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार किया था.

रोहित शर्मा और धोनी फैंस की हरकत देख सहवाग बोल पड़े- ये अलग लेवल के पागल हैं

'इनका अलग ही IPL चल रहा है.'

महात्मा गांधी के जिस चश्मे को मालिक फेंकने की बात कर रहा था, वो करोड़ों में बिका!

50 साल तक यह चश्मा ड्रॉवर के अंदर पड़ा रहा.